Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » पहले तोलो, फिर बोलो अर्थ, प्रयोग (Pahle Tolo, Fir Bolo)

पहले तोलो, फिर बोलो अर्थ, प्रयोग (Pahle Tolo, Fir Bolo)

पहले तोलो, फिर बोलो – यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो संवाद और व्यवहार के तरीके पर जोर देता है। आइए इस मुहावरे के अर्थ, प्रयोग, और उदाहरणों के माध्यम से इसके विभिन्न पहलुओं को समझते हैं।

परिचय: “पहले तोलो, फिर बोलो” एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है, जिसका उपयोग विचार और वाणी की सावधानी को दर्शाने के लिए किया जाता है। यह मुहावरा बताता है कि बोलने से पहले विचार करना चाहिए।

अर्थ: इस मुहावरे का अर्थ है कि बोलने से पहले अपने शब्दों और विचारों का वजन कर लेना चाहिए। इसका मतलब है कि किसी भी बात को कहने से पहले उसके परिणामों पर विचार करना चाहिए।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग अक्सर उस समय किया जाता है जब किसी व्यक्ति को विचारशील और संयमित रहने की सलाह देनी होती है, खासकर तब जब बातचीत में संवेदनशील या महत्वपूर्ण मुद्दे शामिल होते हैं।

उदाहरण:

-> जब राजनीतिक नेता ने जल्दबाजी में एक विवादित बयान दिया, तो उसके सलाहकार ने कहा, “पहले तोलो, फिर बोलो।”

-> एक शिक्षक ने अपने छात्रों को समझाया, “सोच-समझकर बात करो, ‘पहले तोलो, फिर बोलो’ – यह सुनहरा नियम है।”

निष्कर्ष: “पहले तोलो, फिर बोलो” यह मुहावरा हमें यह सिखाता है कि शब्दों का वजन और उनके परिणामों पर विचार करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। यह मुहावरा सोच-समझकर बोलने की महत्वता को रेखांकित करता है, जिससे अनावश्यक गलतफहमियाँ और समस्याएँ कम हो सकती हैं। यह संवाद की कला में सूझबूझ और संयमित रवैये की ओर संकेत करता है।

पहले तोलो, फिर बोलो मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से शहर में अनुज नाम का एक युवक रहता था। अनुज बहुत ही जल्दबाजी में बिना सोचे-समझे अपनी राय देने के लिए जाना जाता था। एक दिन उसके शहर में एक बड़ी घटना हुई। एक व्यापारी पर किसी ने चोरी का आरोप लगाया। अनुज ने तुरंत ही बिना पूरी जानकारी के उस व्यापारी के खिलाफ बोलना शुरू कर दिया।

शहर में अनुज की बातें जल्दी ही फैल गईं, और लोग व्यापारी के खिलाफ हो गए। लेकिन जब पुलिस ने जांच की, तो पता चला कि व्यापारी निर्दोष था और असली चोर कोई और था। यह खबर जानकर अनुज को बहुत पछतावा हुआ। उसने महसूस किया कि उसकी जल्दबाजी और बिना सोचे-समझे बोलने की आदत ने किसी निर्दोष व्यक्ति को कितनी परेशानी में डाल दिया था।

अनुज ने उस दिन से “पहले तोलो, फिर बोलो” के मुहावरे का महत्व समझा। उसने फैसला किया कि वह आगे से किसी भी बात पर अपनी राय देने से पहले उसे अच्छी तरह से तोलेगा और सोच-समझकर बोलेगा।

इस कहानी के माध्यम से हमें “पहले तोलो, फिर बोलो” मुहावरे का महत्व समझ में आता है। यह मुहावरा हमें सिखाता है कि किसी भी बात को बोलने से पहले उसके परिणामों पर विचार करना चाहिए और तब ही अपनी राय व्यक्त करनी चाहिए। यह संवाद की कला में सोच-समझकर बोलने की महत्वता को दर्शाता है।

शायरी:

बातों का सफर यूँ ही नहीं तय होता,
‘पहले तोलो, फिर बोलो’, यही असल रहबर होता।
लफ्ज़ों के बाज़ार में, हर बात की कीमत होती है,
जो बिना सोचे बोलते हैं, उनकी खुद की हीमत होती है।

हर शब्द तराजू पर तोला जाता है,
जब दिल से दिल की बात बोला जाता है।
जिन बोलों में वजन होता है,
वही तो दिलों में बसन होता है।

‘पहले तोलो, फिर बोलो’, यही सीख है जीवन की,
जिसने यह जान लिया, समझो उसने पाई ज्ञान की गहराई।
शब्दों की ताकत में, छुपा हुआ सारा जहान होता है,
इसीलिए हर शब्द पहले तोलो, फिर उसे आसमान में छोड़ो।

 

पहले तोलो, फिर बोलो शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of पहले तोलो, फिर बोलो – Pahle Tolo, Fir Bolo Idiom:

“Pahle Tolo, Fir Bolo” – This is a common Hindi idiom that emphasizes the method of communication and behavior. Let’s delve into this idiom and understand its meaning, usage, and examples.

Introduction: “Measure First, Then Speak” is a popular Hindi idiom used to demonstrate the caution needed in thoughts and speech. This idiom suggests that one should think before speaking.

Meaning: The meaning of this idiom is to weigh your words and thoughts before speaking. It means that one should consider the consequences of their words before saying anything.

Usage: This idiom is often used when advising someone to be thoughtful and restrained, especially when sensitive or important issues are involved in a conversation.

Example:

-> When a political leader hastily made a controversial statement, his advisor said, “Measure First, Then Speak.”

-> A teacher explained to his students, “Speak thoughtfully, ‘Measure First, Then Speak’ – this is a golden rule.”

Conclusion: The idiom “Pahle Tolo, Fir Bolo” teaches us that weighing one’s words and considering their consequences is extremely important. It underscores the importance of speaking thoughtfully to avoid unnecessary misunderstandings and problems. This idiom points towards a wise and restrained approach in the art of conversation.

Story of ‌‌Pahle Tolo, Fir Bolo Idiom in English:

In a small town, there lived a young man named Anuj, who was known for giving his opinions hastily without thinking. One day, a significant incident occurred in his town. A merchant was accused of theft. Anuj immediately started speaking against the merchant without having full information.

Anuj’s words quickly spread throughout the town, and people turned against the merchant. However, when the police investigated, it was found that the merchant was innocent and the real thief was someone else. Realizing this, Anuj felt deep remorse. He recognized that his impulsiveness and habit of speaking without thinking had caused trouble for an innocent person.

From that day, Anuj understood the importance of the idiom “Measure First, Then Speak.” He decided that in the future, he would weigh his words carefully and speak thoughtfully before giving his opinion on any matter.

This story illustrates the importance of the idiom “Measure First, Then Speak.” It teaches us that we should consider the consequences of our words before speaking. The idiom highlights the importance of speaking thoughtfully in the art of conversation.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।