Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » पाँव की धूल होना अर्थ, प्रयोग (Paon ki dhool hona)

पाँव की धूल होना अर्थ, प्रयोग (Paon ki dhool hona)

पाँव की धूल होना – यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है, जिसका प्रयोग आमतौर पर विनम्रता और समर्पण के भाव को दर्शाने के लिए किया जाता है। चलिए, इस मुहावरे के अर्थ, प्रयोग और उदाहरणों के माध्यम से इसकी व्याख्या करते हैं।

परिचय: “पाँव की धूल होना” एक ऐसा मुहावरा है जो अत्यधिक विनम्रता और आदर की भावना को प्रकट करता है। यह अक्सर तब इस्तेमाल होता है जब कोई व्यक्ति खुद को किसी और के प्रति बहुत ही नीचे या समर्पित मानता है।

अर्थ: इस मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है किसी के पाँव की धूल होना, अर्थात किसी के सामने खुद को बहुत ही तुच्छ या नीचे मानना। यह अपने आप को किसी के प्रति समर्पित करने की भावना को दर्शाता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग आदर और समर्पण के भाव को व्यक्त करने के लिए होता है। यह अक्सर धार्मिक, साहित्यिक या गुरु-शिष्य के संबंधों में प्रयोग होता है।

उदाहरण:

-> एक शिष्य ने अपने गुरु से कहा, “गुरुजी, मैं आपके पाँव की धूल हूँ।” इससे उसने अपनी विनम्रता और समर्पण का भाव दर्शाया।

-> एक भक्त ने अपने इष्ट देवता के मंदिर में जाकर कहा, “मैं तो आपके पाँव की धूल मात्र हूँ।” यहाँ उसने अपनी गहरी भक्ति और समर्पण की भावना व्यक्त की।

निष्कर्ष: “पाँव की धूल होना” यह मुहावरा हमें सिखाता है कि विनम्रता और समर्पण की भावना हमें अधिक सम्मान और आदर प्रदान करती है। यह हमें यह भी बताता है कि किसी के प्रति अपनी निष्ठा और समर्पण को प्रकट करना कितना महत्वपूर्ण है। यह मुहावरा आत्म-सम्मान और दूसरों के प्रति सम्मान के बीच की संतुलन को भी दर्शाता है।

पाँव की धूल होना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में प्रथम नाम का एक बच्चा रहता था। वह अपने गाँव के स्कूल में पढ़ता था, जहाँ उसके गुरुजी बहुत ही ज्ञानी और सम्मानित थे। प्रथम अपने गुरुजी की बहुत इज्जत करता था और हमेशा उनके प्रति विनम्र रहता था।

एक दिन गुरुजी ने अपने छात्रों से एक मुश्किल सवाल पूछा। सभी बच्चे उत्तर देने के लिए उत्सुक थे, लेकिन प्रथम ने धैर्यपूर्वक अपने बारी का इंतजार किया। जब उसकी बारी आई, तो उसने बहुत ही विनम्रता और सम्मान के साथ उत्तर दिया।

गुरुजी ने उसकी विनम्रता की प्रशंसा की और कहा, “प्रथम, तुम सच में हमारे पाँव की धूल हो। तुम्हारी विनम्रता और सम्मान तुम्हें एक अच्छा इंसान बनाती है।”

प्रथम ने गुरुजी की बातों को दिल से समझा और उनके प्रति अपनी विनम्रता को और भी गहरा किया। उसने सीखा कि “पाँव की धूल होना” यानि किसी के प्रति अपनी विनम्रता और समर्पण को दर्शाना ही सच्ची शिक्षा और संस्कार है।

इस कहानी के माध्यम से हमें “पाँव की धूल होना” मुहावरे का सही अर्थ समझ में आता है। यह मुहावरा हमें बताता है कि विनम्रता और सम्मान जीवन के सबसे महत्वपूर्ण गुण हैं। यह हमें सिखाता है कि सच्चे ज्ञान और संस्कार का अर्थ है किसी के प्रति अपनी विनम्रता और समर्पण को प्रकट करना।

शायरी:

जिनके कदमों की धूल में, बसते हैं सपने हमारे,
‘पाँव की धूल होना’, यही हैं जीवन के सच्चे सारे।
जिसके लिए खुद को छोटा मान लें, वो दरअसल होते हैं बड़े,
उनकी चौखट पे झुकना, जीवन की असली राहत होते हैं यही खुदे।

वो जिनके पाँव की धूल में, बसी है बुद्धि और ज्ञान की खान,
उनके आगे नतमस्तक होना, यही है जीवन का सम्मान।
जहाँ अहम खुद को मिटा देता है, वहीं पर मिलता है सच्चा मान,
‘पाँव की धूल होना’, यही है जीवन का सबसे बड़ा वरदान।

इज्जत और अदब में, खुद को छोटा बनाने की कला,
‘पाँव की धूल होना’, यही है जीवन की सच्ची बला।
जहाँ आत्मसम्मान नहीं होता खोया, वहीं पर खुद को छोटा बनाया जाता है,
जीवन की इस कला में, सच्चा प्यार और सम्मान बस पाया जाता है।

 

पाँव की धूल होना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of पाँव की धूल होना – Paon ki dhool hona Idiom:

“Paon ki dhool hona” – This is a popular Hindi idiom commonly used to express humility and devotion. Let’s delve into this idiom to understand its meaning, usage, and examples.

Introduction: “To Be Like Dust at Someone’s Feet” is an idiom that represents extreme humility and respect. It is often used when a person considers themselves very low or dedicated in front of someone else.

Meaning: The literal meaning of this idiom is to be like the dust at someone’s feet, signifying considering oneself very insignificant or lowly in front of someone. It represents the feeling of dedicating oneself to someone else.

Usage: This idiom is used to express respect and devotion. It is commonly used in religious, literary, or guru-disciple relationships.

Example:

-> A disciple said to his guru, “Guruji, I am like the dust at your feet.” This showed his humility and devotion.

-> A devotee went to the temple of his deity and said, “I am merely the dust at your feet.” Here, he expressed his deep devotion and surrender.

Conclusion: The idiom “Paon ki dhool hona” teaches us that the feelings of humility and devotion bring us more respect and reverence. It also tells us how important it is to express our loyalty and devotion to someone. This idiom illustrates the balance between self-respect and respect for others.

Story of ‌‌Paon ki dhool hona Idiom in English:

In a small village, there lived a boy named Pratham. He studied in the village school, where his teacher was very knowledgeable and respected. Pratham held his teacher in high esteem and was always humble towards him.

One day, the teacher asked his students a difficult question. All the children were eager to answer, but Pratham waited patiently for his turn. When it was his turn, he answered with great humility and respect.

The teacher appreciated his humility and said, “Pratham, you truly are like dust at our feet. Your humility and respect make you a good person.”

Pratham took these words to heart and deepened his humility towards his teacher. He learned that “To Be Like Dust at Someone’s Feet” means to show one’s humility and devotion to someone, which is the essence of true education and culture.

This story helps us understand the true meaning of the idiom “To Be Like Dust at Someone’s Feet.” The idiom tells us that humility and respect are the most important virtues in life. It teaches us that true knowledge and culture mean showing our humility and devotion to others.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।