Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » पहले मारे सो मीर अर्थ, प्रयोग (Pahle mare so meer)

पहले मारे सो मीर अर्थ, प्रयोग (Pahle mare so meer)

परिचय: “पहले मारे सो मीर” भारतीय समाज में प्रचलित एक पुराना मुहावरा है। यह मुहावरा रणनीति, युद्ध कौशल, और तत्परता के महत्व पर जोर देता है।

अर्थ: “पहले मारे सो मीर” का शाब्दिक अर्थ है कि जो पहले हमला करता है, वही विजयी होता है। इस मुहावरे का उपयोग यह बताने के लिए होता है कि प्रतिस्पर्धा या संघर्ष की स्थिति में, पहले कदम उठाने वाले को ही अक्सर लाभ होता है।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर रणनीति, व्यापार, खेल, या जीवन की अन्य प्रतिस्पर्धी स्थितियों में प्रयोग किया जाता है। यह सक्रियता और आक्रामकता के महत्व को दर्शाता है।

उदाहरण:

-> शतरंज के खेल में, अक्सर “पहले मारे सो मीर” की नीति काम आती है।

-> व्यापार में भी यही सिद्धांत लागू होता है, “पहले मारे सो मीर” – जो पहले बाजार में उतरता है, उसे ही अधिक लाभ होता है।

निष्कर्ष: “पहले मारे सो मीर” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि किसी भी क्षेत्र में सफलता पाने के लिए पहल करना और समय रहते आगे बढ़ना महत्वपूर्ण है। यह हमें प्रतिस्पर्धा में सजग और आक्रामक रहने की प्रेरणा देता है, साथ ही यह भी बताता है कि सही समय पर सही कदम उठाना कितना आवश्यक है।

पहले मारे सो मीर मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में दो साहसी युवक नियांत और अमन रहते थे। दोनों ही कुश्ती के शौकीन थे और अक्सर गाँव के अखाड़े में कुश्ती करते नजर आते थे। नियांत बहुत ही शक्तिशाली और ताकतवर था, लेकिन अमन उससे कम ताकतवर होते हुए भी बहुत चतुर और तेज़ था।

एक दिन गाँव में बड़ी कुश्ती प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। नियांत और अमन दोनों ही इस प्रतियोगिता में भाग लेने वाले थे। नियांत अपनी ताकत पर बहुत घमंड करता था और उसे पूरा विश्वास था कि वह आसानी से अमन को हरा देगा।

प्रतियोगिता के दिन, जब नियांत और अमन का मुकाबला हुआ, तो नियांत ने धीरे-धीरे और आत्मविश्वास से कुश्ती शुरू की। लेकिन अमन ने बिना कोई समय गवाएं तुरंत हमला बोल दिया और चालाकी से नियांत को चित कर दिया।

अमन की इस जीत ने सभी को चौंका दिया। अमन ने साबित कर दिया कि “पहले मारे सो मीर” – जो पहले हमला करता है, वही अंत में विजयी होता है। नियांत ने इससे सीखा कि केवल ताकत ही काफी नहीं होती, बल्कि सही समय पर सही कदम उठाना भी जरूरी है।

इस कहानी से हमें “पहले मारे सो मीर” मुहावरे का महत्व समझ में आता है। यह हमें बताता है कि जीवन के हर क्षेत्र में, चाहे वह खेल हो या व्यापार, समय रहते सक्रियता और तत्परता दिखाना कितना महत्वपूर्ण है।

शायरी:

जीवन की इस बाजी में, हर कदम पर बाज़ीगरी है,

“पहले मारे सो मीर”, यही तो जीत की तयारी है।

जो चले पहले कदम, उसी का नाम अमर होता है,

हर चाल में बाजी मारने का, यही तो हुनर होता है।

देरी से चलने वाले, अक्सर पीछे रह जाते हैं,

“पहले मारे सो मीर” वाले, इतिहास बनाते हैं।

जो दिखाए तेजी और चतुराई, वही सितारे बन जाते हैं,

हर जंग में पहले चलने वाले, असली बाजीगर कहलाते हैं।

जिंदगी के मैदान में, जो सोचे और रुके नहीं,

“पहले मारे सो मीर”, जो दिखाए जज्बा भी।

जीत उसी की होती है, जो खेले दिल से,

पहले चलने की उस कला में, जीत का जश्न छुपा होता है।

 

पहले मारे सो मीर शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of पहले मारे सो मीर – Pahle mare so meer Idiom:

Introduction: “पहले मारे सो मीर” is an old idiom prevalent in Indian society. It emphasizes the importance of strategy, martial skill, and readiness.

Meaning: The literal meaning of “पहले मारे सो मीर” is that the one who attacks first is the victor. This idiom is used to convey that in situations of competition or conflict, often the one who takes the first step gains an advantage.

Usage: This idiom is frequently used in strategy, business, sports, or other competitive situations in life. It highlights the importance of being proactive and aggressive.

Example:

-> In the game of chess, the strategy of “पहले मारे सो मीर” often comes in handy.

-> The same principle applies in business, “पहले मारे सो मीर” – the one who enters the market first usually gains more benefits.

Conclusion: The idiom “पहले मारे सो मीर” teaches us that taking the initiative and moving forward in time is important for success in any field. It inspires us to be alert and aggressive in competition and also indicates how crucial it is to take the right step at the right time.

Story of ‌‌Pahle mare so meer Idiom in English:

In a small village, there lived a young man named Aman. Aman was very talented, but he had one problem – his handwriting was very poor. Whenever he wrote something, his words were so unclear that nobody could read them properly.

One day, a big competition was organized in the village. Aman also participated and wrote an article. His article was excellent in terms of ideas, but his handwriting was so bad that the judges had a hard time reading it.

When the judges told Aman about his handwriting, he laughed and said, “Only God can read what I write, खुद लिखे खुदा बांचे.” Hearing this, everyone laughed.

After this incident, Aman decided to improve his handwriting. He realized that no matter how good the ideas are, if they are not expressed clearly, their importance diminishes.

This story teaches us that expressing our thoughts clearly and beautifully is as important as having good ideas. The idiom “खुद लिखे खुदा बांचे” teaches us this very lesson.

In a small village, there were two courageous youths named Niyant and Aman. Both were fond of wrestling and often seen wrestling in the village arena. Niyant was very strong and powerful, but Aman, though less powerful, was very clever and quick.

One day, a major wrestling competition was organized in the village. Both Niyant and Aman were to participate in this competition. Niyant, proud of his strength, was confident that he would easily defeat Aman.

On the day of the competition, when Niyant and Aman faced off, Niyant started wrestling slowly and confidently. However, Aman immediately attacked without wasting any time and cleverly pinned Niyant down.

Aman’s victory surprised everyone. Aman proved that “पहले मारे सो मीर” – the one who attacks first is the ultimate victor. Niyant learned from this that mere strength is not enough; it is also essential to take the right step at the right time.

This story helps us understand the significance of the idiom “पहले मारे सो मीर.” It teaches us that in every sphere of life, whether it’s sports or business, it is crucial to show proactivity and readiness in time.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।