Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » मूँछें मुँडवाना अर्थ, प्रयोग (Moonchhe mundwana)

मूँछें मुँडवाना अर्थ, प्रयोग (Moonchhe mundwana)

परिचय: हिंदी भाषा की समृद्धि मुहावरों और लोकोक्तियों में निहित है, जो जीवन के विविध आयामों को संजोए रखती हैं। “मूँछें मुँडवाना” एक ऐसा ही मुहावरा है जो व्यक्तिगत पराजय या अपमान की भावनाओं को व्यक्त करता है।

अर्थ: “मूँछें मुँडवाना” का अर्थ है अत्यधिक लज्जा या अपमान का अनुभव करना। मूँछें पुरुषों के सम्मान और गर्व का प्रतीक मानी जाती हैं, इसलिए मूँछें मुँडवाना अपमान की चरम स्थिति को दर्शाता है।

प्रयोग: यह मुहावरा तब प्रयोग में लाया जाता है जब कोई व्यक्ति ऐसी स्थिति में पहुँच जाता है जहाँ उसे गहरी लज्जा या अपमान का सामना करना पड़ता है, खासकर जब उसे अपने किसी कृत्य के लिए सार्वजनिक रूप से शर्मसार होना पड़े।

उदाहरण:

-> जब राजनीतिक दल चुनाव में बुरी तरह हार गया, तो पार्टी के नेता को लगा कि उन्होंने मूँछें मुँडवा ली हैं।

-> जब व्यवसायी ने अपने प्रतिस्पर्धी के सामने बड़ी डील खो दी, तब उसे महसूस हुआ कि उसने मूँछें मुँडवा ली हैं।

निष्कर्ष: “मूँछें मुँडवाना” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि जीवन में परिस्थितियाँ हमेशा हमारे अनुकूल नहीं होतीं। यह हमें यह भी सिखाता है कि अपमान या हार का सामना करने पर विनम्रता और साहस के साथ आगे बढ़ना चाहिए। इस मुहावरे का उपयोग हमें यह भी बताता है कि अपमान की स्थितियों से उबरने की क्षमता हमें और भी मजबूत बनाती है, और यही वास्तविक जीवन की सफलता है।

मूँछें मुँडवाना मुहावरा पर कहानी:

एक समय की बात है, एक छोटे से गाँव में अनुज नाम का एक युवक रहता था। अनुज की शान ही उसकी मूँछें थीं, जिन पर वह अत्यधिक गर्व करता था। वह हमेशा अपनी मूँछों को ताव देता और गाँव के लोगों के सामने अपनी बहादुरी के किस्से सुनाता।

एक दिन गाँव में मेला लगा। अनुज ने घोषणा की कि वह मेले में एक ऐसा करतब दिखाएगा जिसे देखकर सभी लोग उसकी बहादुरी के कायल हो जाएंगे। सभी गाँववाले उत्सुकता से उसके करतब का इंतज़ार करने लगे।

अनुज ने करतब के लिए एक बड़ा और भारी पत्थर चुना और दावा किया कि वह उसे अकेले अपने कंधों पर उठा लेगा। पूरा गाँव उसे देखने के लिए इकट्ठा हो गया। अनुज ने बड़े जोर से पत्थर को उठाने की कोशिश की, परंतु वह हिला भी नहीं सका। एक बार नहीं, कई बार कोशिश करने पर भी जब वह पत्थर को नहीं उठा पाया, तो सभी गाँववाले हंसने लगे।

अनुज के लिए यह एक बड़ी लज्जा की बात थी। उसकी बहादुरी और गर्व की प्रतीक उसकी मूँछें अब उसे अपमानित करने लगीं। उस दिन के बाद, अनुज ने अपनी मूँछें मुँडवा दीं और गाँववालों से माफी मांगी। उसे समझ में आ गया कि असली बहादुरी दिखावे में नहीं, बल्कि सच्चाई और विनम्रता में है।

इस कहानी के माध्यम से, “मूँछें मुँडवाना” मुहावरे का अर्थ स्पष्ट होता है। यह हमें यह सिखाता है कि अहंकार और दिखावा हमें अपमान की स्थिति में ले जा सकते हैं। असली सम्मान और गर्व अपने कर्मों और विनम्रता में होता है, न कि खोखले दावों में।

शायरी:

मूँछों का घमंड था, जब तक नहीं था इम्तिहान का सामना,

मुँडवा बैठे हैं मूँछें, जब से हुआ है अपने अरमानों का ठिकाना।

ख्वाबों में थी शान बड़ी, दुनिया के सामने था दावा खास,

मूँछें मुँडवा बैठे हैं, जब आई ज़िन्दगी की असली आस।

बोले थे जोरों से हम, मैदान में अड़ेंगे हम डट के,

मूँछें मुँडवा बैठे हैं, जब आया वक़्त का झटके।

गुरूर था बहुत अपने आप पे, माना खुद को बहुत बड़ा,

मूँछें मुँडवा बैठे हैं, जब समझ आया, ज़िन्दगी में है क्या खड़ा।

ज़िन्दगी के इस सफर में, अहंकार ने किया है सबसे जुदा,

मूँछें मुँडवा कर ही समझा, विनम्रता में है जीने का असली मज़ा।

 

मूँछें मुँडवाना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of मूँछें मुँडवाना – Moonchhe mundwana Idiom:

Introduction: The richness of the Hindi language lies in its idioms and proverbs, which encapsulate the diverse aspects of life. “मूँछें मुँडवाना” (shaving off one’s mustache) is one such idiom that expresses feelings of personal defeat or humiliation.

Meaning: “मूँछें मुँडवाना” translates to experiencing extreme shame or humiliation. Mustaches are considered symbols of honor and pride for men; thus, shaving them off signifies a state of utmost disgrace.

Usage: This idiom is used when an individual finds themselves in a situation where they face deep shame or humiliation, especially when publicly shamed for their actions.

Example:

-> When the political party suffered a severe defeat in the elections, the party leader felt as if they had “shaved off their mustache.”

-> When the businessman lost a significant deal to a competitor, he felt like he had “shaved off his mustache.”

Conclusion: The idiom “मूँछें मुँडवाना” teaches us that life’s circumstances are not always favorable. It also teaches us that facing humiliation or defeat requires moving forward with humility and courage. The use of this idiom also tells us that the ability to recover from situations of disgrace makes us stronger, and this resilience is the real success in life.

Story of ‌‌Moonchhe mundwana Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a young man named Anuj. Anuj’s pride was his mustache, which he took great pride in. He would always twirl his mustache and narrate tales of his bravery in front of the villagers.

One day, a fair was held in the village. Anuj announced that he would perform a feat at the fair that would make everyone admire his bravery. All the villagers eagerly awaited his performance.

Anuj chose a large and heavy stone for his act and claimed that he would lift it on his shoulders all by himself. The entire village gathered to watch him. Anuj tried hard to lift the stone but couldn’t even move it. Despite several attempts, when he failed to lift the stone, all the villagers started laughing.

It was a moment of great shame for Anuj. His mustache, a symbol of his bravery and pride, now became a source of humiliation for him. After that day, Anuj shaved off his mustache and apologized to the villagers. He realized that true bravery lies not in showoff but in sincerity and humility.

Through this story, the meaning of the idiom “मूँछें मुँडवाना” (shaving off one’s mustache) becomes clear. It teaches us that arrogance and pretense can lead us to a situation of disgrace. Real honor and pride are found in our actions and humility, not in hollow claims.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।