Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » मुँड़ी हुई भेड़ की तरह अमीर अर्थ, प्रयोग (Mundi hui bhed ki tarah ameer)

मुँड़ी हुई भेड़ की तरह अमीर अर्थ, प्रयोग (Mundi hui bhed ki tarah ameer)

परिचय: “मुँड़ी हुई भेड़ की तरह अमीर” एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है, जो व्यक्ति की अस्थाई संपन्नता या धन की अस्थिरता को दर्शाता है। यह मुहावरा उस स्थिति का वर्णन करता है जब किसी के पास एक समय पर बहुत धन होता है, लेकिन वह जल्दी ही खो देता है।

अर्थ: मुहावरे का अर्थ है कि जिस तरह एक मुँड़ी हुई भेड़ अस्थायी रूप से अधिक वजनी दिखाई देती है लेकिन वास्तव में उसका वजन उसके ऊन के कारण होता है, उसी तरह कुछ लोग अस्थायी रूप से धनवान दिखाई देते हैं।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर उन स्थितियों में प्रयोग किया जाता है, जब किसी के पास अचानक बहुत सारा धन आ जाता है लेकिन वह जल्द ही उसे खो देता है या उसका सही उपयोग नहीं कर पाता।

उदाहरण:

-> सुधीर ने लॉटरी जीतकर रातों-रात बहुत धन प्राप्त किया, लेकिन बिना सोचे समझे उसे खर्च कर दिया और वह “मुँड़ी हुई भेड़ की तरह अमीर” बन गया।

निष्कर्ष: यह मुहावरा हमें सिखाता है कि अस्थायी धन या संपत्ति के पीछे न भागें, क्योंकि यह जल्द ही खत्म हो सकती है। धन का सही और समझदारी से उपयोग करना चाहिए, ताकि वह स्थायी रूप से हमारे साथ बना रहे। “मुँड़ी हुई भेड़ की तरह अमीर” मुहावरा हमें यह भी सिखाता है कि वास्तविक समृद्धि धन में नहीं, बल्कि हमारे चरित्र, नैतिकता और समझदारी में होती है।

मुँड़ी हुई भेड़ की तरह अमीर मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में अभय नाम का एक व्यक्ति रहता था। अभय एक साधारण जीवन जीता था, लेकिन उसके मन में हमेशा अमीर बनने की चाहत रहती थी। एक दिन, उसकी किस्मत ने पलटी मारी और वह एक बड़ी लॉटरी जीत गया। लॉटरी जीतने के बाद अभय रातों-रात अमीर बन गया और उसने अपने सपनों की जिंदगी जीना शुरू कर दिया।

अभय ने महंगी गाड़ियाँ खरीदी, बड़ा घर बनवाया, और लग्ज़री वस्तुओं पर खूब पैसा खर्च किया। वह अपने नए पाए गए धन को दिखाने के लिए हर संभव प्रयास करता। लेकिन अभय ने अपने धन का सही तरीके से प्रबंधन नहीं किया और न ही भविष्य के लिए कोई योजना बनाई।

समय बीतता गया और अभय का धन धीरे-धीरे खत्म होने लगा। उसने जो व्यवसाय शुरू किए थे, वे भी नाकाम रहे क्योंकि उसने उनमें समझदारी से निवेश नहीं किया था। आखिरकार, वह दिन आ गया जब अभय को अपना बड़ा घर और महंगी गाड़ियाँ बेचनी पड़ी। वह वापस उसी साधारण जीवन में लौट आया जहाँ से उसने शुरुआत की थी।

गाँव के लोग अभय की कहानी देखकर कहते, “अभय ‘मुँड़ी हुई भेड़ की तरह अमीर’ था।” उसका धन अस्थायी था और वह उसे बनाए रखने में असफल रहा।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि धन का सही तरीके से प्रबंधन और उसे संजोकर रखना जरूरी है। अस्थायी धन संतोष और स्थायी समृद्धि नहीं ला सकता। सच्ची समृद्धि उस धन में है जो समझदारी से अर्जित और संचित किया गया हो।

शायरी:

अमीरी का जामा पहने, मुँड़ी हुई भेड़ समझा खुद को,

दौलत की चमक में खोया, भूल गया वो अपना रुख़।

कहते हैं धन से खुशी मिलती, मगर यह भी सच है मेरे यार,

असली खुशी की राह में, दौलत नहीं दिल की बात जरूरी है।

दिखावे की दुनिया में, खो गया वो अपनी ही सोच में,

मुँड़ी हुई भेड़ की तरह अमीर, लेकिन दिल से फकीर।

जिंदगी की असली दौलत, नहीं मिलती सोने के सिक्कों में,

जो ढूंढे खुशी इंसानियत में, वही सच्चा अमीर।

चलो छोड़ दें यह खोखला दिखावा, लौट चलें उस असली राह पर,

जहाँ खुशियाँ होती हैं सच्ची, और दिल होता है अमीर।

 

मुँड़ी हुई भेड़ की तरह अमीर शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of मुँड़ी हुई भेड़ की तरह अमीर – Mundi hui bhed ki tarah ameer Idiom:

Introduction: “Mundi hui bhed ki tarah ameer” is a popular Hindi idiom that depicts the instability of wealth or temporary prosperity of an individual. This idiom describes the situation when someone possesses a great deal of wealth at one time, but soon loses it.

Meaning: The meaning of the idiom is similar to how a shorn sheep temporarily appears heavier due to its wool, in the same way, some people appear temporarily wealthy.

Usage: This idiom is often used in situations where someone suddenly acquires a lot of wealth but soon loses it or fails to use it wisely.

Example:

-> Sudhir won a huge amount in the lottery overnight, but without thoughtful expenditure, he ended up being “rich like a shorn sheep.”

Conclusion: TThis idiom teaches us not to chase temporary wealth or possessions, as they can quickly diminish. Wealth should be used wisely and prudently, so it remains with us permanently. The idiom “rich like a shorn sheep” also teaches us that real wealth is not in money but in our character, morality, and wisdom.

Story of ‌‌Mundi hui bhed ki tarah ameer Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a man named Abhay. Abhay led a simple life but always harbored the desire to become wealthy. One day, fortune turned in his favor, and he won a large lottery. Overnight, Abhay became rich and started living the life of his dreams.

Abhay bought expensive cars, built a large house, and spent lavishly on luxury items. He made every effort to flaunt his newfound wealth. However, Abhay did not manage his wealth wisely nor did he plan for the future.

As time passed, Abhay’s wealth gradually began to diminish. The businesses he started also failed because he had not invested in them wisely. Eventually, the day came when Abhay had to sell his large house and expensive cars. He returned to the simple life from which he had started.

The villagers, upon seeing Abhay’s story, said, “Abhay was ‘rich like a shorn sheep’.” His wealth was temporary, and he failed to retain it.

This story teaches us the importance of managing wealth properly and conserving it. Temporary wealth cannot bring lasting satisfaction or prosperity. True wealth lies in money that is wisely earned and accumulated.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।