Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है अर्थ, प्रयोग (Paap ka ghara kabhi-na-kabhi footata hai)

पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है अर्थ, प्रयोग (Paap ka ghara kabhi-na-kabhi footata hai)

परिचय: हिंदी भाषा में मुहावरे एक गहरा अर्थ और सीख प्रदान करते हैं। “पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है” ऐसा ही एक प्रचलित मुहावरा है, जो नैतिकता और कर्म के सिद्धांत पर आधारित है।

अर्थ: इस मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है कि एक घड़ा जो पाप से भरा हुआ है, अंततः फूट जाएगा। इसका आलंकारिक अर्थ यह है कि बुरे कर्मों का फल, चाहे देर से ही सही, लेकिन अवश्य मिलता है। यह मुहावरा यह भी संकेत देता है कि बुराई का अंत समय के साथ निश्चित है।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर उन परिस्थितियों में प्रयोग किया जाता है, जहां किसी व्यक्ति या समूह के नकारात्मक या अनैतिक कार्यों की बात हो रही हो। यह यह दर्शाता है कि बुराई के लिए दंड अनिवार्य है।

उदाहरण:

-> “राजनीति में भ्रष्टाचार करने वालों का पाप का घड़ा एक दिन फूटेगा।”

-> “अगर वह इसी तरह धोखाधड़ी करता रहा, तो याद रखना, पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है।”

निष्कर्ष: “पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि बुरे कर्मों का परिणाम हमेशा बुरा होता है। यह नैतिकता और उचित आचरण के महत्व पर जोर देता है और यह बताता है कि समय के साथ हर बुराई का अंत होता है। यह मुहावरा हमारे समाज में नैतिकता और अच्छे कर्मों की अहमियत को उजागर करता है।

पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे गाँव में सुभाष नाम का एक नेता था। सुभाष का चरित्र बहुत खराब था और वह अक्सर अपनी शक्ति और प्रभाव का दुरुपयोग करता था। वह गाँव के लोगों से जबरन टैक्स वसूलता, उन्हें धमकाता और उनकी जमीनें हड़प लेता था।

गाँववाले सुभाष से बहुत डरते थे और उसके खिलाफ कुछ भी बोलने से डरते थे। लेकिन एक दिन, एक साहसी युवक ने सुभाष के खिलाफ आवाज उठाई और उसके अत्याचारों को सबके सामने लाया। युवक ने न्यायालय में सुभाष के खिलाफ मुकदमा दायर किया।

मुकदमे के दौरान, सुभाष के सभी अनैतिक कार्यों का पर्दाफाश हुआ। अदालत ने सुभाष को उसके सभी पापों के लिए दोषी पाया और उसे कड़ी सजा सुनाई। इस प्रकार उसका “पाप का घड़ा” फूट गया।

गाँववालों ने सीखा कि बुराई का अंत अवश्यंभावी है और कोई भी बुरे कर्म से बच नहीं सकता। इस कहानी ने सबको यह सिखाया कि “पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है” और इसलिए अच्छे कर्म करने चाहिए। सुभाष की कहानी ने गाँववालों को नैतिकता और सत्य की शक्ति का पाठ पढ़ाया।

शायरी:

बुराई के घड़े में, हर पाप चुपके से छिपा है,

फूटेगा ये एक दिन, कुदरत का यही रिवाज बना है।

चाहे लाख छुपाओ, पर सच्चाई से ना बच पाओगे,

‘पाप का घड़ा फूटेगा’, वक़्त की इस आवाज में ढल जाओगे।

न्याय की राह में, हर गुनाह का हिसाब होता है,

जिस दिन घड़ा फूटेगा, उस दिन सबको जवाब होता है।

जीवन की राह में, हर कदम पर इम्तिहान है,

‘पाप का घड़ा’ कहता है, हर गलती का अंजाम है।

इंसान भूल जाता है, कर्मों का फल वही पाता है,

‘पाप का घड़ा फूटेगा’, ये सच्चाई उसे राह दिखाता है।

इसलिए जीवन में, अच्छाई का दामन थामे रहो,

‘पाप का घड़ा’ सिखाता है, नेकी में ही सुकून पाओगे।

 

पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है – Paap ka ghara kabhi-na-kabhi footata hai Idiom:

Introduction: In the Hindi language, idioms provide deep meanings and lessons. “पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है” is one such popular idiom, based on the principles of morality and karma.

Meaning: The literal meaning of this idiom is that a pot filled with sins will eventually break. Its metaphorical meaning is that the consequences of bad deeds, albeit delayed, are inevitable. This idiom also indicates that the end of evil is certain over time.

Usage: This idiom is often used in situations where the negative or unethical actions of an individual or group are being discussed. It implies that punishment for evil is inevitable.

Example:

-> “The pot of sin of those who engage in corruption in politics will one day burst.”

-> “If he continues to cheat like this, remember, a pot full of sins will eventually break.”

Conclusion: The idiom “पाप का घड़ा कभी-न-कभी फूटता है” teaches us that the outcome of bad deeds is always adverse. It emphasizes the importance of morality and proper conduct, indicating that every evil meets its end over time. This idiom highlights the significance of ethics and good deeds in our society.

Story of ‌‌Paap ka ghara kabhi-na-kabhi footata hai Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there was a leader named Subhash. Subhash had a very poor character and often abused his power and influence. He forcibly collected taxes from the villagers, threatened them, and usurped their lands.

The villagers were very afraid of Subhash and feared speaking against him. But one day, a brave young man raised his voice against Subhash and brought his atrocities to light. The young man filed a lawsuit against Subhash in the court.

During the trial, all of Subhash’s unethical actions were exposed. The court found Subhash guilty of all his sins and sentenced him to severe punishment. Thus, his “pot of sins” burst.

The villagers learned that the end of evil is inevitable and no one can escape the consequences of bad deeds. This story taught everyone that “a pot full of sins will eventually break,” and therefore, one should do good deeds. Subhash’s story taught the villagers the power of morality and truth.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।