Budhimaan

Home » Quotes » Rajendra Prasad Quotes (राजेंद्र प्रसाद के कोट्स)

Rajendra Prasad Quotes (राजेंद्र प्रसाद के कोट्स)

डॉ. राजेंद्र प्रसाद, भारत के पहले राष्ट्रपति, केवल एक राजनीतिक नेता ही नहीं बल्कि एक स्वतंत्रता सेनानी भी थे जिन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनके सामाजिक न्याय पर विचार गहरे थे और आज भी हमें प्रेरित करते हैं।

राजेंद्र प्रसाद सामाजिक न्याय का प्रकाश स्तम्भ

  • “सभी काम का उद्देश्य उत्पादन या सम्पादन होता है और इन दोनों लक्ष्यों के लिए, विचारशीलता, व्यवस्था, योजना, बुद्धिमत्ता, और ईमानदार उद्देश्य, साथ ही पसीना भी होना चाहिए। केवल करने का दिखावा करना वास्तविक कार्य नहीं होता।”राजेंद्र प्रसाद 1
    यह उद्धरण किसी भी काम में योजना, बुद्धिमत्ता, और ईमानदार उद्देश्य के महत्व को महसूस कराता है। प्रसाद यह मानते थे कि केवल कार्य करने से बिना सोचे और उद्देश्य के सम्पादन की ओर नहीं बढ़ा जा सकता। यह विचार सामाजिक न्याय पर भी लागू होता है। सामाजिक न्याय प्राप्त करने के लिए, केवल कार्य करना ही पर्याप्त नहीं है; इसके लिए एक सुविचारित योजना, सामाजिक मुद्दों की जटिलताओं को समझने की बुद्धि, और परिवर्तन लाने के लिए ईमानदार उद्देश्य होना चाहिए।
  • “हमें अपने समाज से अमानवीय और अपमानजनक रीति-रिवाजों और प्रथाओं को नहीं सिर्फ लड़ने और समाप्त करने की आवश्यकता है, बल्कि हर किसी को अपनी आजीविका कमाने का समान अवसर भी सुनिश्चित करना होगा।” – राजेंद्र प्रसाद 2
    इस उद्धरण में, प्रसाद समाज से अमानवीय और अपमानजनक रीति-रिवाजों और प्रथाओं को समाप्त करने की आवश्यकता पर जोर देते हैं। वह यह भी बताते हैं कि हर किसी को अपनी आजीविका कमाने के लिए समान अवसर प्रदान करने की महत्वता। यह उद्धरण उनके समानता और सामाजिक न्याय में विश्वास को दर्शाता है। वह मानते थे कि एक समाज केवल हानिकारक प्रथाओं को समाप्त करके ही न्यायपूर्ण नहीं हो सकता, बल्कि इसके सदस्यों के लिए समान अवसर सुनिश्चित करना भी चाहिए।

राजेंद्र प्रसाद के विचार सामाजिक न्याय पर

  • “देशभक्ति हमसे यह मांगती है कि हम असमानता को दूर करें और एक-दूसरे से प्यार करें।” – राजेंद्र प्रसाद 3
    यह उद्धरण प्रसाद के समानता और एकता में विश्वास को दर्शाता है। उन्होंने माना कि देशभक्ति की सच्ची सार्थकता सिर्फ अपने देश के लिए लड़ने में ही नहीं होती, बल्कि उसके नागरिकों के बीच समानता सुनिश्चित करने और प्यार पैदा करने में भी होती है। यह विचार उनके स्वतंत्रता संग्राम के दौरान लोगों को एकजुट करने के उनके अथक प्रयासों के पीछे का प्रमुख बल था।
  • “हमें स्वतंत्र भारत का उच्चकोटि महल बनाना है जहां उसके सभी बच्चे रह सकें।” – राजेंद्र प्रसाद4
    यह उद्धरण प्रसाद के भारत की स्वतंत्रता की पूर्व संध्या पर दिए गए भाषण से लिया गया है। यह उनके एक स्वतंत्र भारत के लिए दृष्टि को दर्शाता है जहां सभी नागरिक, उनकी जाति, धर्म, या सामाजिक स्थिति के बावजूद, स्वतंत्रता से जी सकें। यह दृष्टि स्वतंत्रता संग्राम के दौरान उनके कार्यों को मार्गदर्शन दी, और भारत के राष्ट्रपति के रूप में उनके कार्यकाल को निर्देशित की।
  • “जैसा कि मैं सत्याग्रह को समझता हूं, यह मजबूत लोगों का हथियार है; यह किसी भी परिस्थिति में हिंसा की अनुमति नहीं देता; और यह सदैव सत्य पर जोर देता है।”- राजेंद्र प्रसाद 5
    इस उद्धरण में, प्रसाद महात्मा गांधी द्वारा प्रस्तुत गैरहिंसात्मक प्रतिरोध के रूप में सत्याग्रह के बारे में बात करते हैं। प्रसाद इस विधि के मजबूत समर्थक थे। उन्होंने माना कि सत्याग्रह कमजोरों के लिए नहीं, बल्कि मजबूतों के लिए एक उपकरण है, क्योंकि इसमें हिंसा का प्रतिरोध करने और विपत्ति के सामने भी सत्य को कायम रखने की अत्यधिक साहसिकता की आवश्यकता होती है।

राजेंद्र प्रसाद के विचारों का समाज पर प्रभाव

  • “राज्य सिर्फ एक निगमीय इकाई नहीं होती, बल्कि एक जीवित संगठन होती है। इसकी अपनी आत्मा, मन और व्यक्तित्व होता है।” डॉ. राजेंद्र प्रसाद6
    यह उद्धरण प्रसाद के राज्य की जैविक प्रकृति में विश्वास को दर्शाता है। उन्होंने इसे अपनी चेतना और व्यक्तित्व के साथ एक जीवित संगठन के रूप में देखा, न कि केवल एक प्रशासनिक संरचना। यह दृष्टिकोण राज्य को सतर्कता और सम्मान के साथ पालन और विकास करने की महत्वता को रेखांकित करता है, ठीक वैसे ही जैसे एक जीवित संगठन।
  • “लोकतंत्र की सारांश है, संक्षेप में, व्यक्ति की स्वतंत्रता, और वह भूमिका जिसे उसे समुदाय की जीवन और कार्य में निभाने के लिए कहा जाता है।” – राजेंद्र प्रसाद 7
    यह उद्धरण प्रसाद के व्यक्तिगत स्वतंत्रता की शक्ति और लोकतांत्रिक समाज में इसकी भूमिका में विश्वास को संक्षेपित करता है। उन्होंने यह माना कि प्रत्येक व्यक्ति का समुदाय में महत्वपूर्ण योगदान होता है, और यह इन व्यक्तियों के सामूहिक प्रयासों के माध्यम से ही होता है कि एक समुदाय, और उसके विस्तार से, एक राष्ट्र, समृद्ध होता है।
  • “एक राष्ट्र की प्रगति के लिए पहली आवश्यकता समाज के विभागों के बीच भाईचारा और एकता है।” – राजेंद्र प्रसाद8
    यह उद्धरण समाज की प्रगति के लिए एकता और भाईचारे की महत्वता को रेखांकित करता है। प्रसाद ने माना कि एक राष्ट्र तभी प्रगति कर सकता है, जब सभी इसके विभाग समानता, अपनी जाति, पंथ, या धर्म के बावजूद, मिलकर काम करते हैं। यह विचार आज के समय में विशेष रूप से प्रासंगिक है, जब दुनिया विभाजनकारी शक्तियों से जूझ रही है।

राजेंद्र प्रसाद के विचार राष्ट्रीय नेतृत्व पर

  • “एक नेता की पहली आवश्यकता यह होती है कि उसे स्पष्ट रूप से देखना चाहिए कि वह क्या प्राप्त करना चाहता है और दूसरों को इस दृष्टि को संचारित करने की क्षमता।”- “डॉ. राजेंद्र प्रसाद9
    यह उद्धरण प्रसाद के नेतृत्व में दृष्टि के महत्व पर विश्वास को संक्षेप में दर्शाता है। उन्होंने माना कि एक नेता को अपने लक्ष्यों की स्पष्ट समझ और इन लक्ष्यों को अपने अनुयायियों के साथ प्रभावी रूप से संचारित करने की क्षमता होनी चाहिए। यह विश्वास उनके अपने नेतृत्व शैली में प्रतिबिंबित होता था, क्योंकि वे स्वतंत्र और लोकतांत्रिक भारत की स्पष्ट दृष्टि और दूसरों को इस दृष्टि की ओर काम करने के लिए प्रेरित करने की क्षमता के लिए जाने जाते थे।
  • “एक नेता को लोगों का सेवक होना चाहिए, उनका स्वामी नहीं। वह उदाहरण द्वारा नेतृत्व करना चाहिए, न कि बल द्वारा।” – “राजेंद्र प्रसाद”10
    इस उद्धरण में, प्रसाद ने सेवक नेतृत्व के महत्व को महत्व दिया। उन्होंने माना कि एक नेता को उन लोगों की सेवा करनी चाहिए जिन्हें वे नेतृत्व करते हैं, बजाय उन पर शासन करने के। यह विश्वास उनके अपने नेतृत्व शैली में प्रतिबिंबित होता था, क्योंकि वे अपनी विनम्रता और भारतीय लोगों की सेवा करने के प्रति समर्पण के लिए जाने जाते थे। उन्होंने उदाहरण द्वारा नेतृत्व किया, अपने कार्यों में ईमानदारी, अखंडता, और निःस्वार्थता के मूल्यों को दिखाते हुए।
  • “एक नेता को उसे साहस होना चाहिए कि वह अप्रिय निर्णय ले, यदि वे राष्ट्र के हित में हैं।” – राजेंद्र प्रसाद”11
    यह उद्धरण प्रसाद के नेतृत्व में साहस के महत्व पर विश्वास को दर्शाता है। उन्होंने माना कि एक नेता को कठिन निर्णय लेने का साहस होना चाहिए, भले ही वे अप्रिय हों, यदि वे राष्ट्र के सर्वोत्तम हित में हैं। यह विश्वास उनके अपने नेतृत्व शैली में प्रतिबिंबित होता था, क्योंकि वे ब्रिटिश उपनिवेशी अधिकारियों के खिलाफ खड़े होने और भारत की स्वतंत्रता के पक्ष में वकालत करने के लिए अपने साहस के लिए जाने जाते थे।

राजेंद्र प्रसाद के विचार भारतीय गणराज्य के निर्माण पर

  • “देश के प्रति वफादारी सभी अन्य वफादारियों से आगे होती है। और यह एक पूर्ण वफादारी है क्योंकि इसे हम व्यक्ति के प्राप्त होने वाले लाभों के आधार पर नहीं तौल सकते।” – राजेंद्र प्रसाद12
    यह उद्धरण प्रसाद की देश के प्रति अडिग समर्पण को दर्शाता है। उन्होंने यह माना कि अपने देश के प्रति वफादारी सर्वोत्तम और अपरिवर्तनीय होनी चाहिए। इसे व्यक्तिगत लाभ या फायदों के आधार पर नहीं मापा जाना चाहिए। यह विचार भारतीय गणराज्य के आकारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाला था, जो देशभक्ति और राष्ट्रीय वफादारी को सबसे ऊपर रखता है।
  • “हमारे आदर्शों को प्राप्त करने में, हमारे साधन उत्तम होने चाहिए।” – राजेंद्र प्रसाद 13
    प्रसाद गांधीवादी सिद्धांत के ‘साधन उत्तम होने चाहिए’ में दृढ़ विश्वासी थे। उन्होंने यह माना कि हमारे लक्ष्यों को प्राप्त करने का मार्ग उत्तम और नैतिक होना चाहिए। यह विचार भारतीय गणराज्य के गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाला था, जो न्याय, स्वतंत्रता, समानता, और भाईचारे के सिद्धांतों का पालन करता है।
  • “एक राज्य केवल एक निगमीय इकाई नहीं होती, बल्कि एक जीवित संगठन होती है। इसकी अपनी एक आत्मा, एक मन और व्यक्तित्व होता है, और वह व्यक्तित्व उन नागरिकों के मन और आत्मा द्वारा प्रभावित होता है जो इसे गठित करते हैं।” – राजेंद्र प्रसाद14
    इस उद्धरण में, प्रसाद नागरिकों के महत्व को बताते हैं। उन्होंने यह माना कि एक राज्य सिर्फ एक राजनीतिक इकाई नहीं होती, बल्कि एक जीवित संगठन होती है जिसे उसके नागरिकों के विचार, विश्वास, और कार्यों द्वारा आकार दिया जाता है। यह विचार भारतीय गणराज्य की लोकतांत्रिक प्रकृति में प्रतिबिंबित होता है, जहां हर नागरिक का देश के आकारण में भूमिका होती है।
  • “हमें एक ऐसा महल बनाना है जहां सभी भारतीय बच्चे रह सकें।” – राजेंद्र प्रसाद15
    यह उद्धरण प्रसाद के एक स्वतंत्र भारत के दृष्टिकोण को दर्शाता है जहां सभी नागरिक, उनकी जाति, धर्म, धर्म, या लिंग के बावजूद, सामंजस्य में रहते हैं। यह विचार भारतीय संविधान में संरक्षित है, जो सभी नागरिकों को समानता की गारंटी देता है।

राजेंद्र प्रसाद के दृष्टिकोण भारतीय संस्कृति पर

  • “हमारे आदर्शों को प्राप्त करने में, हमारे साधन अंत की तरह शुद्ध होने चाहिए।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद16
    यह उद्धरण प्रसाद के इस विश्वास को दर्शाता है कि किसी भी लक्ष्य की प्राप्ति में सत्यनिष्ठा और धर्मनिष्ठा का महत्व होता है। उन्होंने माना कि एक लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए उपयोग किए गए साधन उत्तरदायी ही नहीं होते, बल्कि वे अंतिम लक्ष्य के बराबर महत्वपूर्ण होते हैं। यह दृष्टिकोण भारतीय संस्कृति में गहराई से जड़ा हुआ है, जो धर्म (धर्मनिष्ठा) और कर्म (कार्य) की महत्ता को मानती है।
  • “भारत को ब्रिटिश से, न कि पश्चिमी संस्कृति से मुक्त होने की जरूरत है।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद17
    प्रसाद भारतीय स्वतंत्रता के कट्टर समर्थक थे, लेकिन उन्होंने अन्य संस्कृतियों से सीखने की महत्ता को भी मान्यता दी। उन्होंने माना कि जबकि भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्त होने की जरूरत है, इसका मतलब यह नहीं है कि वह पश्चिमी संस्कृति को पूरी तरह से खारिज कर दे। यह उद्धरण उनके संस्कृतिक आदान-प्रदान पर संतुलित दृष्टिकोण को और सभी स्रोतों से सीखने के महत्व में उनके विश्वास को दर्शाता है।
  • “हमारी संस्कृति आध्यात्मिक मूल्यों का खजाना है, न कि बाहर से देखने के लिए संग्रहालय का टुकड़ा।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद18
    प्रसाद ने भारतीय संस्कृति को एक जीवंत, सांस लेने वाली वस्तु के रूप में देखा, जो आध्यात्मिक मूल्यों से भरपूर है। उन्होंने माना कि यह केवल दूर से देखने और प्रशंसा करने की वस्तु नहीं है, बल्कि इसे जीना और अनुभव करना चाहिए। यह उद्धरण उनकी भारतीय संस्कृति के प्रति गहरी सम्मान और उसके निहित मूल्य में उनके विश्वास को दर्शाता है।
  • “एक स्थिर सरकार की जड़ें शासक की ताकत में नहीं, बल्कि जनता की ताकत में होती हैं।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद19
    यह उद्धरण प्रसाद के जनता की शक्ति और लोकतंत्र के महत्व में उनके विश्वास को दर्शाता है। उन्होंने माना कि एक सरकार की स्थिरता और शक्ति उसके शासक से नहीं, बल्कि उसकी जनता से आती है। यह दृष्टिकोण भारतीय संस्कृति में गहराई से जड़ा हुआ है, जो सामूहिक शक्ति और एकता की महत्ता को मानती है।

राजेंद्र प्रसाद के विचारों का आज की पीढ़ी पर प्रभाव

  • “आप अपने बच्चों को दे सकते हैं सबसे बड़ी उपहार जिम्मेदारी की जड़ें और स्वतंत्रता की पंख।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद20
    यह उद्धरण, उनके एक भाषण से लिया गया है, प्रसाद के युवा पीढ़ी में जिम्मेदारी और स्वतंत्रता की भावना को बोने के महत्व पर विश्वास को संक्षेपित करता है। उन्होंने माना कि ये दो गुण एक मजबूत, आत्मनिर्भर राष्ट्र की नींव हैं। आज, जब हम 21वीं सदी की जटिलताओं को समझने का प्रयास कर रहे हैं, तो उनके शब्द हमें जिम्मेदार, स्वतंत्र व्यक्तियों की परवरिश के महत्व की याद दिलाते हैं, जो समाज में सकारात्मक योगदान कर सकते हैं।
  • “हमारे आदर्शों को प्राप्त करते समय, हमारे साधन उत्तम होने चाहिए।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद21
    यह उद्धरण, उनकी पुस्तक ‘इंडिया डिवाइडेड’ से, प्रसाद के सत्यनिष्ठा और नैतिक आचरण के महत्व पर विश्वास को दर्शाता है। वे ‘साधन उत्तम होने चाहिए’ के गांधीवादी सिद्धांत में दृढ़ विश्वासी थे। आज की दुनिया में, जहां सफलता की खोज अक्सर नैतिक आचरण के महत्व को छावनी में छोड़ देती है, प्रसाद के शब्द हमें अपने कार्यों में सत्यनिष्ठा बनाए रखने की महत्व की याद दिलाते हैं।
  • “राज्य सिर्फ एक निगमीय इकाई नहीं होती, बल्कि एक जीवित जीव होती है।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद 22
    यह उद्धरण, उनकी पुस्तक ‘आत्मकथा’ से, प्रसाद के राज्य को एक जीवित, विकासशील संस्था के रूप में देखने के दृष्टिकोण को उजागर करता है। उन्होंने माना कि एक जीवित जीव की तरह, एक राज्य भी समय के साथ बढ़ता, विकसित होता, और बदलता है। यह दृष्टिकोण आज विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, जब हम वैश्वीकरण, जलवायु परिवर्तन, और सामाजिक असमानता की चुनौतियों से जूझ रहे हैं। यह हमें याद दिलाता है कि हमारे आज के कार्य हमारे राज्य और हमारे राष्ट्र के भविष्य को आकार देंगे।
  • “हमें स्वतंत्र भारत का उदार महल बनाना होगा जहां सभी उसके बच्चे रह सकें।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद
    यह उद्धरण, भारत के राष्ट्रपति के रूप में उनके प्रारंभिक भाषण से, प्रसाद के एक स्वतंत्र, समावेशी भारत के सपने को दर्शाता है। उन्होंने हर नागरिक, उनकी जाति, धर्म, या सामाजिक-आर्थिक स्थिति के बावजूद, समृद्ध होने का अवसर पाने वाले एक राष्ट्र की स्थापना के महत्व पर विश्वास किया। आज, जब हम एक अधिक समावेशी समाज की स्थापना का प्रयास कर रहे हैं, तो उनके शब्द हमारे लिए एक मार्गदर्शक प्रकाश का कार्य करते हैं।
  • “कानून और वकील, सार्वजनिक राय की जांच करने के बजाय, इसके सबसे प्रबुद्ध नेता होने चाहिए।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद23
    यह उद्धरण प्रसाद के कानून की शक्ति और वकीलों की जिम्मेदारी में विश्वास को दर्शाता है। उन्होंने यह माना कि वकीलों को केवल कानून की व्याख्या नहीं करनी चाहिए, बल्कि उन्हें न्याय और निष्पक्षता की ओर सार्वजनिक राय को भी मार्गदर्शन करना चाहिए। यह दृष्टिकोण स्वतंत्रता संग्राम में उनकी सक्रिय भागीदारी के पीछे का प्रमुख बल था, जहां उन्होंने अपनी कानूनी विशेषज्ञता का उपयोग करके दमनकारी ब्रिटिश कानूनों को चुनौती दी।
  • “हमें एक ऐसा महान भवन बनाना है जहां स्वतंत्र भारत के सभी बच्चे रह सकें।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद24
    इस उद्धरण में, प्रसाद एक स्वतंत्र और समावेशी भारत बनाने की महत्वकांक्षा को बल देते हैं। उनका संदर्भ किया गया ‘महान भवन’ एक मेटाफ़र है एक ऐसे राष्ट्र के लिए जहां हर नागरिक को समान अधिकार और स्वतंत्रताएं प्राप्त होती हैं। यह दृष्टिकोण भारतीय संविधान को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने में सहायक था, जो सभी नागरिकों को मौलिक अधिकार प्रदान करता है।
  • “हमारा संविधान तैयार किया गया है…ताकि सभी नागरिकों को न्याय, स्वतंत्रता, समानता प्रदान कर सके और सभी के बीच बंधुत्व बढ़ा सके।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद25
    यह उद्धरण प्रसाद के भाषण से है, जिसे भारतीय संविधान को अपनाया गया था। यह उनके विश्वास को संक्षेप में दर्शाता है कि कानून एक उपकरण के रूप में सभी नागरिकों के लिए न्याय, स्वतंत्रता, और समानता सुनिश्चित करने में। राष्ट्रपति के रूप में, प्रसाद ने इन संविधानीय मूल्यों को बनाए रखने और उनके कार्यान्वयन को सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  • “हमारे गणतंत्र में एक अच्छे नागरिक की पहली आवश्यकता यह है कि वह अपने आप को समर्थ और इच्छुक होना चाहिए।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद26
    इस उद्धरण में, प्रसाद कानून और व्यवस्था को बनाए रखने में व्यक्तिगत जिम्मेदारी की महत्वता पर जोर देते हैं। उन्होंने यह माना कि हर नागरिक का कानून के नियम को बनाए रखने में एक भूमिका होती है, और यह विश्वास उनके राष्ट्रपति पद के दौरान नागरिक जिम्मेदारी को बढ़ावा देने के प्रयासों में प्रतिबिंबित होता था।

राजेंद्र प्रसाद के विचार शिक्षा पर

  • “शिक्षा एक साधन है जिसके द्वारा व्यक्ति एक अच्छी जीवन व्यतीत कर सकता है। दूसरे शब्दों में, यह एक अच्छे जीवन का साधन है। अच्छा जीवन का मतलब सिर्फ अच्छा भोजन, कपड़े, और आश्रय नहीं होता। ये काफी नहीं हैं। अच्छा जीवन का मतलब दूसरों के साथ खुशी और सामंजस्य से जीना है।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद27
    इस उद्धरण में, डॉ. प्रसाद शिक्षा के महत्व को सिर्फ मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति के अलावा जोर देते हैं। उन्हें विश्वास है कि शिक्षा एक पूर्ण जीवन की कुंजी है, जो सिर्फ सामग्री सुविधाओं के बारे में नहीं है, बल्कि दूसरों के साथ सामंजस्य में जीने के बारे में भी है। यह उनके शिक्षा के दृष्टिकोण को दर्शाता है जैसे कि व्यक्तिगत विकास और सामाजिक समाह्वय के लिए एक उपकरण।
  • “शिक्षा का अंतिम उत्पाद एक स्वतंत्र रचनात्मक व्यक्ति होना चाहिए, जो ऐतिहासिक परिस्थितियों और प्रकृति की विपरीतताओं के खिलाफ संघर्ष कर सके।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद28
    यहां, डॉ. प्रसाद शिक्षा का अंतिम लक्ष्य उभारते हैं। उन्होंने इसे एक प्रक्रिया के रूप में देखा, जो एक व्यक्ति में सृजनात्मकता और स्वतंत्रता को बढ़ावा देनी चाहिए, जिससे वे किसी भी चुनौतियों, चाहे वह सामाजिक हो या प्राकृतिक, को पार कर सकें। यह उद्धरण उनके शिक्षा की परिवर्तनशील शक्ति में विश्वास को जोर देता है।
  • “शिक्षा हमारे समाज में एक महान समानता का साधन होनी चाहिए। यह हमारे विभिन्न सामाजिक प्रणालियों ने पिछले हजारों वर्षों में उत्पन्न किए गए अंतरों को समान करने का उपकरण होना चाहिए।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद29
    इस प्रभावशाली उद्धरण में, डॉ. प्रसाद शिक्षा को सामाजिक समानता के लिए एक शक्तिशाली उपकरण के रूप में देखते हैं। उन्होंने गहराई से जड़े सामाजिक असमानताओं को मान्यता दी और शिक्षा को इन गड़ों को पार करने का साधन मानते हैं। यह उनके एक समान समाज के दृष्टिकोण को दर्शाता है जहां शिक्षा सामाजिक न्याय सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
  • “अगर हम लोकतंत्र को सफल बनाना चाहते हैं, तो हमें हमारी माताओं को शिक्षित करना होगा।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद30
    इस उद्धरण में डॉ. प्रसाद का महिलाओं की शिक्षा पर जोर देना ध्यान देने योग्य है। उन्होंने लोकतंत्र की सफलता को माताओं की शिक्षा से जोड़ा, जिससे महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका को उभारा जाता है जो एक लोकतांत्रिक समाज को आकार देती है। यह उद्धरण उनकी प्रगतिशील सोच और शिक्षित महिलाओं की राष्ट्र निर्माण में शक्ति में उनके विश्वास का प्रमाण है।

राजेंद्र प्रसाद का राजनीतिक दर्शन और विचार

  • “लोकतंत्र की सारांश है, संक्षेप में, व्यक्तिगत स्वतंत्रता पर सरकारी नियंत्रण की अनुपस्थिति।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद31
    डॉ. प्रसाद लोकतंत्र के मूल सिद्धांतों में विश्वास करते थे, जहां सरकार व्यक्तिगत स्वतंत्रता पर नियंत्रण नहीं करती है। उन्होंने बल दिया कि लोकतंत्र की सारांश व्यक्तियों की स्वतंत्रता में ही है जो अपने विचारों को व्यक्त करने, चुनाव करने, और अपने जीवन को बिना सरकार के अनुचित हस्तक्षेप के जीने की आजादी होती है। यह उद्धरण उनके व्यक्तिगत स्वतंत्रता और स्वतंत्रता के महत्व पर उनके विश्वास को दर्शाता है।
  • “हमारी पीढ़ी के सबसे महान पुरुषों की महत्वाकांक्षा हर आँख से हर आंसू पोंछने की रही है। यह हमसे बाहर हो सकता है, लेकिन जब तक आंसू और पीड़ा है, तब तक हमारा काम समाप्त नहीं होगा।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद32
    यह उद्धरण डॉ. प्रसाद की लोगों की पीड़ा के प्रति गहरी सहानुभूति और उसे दूर करने के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है। वह मानते थे कि हालांकि सभी पीड़ा को समाप्त करना संभव नहीं हो सकता, लेकिन इस लक्ष्य की ओर काम करना कभी नहीं रुकना चाहिए। यह उद्धरण उनकी जनसेवा के प्रति समर्पण और एक सहानुभूतिपूर्ण और सहायक समाज के प्रति उनके दृष्टिकोण को महत्व देता है।
  • “हमें स्वतंत्र भारत का उच्चकोटि का महल बनाना है जहां उसके सभी बच्चे रह सकें।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद33
    डॉ. प्रसाद का भारत के लिए दृष्टिकोण एकता और समावेशिता का था। उन्होंने एक ऐसे राष्ट्र का निर्माण करने में विश्वास किया जहां सभी नागरिक, उनकी जाति, धर्म, या सामाजिक-आर्थिक स्थिति के बावजूद, स्वतंत्रता और समानता से जी सकें। यह उद्धरण एक समावेशी और समान समाज के निर्माण के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को दर्शाता है।
  • “राज्य केवल एक निगमीय इकाई नहीं होती बल्कि एक जीवित संगठन होती है।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद34
    डॉ. प्रसाद ने राज्य को केवल प्रशासनिक या राजनीतिक इकाई के रूप में नहीं देखा, बल्कि एक जीवित संगठन के रूप में देखा, जिसमें उसके लोग, उनकी आकांक्षाएं, और उनकी सामूहिक इच्छा शामिल होती है। उन्होंने यह माना कि राज्य को अपने लोगों की जरूरतों और आकांक्षाओं के प्रति संवेदनशील होना चाहिए, और उसकी नीतियां और कार्रवाई उनकी सामूहिक इच्छा को दर्शानी चाहिए।
  • “हमारा उद्देश्य अंतरिक शांति, और बाहरी शांति होनी चाहिए। हम शांतिपूर्वक जीना चाहते हैं और हमारे निकटतम पड़ोसियों और विश्व व्यापी साथ दोस्ताना संबंध बनाए रखना चाहते हैं।” – डॉ. राजेंद्र प्रसाद35
    डॉ. प्रसाद शांति और सद्भाव के सिद्धांतों में विश्वास करते थे, देश के अंदर और बाकी दुनिया के साथ भी। उन्होंने सभी राष्ट्रों के साथ शांतिपूर्वक सहजीवन और मित्रतापूर्ण संबंधों की वकालत की। यह उद्धरण उनके दृष्टिकोण को दर्शाता है जिसमें वह भारत को एक शांत और सद्भावनापूर्ण राष्ट्र के रूप में देखते थे, जो सभी देशों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है।

संदर्भ:

  1. “डॉ. राजेंद्र प्रसाद, पत्राचार और चयनित दस्तावेज़” ↩︎
  2. “डॉ. राजेंद्र प्रसाद के भाषण ↩︎
  3. “डॉ. राजेंद्र प्रसाद, पत्राचार और चयनित दस्तावेज़, खंड सत्रह” ↩︎
  4. “स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर भाषण, 1947” ↩︎
  5. “चंपारण में सत्याग्रह” ↩︎
  6. “डॉ. राजेंद्र प्रसाद, पत्राचार और चयनित दस्तावेज़, खंड पंद्रह”. एलायड पब्लिशर्स, 1984। ↩︎
  7. “भारत विभाजित”. पेंगुइन बुक्स इंडिया, 1946। ↩︎
  8. “आत्मकथा”. राजकमल प्रकाशन, 1946। ↩︎
  9. “डॉ. राजेंद्र प्रसाद, पत्राचार और चयनित दस्तावेज़, खंड सत्रह।” एलायड पब्लिशर्स, 1984। ↩︎
  10. “आत्मकथा।” राजकमल प्रकाशन, 1946। ↩︎
  11. “भारत विभाजित।” हिंद किताब्स, 1946। ↩︎
  12. “डॉ. राजेंद्र प्रसाद, पत्राचार और चयनित दस्तावेज, खंड सत्रह” ↩︎
  13. “भारत विभाजित” द्वारा राजेंद्र प्रसाद ↩︎
  14. “राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद के भाषण 1952-1960” ↩︎
  15. “राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद के भाषण 1952-1960” ↩︎
  16. “आत्मकथा” – राजेंद्र प्रसाद की आत्मकथा ↩︎
  17. राजेंद्र प्रसाद के भाषण ↩︎
  18. “इंडिया डिवाइडेड” – राजेंद्र प्रसाद द्वारा लिखित पुस्तक ↩︎
  19. “आत्मकथा” – राजेंद्र प्रसाद की आत्मकथा ↩︎
  20. प्रसाद, आर. (1946). इंडिया डिवाइडेड. कलकत्ता: हिंद किताब्स। ↩︎
  21. प्रसाद, आर. (1957). आत्मकथा. पटना: बिहार राष्ट्रभाषा परिषद। ↩︎
  22. प्रसाद, आर. (1950). भारत के राष्ट्रपति के रूप में प्रारंभिक भाषण. नई दिल्ली: भारत सरकार। ↩︎
  23. बिहार प्रांतीय बार संघ में भाषण, 1946 ↩︎
  24. भारत की स्वतंत्रता की पूर्व संध्या पर भाषण, 1947 ↩︎
  25. संविधान के अंगीकार पर भाषण, 1949 ↩︎
  26. कलकत्ता विश्वविद्यालय में भाषण, 1955 ↩︎
  27. “डॉ. राजेंद्र प्रसाद, पत्राचार और चयनित दस्तावेज, खंड 15 ↩︎
  28. “राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद के भाषण 1952-1962” ↩︎
  29. “डॉ. राजेंद्र प्रसाद: उनके विचार और कथन” ↩︎
  30. “महिलाएं और सामाजिक न्याय: लिंग असमानता का विश्लेषण” ↩︎
  31. संविधान सभा में भाषण, 1946 ↩︎
  32. गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर भाषण, 1950 ↩︎
  33. संविधान सभा में भाषण, 1946 ↩︎
  34. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में भाषण, 1934 ↩︎
  35. गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर भाषण, 1950 ↩︎

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"टुकड़ा खाए दिल बहलाए कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "कपड़े फाटे घर को आए कहावत की व्याख्या वाला चित्र", "आर्थिक संघर्ष दर्शाती Budhimaan.com की छवि", "भारतीय ग्रामीण जीवन का यथार्थ चित्रण"
Kahavaten

टुकड़ा खाए दिल बहलाए, कपड़े फाटे घर को आए, अर्थ, प्रयोग(Tukda khaye dil bahlaye, Kapde fate ghar ko aaye)

“टुकड़ा खाए दिल बहलाए, कपड़े फाटे घर को आए” यह हिंदी कहावत कठिन परिस्थितियों में जीवन यापन करने के संघर्ष को दर्शाती है। इस कहावत

Read More »
"टका सर्वत्र पूज्यन्ते कहावत का चित्रण", "धन और सामाजिक सम्मान का प्रतीकात्मक चित्र", "भारतीय समाज में धन का चित्रण", "हिंदी कहावतों का विश्लेषण - Budhimaan.com"
Kahavaten

टका सर्वत्र पूज्यन्ते, बिन टका टकटकायते, अर्थ, प्रयोग(Taka sarvatra pujyate, Bin taka taktakayte)

परिचय: हिंदी की यह कहावत “टका सर्वत्र पूज्यन्ते, बिन टका टकटकायते” धन के महत्व और समाज में इसके प्रभाव पर जोर देती है। यह कहावत

Read More »
"टेर-टेर के रोवे कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "Budhimaan.com पर व्यक्तिगत समस्याओं का समाधान", "सामाजिक प्रतिष्ठा की रक्षा करती कहावत का चित्र", "हिंदी प्रवचनों की व्याख्या वाला चित्र"
Kahavaten

टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे, अर्थ, प्रयोग(Ter-ter ke rove, Apni laj khove)

“टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे” यह हिंदी कहावत व्यक्तिगत समस्याओं को बार-बार और सबके सामने व्यक्त करने के परिणामों को दर्शाती है। इस कहावत

Read More »
"ठग मारे अनजान कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "Budhimaan.com पर बनिया मारे जान कहावत का विश्लेषण", "धोखाधड़ी के विभिन्न रूप दर्शाती कहावत का चित्र", "हिंदी प्रवचनों की गहराई का चित्रण"
Kahavaten

ठग मारे अनजान, बनिया मारे जान, अर्थ, प्रयोग(Thag mare anjaan, Baniya maare jaan)

“ठग मारे अनजान, बनिया मारे जान” यह हिंदी कहावत विभिन्न प्रकार के छल-कपट की प्रकृति को दर्शाती है। इस कहावत के माध्यम से, हम यह

Read More »
"टका हो जिसके हाथ में कहावत का चित्रण", "समाज में धन की भूमिका का चित्र", "भारतीय कहावतों का चित्रात्मक प्रतिनिधित्व", "Budhimaan.com पर हिंदी कहावतों का विश्लेषण"
Kahavaten

टका हो जिसके हाथ में, वह है बड़ा जात में, अर्थ, प्रयोग(Taka ho jiske haath mein, Wah hai bada jaat mein)

“टका हो जिसके हाथ में, वह है बड़ा जात में” यह हिंदी कहावत समाज में धन के प्रभाव और उसकी महत्वपूर्णता पर प्रकाश डालती है।

Read More »
"टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा कहावत का चित्रण", "बुद्धिमत्ता और मूर्खता पर आधारित हिंदी कहावत का चित्र", "Budhimaan.com पर हिंदी कहावतों की व्याख्या", "जीवन शैली और सीख का प्रतिनिधित्व करता चित्र"
Kahavaten

टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा, अर्थ, प्रयोग(Tattoo ko koda aur tazi ko ishara)

“टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा” यह हिंदी कहावत बुद्धिमत्ता और मूर्खता के बीच के व्यवहारिक अंतर को स्पष्ट करती है। इस कहावत के

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।