Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » पूँछ पकड़कर चलना अर्थ, प्रयोग (Poonch pakad kar chalna)

पूँछ पकड़कर चलना अर्थ, प्रयोग (Poonch pakad kar chalna)

परिचय: “पूँछ पकड़कर चलना” भारतीय हिंदी भाषा का एक लोकप्रिय मुहावरा है। इसका प्रयोग अक्सर उन स्थितियों में होता है जहाँ कोई व्यक्ति दूसरों की अंधाधुंध अनुकरण या अनुसरण करता है।

अर्थ: “पूँछ पकड़कर चलना” का अर्थ है किसी का आँख मूंदकर अनुसरण करना या बिना सोचे-समझे किसी के पीछे चलना। इस मुहावरे में ‘पूँछ पकड़कर चलने’ का भाव है कि कोई बिना अपनी बुद्धि का प्रयोग किए किसी दूसरे की अंधी नकल कर रहा है।

प्रयोग: यह मुहावरा आमतौर पर तब प्रयोग में आता है जब हमें यह दर्शाना हो कि कोई व्यक्ति स्वतंत्र विचार या निर्णय नहीं कर रहा है बल्कि किसी दूसरे की नकल कर रहा है।

उदाहरण:

-> “नियांत हमेशा अपने बड़े भाई की पूँछ पकड़कर चलता है, चाहे वो कुछ भी करें।”

-> “मुनीश ने बिना सोचे-समझे अपने मित्र के व्यापारिक फैसलों की पूँछ पकड़कर चलना शुरू कर दिया।”

निष्कर्ष: मुहावरा “पूँछ पकड़कर चलना” हमें यह सिखाता है कि आँख मूंदकर किसी का अनुसरण करने से बेहतर है कि हम अपनी बुद्धि का प्रयोग करें और स्वतंत्र निर्णय लें। यह हमें आत्मनिर्भरता और स्वतंत्र विचारशीलता की ओर प्रेरित करता है।

पूँछ पकड़कर चलना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अमन नाम का एक लड़का रहता था। अमन बहुत ही सरल और भोला था। वह हमेशा अपने दोस्त शुभ की नकल करता था, चाहे वह कुछ भी करे।

एक दिन शुभ ने एक नया शौक पकड़ा – पतंगबाजी। अमन ने भी बिना सोचे-समझे पतंगबाजी शुरू कर दी, यहाँ तक कि उसने अपनी जमा-पूंजी भी पतंगों पर खर्च कर दी। लेकिन अमन को पतंग उड़ाने का कोई अनुभव नहीं था, और वह बार-बार असफल हो रहा था।

गाँव वाले देखकर कहते, “देखो अमन को, हमेशा शुभ की पूँछ पकड़कर चलता है। उसे खुद के लिए सोचना सीखना चाहिए।”

एक दिन अमन की पतंग एक पेड़ में फंस गई और वह गिरकर चोटिल हो गया। इस हादसे के बाद, अमन को समझ आया कि बिना सोचे-समझे शुभ की नकल करना कितना गलत था।

अमन ने फैसला किया कि अब वह खुद की सोच और समझ से काम लेगा। उसने अपनी रुचि के अनुसार एक नया शौक चुना और उसमें सफल भी हुआ।

यह कहानी “पूँछ पकड़कर चलना” मुहावरे के अर्थ को स्पष्ट करती है। यह हमें बताती है कि आँख मूंदकर किसी का अनुसरण करने के बजाय, हमें अपनी बुद्धि और समझ से काम लेना चाहिए। यह हमें आत्मनिर्भरता और स्वतंत्र निर्णय लेने की ओर प्रेरित करता है।

शायरी:

चलता रहा मैं पूँछ पकड़कर, खुद की राह भूल,

जिंदगी की डगर में, बना रहा खुद को मझधार का फूल।

उसकी राहों पर चलने का, मैंने किया था अंधा चुनाव,

मेरी हर कदम पे थी, उसके पदचापों की छाप।

क्या मिला मुझे इस चक्कर में, सिवाय खुद की खोज से भटकने के,

उसकी छाया में चलते-चलते, खुद की पहचान तक रह गई बकने के।

अब जागा हूँ मैं इस ख्वाब से, चुनूँगा अपनी राह,

नहीं चलूँगा अब किसी की पूँछ पकड़कर, होगी अपनी चाल।

खुद की तलाश में निकला हूँ, तोड़ कर बंधन सभी,

अब मेरी राह है मेरी, नहीं किसी की पूँछ की गली।

 

पूँछ पकड़कर चलना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of पूँछ पकड़कर चलना – Poonch pakad kar chalna Idiom:

Introduction: “पूँछ पकड़कर चलना” is a popular idiom in the Indian Hindi language. It is often used in situations where a person blindly imitates or follows others.

Meaning: The meaning of “पूँछ पकड़कर चलना” is to follow someone blindly or without thinking. This idiom implies that someone is imitating another person without using their own intelligence or understanding.

Usage: This idiom is commonly used to indicate that a person is not thinking independently or making their own decisions but instead is copying someone else.

Example:

-> “Nityant always follows his older brother blindly, whatever he does.”

-> “Munish started following his friend’s business decisions without thinking.”

Conclusion: The idiom “पूँछ पकड़कर चलना” teaches us that it is better to use our own intelligence and make independent decisions rather than blindly following someone. It encourages self-reliance and independent thinking.

Story of ‌‌Poonch pakad kar chalna Idiom in English:

In a small village, there lived a boy named Aman. Aman was very simple and naive. He always imitated his friend Shubh, whatever he did.

One day, Shubh took up a new hobby – kite flying. Without thinking, Aman also started flying kites and even spent all his savings on them. However, Aman had no experience in kite flying and kept failing.

The villagers, seeing this, said, “Look at Aman, always following Shubh blindly. He should learn to think for himself.”

One day, Aman’s kite got stuck in a tree, and he fell and got injured. After this incident, Aman realized how wrong it was to blindly imitate Shubh without thinking.

Aman decided that he would now work with his own thoughts and understanding. He chose a new hobby according to his interest and was successful in it.

This story clarifies the meaning of the idiom “पूँछ पकड़कर चलना.” It tells us that instead of blindly following someone, we should use our intelligence and understanding. It encourages us towards self-reliance and making independent decisions.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।