Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » नंगे का कोई क्या लेगा अर्थ, प्रयोग (Nange ka koi kya lega)

नंगे का कोई क्या लेगा अर्थ, प्रयोग (Nange ka koi kya lega)

परिचय: हिंदी भाषा में अनेक मुहावरे हैं जो जीवन के विविध पहलुओं से जुड़े हुए हैं। इनमें से एक विशेष मुहावरा है “नंगे का कोई क्या लेगा”। यह मुहावरा आमतौर पर उस स्थिति का वर्णन करता है जहां किसी व्यक्ति से कुछ भी छीनने या हानि पहुंचाने की संभावना नहीं होती, क्योंकि उसके पास पहले से ही बहुत कम या कुछ भी नहीं होता।

अर्थ: इस मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है, “जो व्यक्ति पहले से ही नंगा है, उससे और क्या लिया जा सकता है?” यहाँ ‘नंगे’ शब्द का प्रयोग उस व्यक्ति के लिए किया गया है जिसके पास खोने के लिए कुछ नहीं होता। यह व्यक्ति के संसाधनहीन अवस्था या निर्धनता का प्रतीक है।

प्रयोग: यह मुहावरा विभिन्न सामाजिक और आर्थिक संदर्भों में प्रयोग किया जाता है। जैसे, जब कोई व्यक्ति इतना गरीब हो कि उससे और अधिक छीनना असंभव हो, तब इस मुहावरे का प्रयोग किया जा सकता है।

उदाहरण:

-> राजनीतिक संदर्भ: “उस गाँव के लोग इतने गरीब हैं कि चुनावी वादे करने वाले नेताओं के लिए भी यह कहा जा सकता है कि नंगे का कोई क्या लेगा।”

-> व्यापारिक संदर्भ: “उस दिवालिया कंपनी से निवेशकों को कुछ भी वसूलना मुश्किल है, नंगे का कोई क्या लेगा।”

निष्कर्ष: “नंगे का कोई क्या लेगा” मुहावरा भारतीय समाज में गरीबी और संसाधनों की कमी पर एक गहरी टिप्पणी करता है। यह मुहावरा समाज में विभिन्न स्तरों पर आर्थिक असमानताओं और उनके प्रभावों को सामने लाता है, और इस प्रकार यह भारतीय साहित्य और बोलचाल की भाषा में अपनी एक महत्वपूर्ण जगह रखता है।

नंगे का कोई क्या लेगा मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अभय नाम का एक गरीब लड़का रहता था। उसका परिवार बेहद निर्धन था, और उनके पास न तो अच्छे कपड़े थे और न ही पर्याप्त भोजन। अभय का जीवन कठिनाइयों से भरा था, पर उसकी हिम्मत कभी नहीं टूटी।

एक दिन, उसके गाँव में कुछ धनी व्यापारी आए। उन्होंने गाँव के लोगों को धन और संपत्ति के बदले उनकी जमीनें खरीदने का प्रस्ताव दिया। गाँव के अधिकांश लोगों ने, जिनके पास थोड़ी बहुत जमीन थी, इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया। परंतु अभय के परिवार के पास तो कोई जमीन ही नहीं थी जिसे वे बेच सकते।

व्यापारियों ने जब अभय के परिवार को देखा, तो एक ने व्यंग्य करते हुए कहा, “इस नंगे परिवार से हम क्या लेंगे? इनके पास तो खोने को कुछ भी नहीं है।”

अभय यह सुनकर दुखी तो हुआ, पर उसने हिम्मत नहीं हारी। उसने ठान लिया कि वह अपनी मेहनत और लगन से अपनी स्थिति बदलेगा। दिन-रात मेहनत करके, अभय ने अपनी पढ़ाई पूरी की और एक बड़ी कंपनी में नौकरी प्राप्त की।

कुछ वर्षों बाद, वही व्यापारी फिर से गाँव आए और उन्होंने देखा कि अभय ने अपने परिवार के लिए एक सुंदर घर बनवाया था और उनके पास अब सभी सुख-सुविधाएँ थीं। व्यापारी हैरान रह गए और उन्हें एहसास हुआ कि “नंगे का कोई क्या लेगा” कह कर उन्होंने अभय के संकल्प और क्षमता को कम आंका था।

अभय की कहानी यह सिखाती है कि भले ही आपके पास शुरुआत में कुछ न हो, पर अगर आपके पास दृढ़ संकल्प और कड़ी मेहनत की शक्ति है, तो आप किसी भी परिस्थिति को बदल सकते हैं। इस कहानी के माध्यम से “नंगे का कोई क्या लेगा” मुहावरे का गहरा अर्थ समझ में आता है।

शायरी:

जिनके पास नहीं है दौलत के मीनार,

उनसे क्या लेगी ये दुनिया बाजार?

नंगे का कोई क्या लेगा, जब है खाली दामन,

जिंदगी फिर भी चलती है, अपने ही कारवां।

जिन्हें नसीब नहीं थी, ज़मीन की एक चादर,

वो सितारों के तले, बुनते रहे ख्वाब हज़ार।

हौसले उनके कहते हैं, फिक्र ना करो तुम,

नंगे का कोई क्या लेगा जमाना, जब रूह हो गुलज़ार।

दुनिया तलाशती रहे, माल-ओ-जवाहरात की,

जो नंगे पैर चलते हैं, उनके कदम में है बरकत की।

नंगे का कोई क्या लेगा दुनिया, जब होंसला है साथ,

खुदा भी झुकता है उनके सामने, जिनकी नियत है साफ।

गरीबी में भी वो जिये, जैसे बादशाहों का ताज,

नंगे का कोई क्या लेगा जमाना, जब दिल में हो आवाज।

उनके कदमों में है रास्ते, जिन्होंने कभी नहीं मानी हार,

जिनके जीवन में नहीं रौशनी, वो बन गए खुद एक चिराग।

 

नंगे का कोई क्या लेगा शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of नंगे का कोई क्या लेगा – Nange ka koi kya lega Idiom:

Introduction: In the Hindi language, there are many idioms that are connected to various aspects of life. One such significant idiom is “नंगे का कोई क्या लेगा” (What can you take from one who is already bare?). This idiom typically describes a situation where there is no possibility of taking anything away or causing harm to a person, as they already have very little or nothing at all.

Meaning: The literal meaning of this idiom is, “What more can be taken from a person who is already bare?” Here, the term ‘bare’ is used for someone who has nothing left to lose. It symbolizes a state of resourcelessness or poverty.

Usage: This idiom is used in various social and economic contexts. For instance, it can be employed when a person is so poor that taking anything more from them becomes impossible.

Example:

-> Political Context: “The people of that village are so poor that even for politicians making electoral promises, it can be said, ‘What can you take from one who is already bare?'”

-> Business Context: “It is difficult for investors to recover anything from that bankrupt company, what can you take from one who is already bare.”

Conclusion: The idiom “नंगे का कोई क्या लेगा” (What can you take from one who is already bare?) makes a profound commentary on poverty and the lack of resources in Indian society. This idiom brings to light various levels of economic disparities and their impacts in society, thus holding an important place in Indian literature and colloquial language.

Story of ‌‌Nange ka koi kya lega Idiom in English:

In a small village lived a poor boy named Abhay. His family was extremely impoverished, lacking both adequate clothing and sufficient food. Abhay’s life was filled with hardships, but his courage never waned.

One day, some wealthy traders came to his village. They offered to buy the villagers’ lands in exchange for money and property. Most villagers, who owned some land, accepted the offer. However, Abhay’s family had no land to sell.

When the traders saw Abhay’s family, one of them sarcastically remarked, “What can we take from this bare family? They have nothing to lose.” Hearing this, Abhay felt sorrowful but did not lose hope. He resolved to change his situation through hard work and perseverance. Working tirelessly, Abhay completed his education and secured a job in a big company.

Years later, those same traders returned to the village and were astonished to see that Abhay had built a beautiful house for his family, now possessing all comforts of life. The traders realized their mistake in underestimating Abhay’s determination and potential with the remark “What can you take from one who is already bare?”

Abhay’s story teaches that even if you start with nothing, with strong resolve and hard work, you can change any situation. This story brings out the profound meaning of the idiom “नंगे का कोई क्या लेगा” (What can you take from one who is already bare?).

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।