Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » पासंग बराबर भी न होना अर्थ, प्रयोग (Paasang barabar bhi na hona)

पासंग बराबर भी न होना अर्थ, प्रयोग (Paasang barabar bhi na hona)

परिचय: “पासंग बराबर भी न होना” भारतीय हिंदी भाषा में एक प्रचलित मुहावरा है। यह मुहावरा प्रायः उन परिस्थितियों में प्रयुक्त होता है जहां किसी वस्तु, व्यक्ति या स्थिति की तुलना में दूसरी वस्तु, व्यक्ति या स्थिति काफी हीन या अपर्याप्त प्रतीत होती है।

अर्थ: “पासंग बराबर भी न होना” का अर्थ है कि कुछ भी तुलना में बहुत कम या नगण्य होना। यह मुहावरा तब इस्तेमाल होता है जब किसी चीज़ की गुणवत्ता या महत्व किसी अन्य चीज़ की तुलना में बहुत कम हो।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग आमतौर पर तुलना करते समय किया जाता है, जब हमें यह दर्शाना हो कि एक चीज दूसरे की तुलना में काफी अधिक हीन है।

उदाहरण:

-> “विकास की बुद्धिमत्ता और अनुभव के सामने राहुल का ज्ञान पासंग बराबर भी नहीं है।”

-> “इस बड़ी कंपनी के सामने हमारा छोटा सा स्टार्टअप पासंग बराबर भी नहीं है।”

निष्कर्ष: मुहावरा “पासंग बराबर भी न होना” हमें बताता है कि कई बार चीजें या व्यक्ति तुलना में इतने अलग होते हैं कि उनकी तुलना करना ही बेमानी होता है। यह हमें सिखाता है कि प्रत्येक व्यक्ति या चीज की अपनी एक विशिष्टता और महत्व होता है।

पासंग बराबर भी न होना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गांव में अनुभव और विशाल नामक दो लड़के रहते थे। अनुभव एक सामान्य परिवार से था और विशाल एक धनी परिवार का बेटा था। दोनों के बीच एक प्रतिस्पर्धा सी चलती रहती थी।

गांव में एक दिन एक खेल प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। अनुभव और विशाल दोनों ने इसमें भाग लिया। विशाल के पास अच्छे खेल उपकरण और प्रशिक्षण की सुविधा थी, जबकि अनुभव के पास ये सब नहीं था।

प्रतियोगिता शुरू होने पर, अनुभव ने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया, लेकिन विशाल के आधुनिक उपकरण और बेहतर प्रशिक्षण के आगे वह पिछड़ गया। गांव के लोगों ने कहा, “अनुभव की तैयारी विशाल के सामने पासंग बराबर भी नहीं है।”

विशाल ने प्रतियोगिता जीती, लेकिन उसे एहसास हुआ कि अनुभव ने अपनी सीमित संसाधनों के बावजूद बहुत अच्छा प्रदर्शन किया। विशाल ने अनुभव की प्रशंसा की और उसे अपने साथ प्रशिक्षण लेने का निमंत्रण दिया।

अनुभव ने यह प्रस्ताव स्वीकार किया और दोनों ने मिलकर आगे की प्रतियोगिताओं के लिए अभ्यास किया।

यह कहानी हमें सिखाती है कि “पासंग बराबर भी न होना” मुहावरा तब प्रयोग में आता है जब दो चीजों की तुलना उनकी विशिष्टताओं के कारण बेमानी हो। यह यह भी बताता है कि संसाधनों की कमी होने के बावजूद, प्रयास और लगन से बड़ी उपलब्धियाँ हासिल की जा सकती हैं।

शायरी:

उसकी शान में मेरी कहानी, पासंग बराबर नहीं,

चांदनी रात में, मेरी जुगनू सी रोशनी, पासंग बराबर नहीं।

वो बहारों का सुल्तान, मैं पतझड़ की एक शाम,

उसके गुलशन के आगे, मेरा बंजर भी काम, पासंग बराबर नहीं।

उसके सपने आसमान, मेरे अरमान ज़मीन पर,

उसकी उड़ानों के सामने, मेरी चाल पासंग बराबर नहीं।

वो दरिया की रवानी, मैं रेगिस्तान का सूखा,

उसकी लहरों के आगे, मेरा कतरा भी झूठा, पासंग बराबर नहीं।

उसकी दौलत-ए-इश्क़ में, मेरी मोहब्बत क्या चीज़,

उसके जज़्बातों के आगे, मेरा दिल भी फीका, पासंग बराबर नहीं।

 

पासंग बराबर भी न होना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of पासंग बराबर भी न होना – Paasang barabar bhi na hona Idiom:

Introduction: “पासंग बराबर भी न होना” is a prevalent idiom in the Hindi language in India. This idiom is often used in situations where one object, person, or situation appears significantly inferior or inadequate compared to another.

Meaning: The meaning of “पासंग बराबर भी न होना” is that something is too insignificant or negligible in comparison. This idiom is used when the quality or importance of one thing is much lesser compared to another.

Usage: This idiom is commonly used during comparisons to illustrate that one thing is significantly inferior to another.

Example:

-> “In front of Vikas’s intelligence and experience, Rahul’s knowledge doesn’t even compare.”

-> “Our small startup is nothing compared to this big company.”

Conclusion: The idiom “पासंग बराबर भी न होना” tells us that sometimes things or people are so different in comparison that comparing them becomes meaningless. It teaches us that every individual or thing has its own uniqueness and importance.

Story of ‌‌Paasang barabar bhi na hona Idiom in English:

In a small village, there lived two boys named Anubhav and Vishal. Anubhav came from an ordinary family, while Vishal was the son of a wealthy family. There was a constant competition between them.

One day, a sports competition was organized in the village. Both Anubhav and Vishal participated. Vishal had access to good sports equipment and training, which Anubhav lacked.

When the competition started, Anubhav gave his best, but he fell behind due to Vishal’s modern equipment and better training. The villagers remarked, “Anubhav’s preparation is nothing compared to Vishal.”

Vishal won the competition, but he realized that Anubhav had performed very well despite his limited resources. Vishal appreciated Anubhav’s effort and invited him to train together for future competitions.

Anubhav accepted the offer, and both of them practiced together for upcoming events.

This story teaches us that the idiom “पासंग बराबर भी न होना” is used when comparing two things becomes meaningless due to their distinct characteristics. It also conveys that despite a lack of resources, great achievements can be attained through effort and dedication.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।