Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » नाम से हाजी वैसे पाजी अर्थ, प्रयोग (Naam se hazi waise paji)

नाम से हाजी वैसे पाजी अर्थ, प्रयोग (Naam se hazi waise paji)

परिचय: हिंदी मुहावरों में “नाम से हाजी वैसे पाजी” एक लोकप्रिय कहावत है। यह मुहावरा उन लोगों पर लागू होता है जो बाहरी रूप से तो बहुत धार्मिक या नैतिक दिखाई देते हैं, लेकिन वास्तव में उनके आचरण में वह गुण नहीं होते हैं।

अर्थ: “नाम से हाजी वैसे पाजी” का शाब्दिक अर्थ है कि नाम से कोई हाजी (धार्मिक व्यक्ति) लग सकता है, लेकिन व्यवहार से वह पाजी (धूर्त या चालाक) होता है। इसका इस्तेमाल उन परिस्थितियों में होता है जब किसी व्यक्ति का बाहरी दिखावा उसके वास्तविक चरित्र से मेल नहीं खाता।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर तब प्रयोग किया जाता है जब किसी व्यक्ति के दोहरे मापदंड या ढोंगी स्वभाव की ओर इशारा करना होता है।

उदाहरण:

-> नियांत को सब बहुत ईमानदार समझते थे, लेकिन जब पता चला कि उसने धोखाधड़ी की है, तब सब ने कहा, “नाम से हाजी वैसे पाजी”।

-> अपने आस-पास के लोगों को नसीहत देने वाला शर्मा जी खुद उन्हीं बुराइयों में लिप्त पाए गए, सच में “नाम से हाजी वैसे पाजी”।

निष्कर्ष: “नाम से हाजी वैसे पाजी” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि हमें किसी के बाहरी दिखावे पर नहीं, बल्कि उसके आचरण और कर्मों पर विचार करना चाहिए। यह हमें यह भी याद दिलाता है कि अक्सर वास्तविकता दिखावे से काफी अलग होती है।

नाम से हाजी वैसे पाजी मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में शर्मा जी नामक एक व्यक्ति रहते थे। गाँव में उनकी छवि एक धार्मिक और सम्मानित व्यक्ति की थी। वे अक्सर मंदिर में पूजा करते और सामाजिक कार्यों में भाग लेते थे।

शर्मा जी का व्यवहार गाँव वालों के लिए आदर्श था। वे अक्सर लोगों को नैतिकता और ईमानदारी की बातें सिखाते। लेकिन, शर्मा जी का एक और पहलू था जो अभी तक किसी को पता नहीं था।

एक दिन, गाँव के एक व्यक्ति ने शर्मा जी को एक बड़ी राशि का घूस लेते हुए देख लिया। यह बात जल्दी ही पूरे गाँव में फैल गई। लोग हैरान थे कि वही शर्मा जी, जो सदैव नैतिकता की बात करते थे, वे खुद भ्रष्टाचार में लिप्त थे।

गाँव वालों ने कहा, “नाम से हाजी वैसे पाजी”। इस घटना से उन्हें समझ में आया कि किसी के व्यवहार का असली मूल्यांकन उसके कर्मों से होता है, न कि केवल बाहरी दिखावे से।

इस कहानी के माध्यम से हमें यह सिखने को मिलता है कि सत्य की परख केवल बाहरी छवि से नहीं, बल्कि व्यक्ति के आचरण और कर्मों से की जानी चाहिए। यह हमें यह भी बताता है कि अक्सर लोग अपने नाम और बाहरी छवि के विपरीत हो सकते हैं।

शायरी:

नाम से हाजी वो बनते हैं, बातों में फरिश्ते,

वैसे पाजी वो हैं, करतूतों में बस्ते।

हर गली की मस्जिद में, वो नमाजी बन जाते हैं,

पर अंधेरे में उनके चेहरे, कुछ और ही बयां करते हैं।

वो दिन में तो सच्चाई के झंडे गाड़ते हैं,

रात को अपने ही धोखे की चादर ओढ़ते हैं।

सिखाते सबको वो दीन और दुनिया की बातें,

पर खुद उलझे हैं अपनी ही मतलबी सौगातों में।

उनके लबों पर तो हर वक्त दुआएँ होती हैं,

मगर दिल में बस अपने फायदे की दुआ गूंजती है।

ये दुनिया भी निराली है, यहाँ नाम और कर्म में फर्क है,

“नाम से हाजी वैसे पाजी”, ये कहावत भी कितनी सच्ची है।

 

नाम से हाजी वैसे पाजी शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of नाम से हाजी वैसे पाजी – Naam se hazi waise paji Idiom:

Introduction: In Hindi idioms, “नाम से हाजी वैसे पाजी” (A saint in name, but a trickster in behavior) is a popular saying. This idiom applies to those who appear very religious or ethical outwardly, but in reality, do not possess those qualities in their conduct.

Meaning: The literal meaning of “नाम से हाजी वैसे पाजी” is that someone may appear to be a ‘Haji’ (a religious person) by name, but in behavior, they are ‘Paji’ (cunning or deceitful). It is used in situations where a person’s outward show does not match their true character.

Usage: This idiom is often used when indicating someone’s double standards or hypocritical nature.

Example:

-> Everyone thought Niyant was very honest, but when it was discovered that he had committed fraud, everyone said, “नाम से हाजी वैसे पाजी” (A saint in name, but a trickster in behavior).

-> Sharma Ji, who advised the people around him, was found indulging in the same vices, truly “नाम से हाजी वैसे पाजी” (A saint in name, but a trickster in behavior).

Conclusion: The idiom “नाम से हाजी वैसे पाजी” teaches us that we should not judge someone by their outward appearance but rather by their conduct and actions. It also reminds us that often reality is quite different from the facade.

Story of ‌‌Naam se hazi waise paji Idiom in English:

In a small village lived a man named Sharma Ji. He was perceived in the village as a religious and respected individual. He often participated in temple prayers and social work.

Sharma Ji’s behavior was considered exemplary by the villagers. He frequently taught people about morality and honesty. However, there was another side to Sharma Ji that no one knew about yet.

One day, a villager saw Sharma Ji accepting a large bribe. This news quickly spread throughout the village. People were shocked that Sharma Ji, who always spoke of ethics, was himself involved in corruption.

The villagers remarked, “नाम से हाजी वैसे पाजी” (A saint in name, but a trickster in behavior). This incident made them realize that the true assessment of a person’s behavior should be based on their actions, not just outward appearances.

This story teaches us that the truth should be judged not by external image, but by a person’s conduct and actions. It also tells us that often people can be contrary to their name and outward image.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।