Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » मियाँ की जूती मियाँ के सिर अर्थ, प्रयोग (Miyan ki jooti miyan ke sir)

मियाँ की जूती मियाँ के सिर अर्थ, प्रयोग (Miyan ki jooti miyan ke sir)

परिचय: “मियाँ की जूती मियाँ के सिर” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो किसी के अपने ही काम से खुद को नुकसान पहुँचाने की स्थिति को व्यक्त करता है। यह मुहावरा आमतौर पर तब इस्तेमाल किया जाता है जब किसी व्यक्ति के अपने कार्य या निर्णय उसके खुद के खिलाफ जाते हैं।

अर्थ: “मियाँ की जूती मियाँ के सिर” का अर्थ है कि किसी व्यक्ति के अपने ही कार्यों का परिणाम उसके खुद के लिए नकारात्मक या हानिकारक होता है। यह उन परिस्थितियों को दर्शाता है जहाँ व्यक्ति के अपने निर्णय उसके खिलाफ काम करते हैं।

प्रयोग: इस मुहावरे का उपयोग व्यंग्यात्मक रूप से किया जाता है जब कोई व्यक्ति अपने ही कार्यों के कारण खुद को मुश्किल में डाल लेता है।

उदाहरण:

-> विनीत ने अपने सहकर्मी को नीचा दिखाने की कोशिश की, लेकिन जब मामला बॉस तक पहुँचा, तो उसकी अपनी नौकरी पर बन आई। इसे कहते हैं “मियाँ की जूती मियाँ के सिर।”

-> पारुल ने अपने पड़ोसी के खिलाफ झूठी शिकायत की, लेकिन जब सच सामने आया, तो उसकी अपनी छवि खराब हो गई। यह स्थिति भी “मियाँ की जूती मियाँ के सिर” का उदाहरण है।

निष्कर्ष: “मियाँ की जूती मियाँ के सिर” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि हमें अपने कार्यों और निर्णयों को सोच-समझकर लेना चाहिए। अपने ही कार्यों से खुद को नुकसान पहुँचाना किसी भी तरह से लाभदायक नहीं होता। इसलिए, हमें अपने निर्णयों के परिणामों का ध्यान रखते हुए व्यावहारिक और समझदारी से काम लेना चाहिए।

मियाँ की जूती मियाँ के सिर मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक गाँव में प्रेमचंद्र नाम का एक व्यापारी रहता था। प्रेमचंद्र को अपने चालाकी और चतुराई पर बहुत गर्व था। वह हमेशा दूसरों को नीचा दिखाने और अपने फायदे के लिए उनका इस्तेमाल करने की कोशिश करता था।

एक दिन, प्रेमचंद्र ने अपने प्रतिद्वंद्वी व्यापारी, सुरेंद्र को नीचा दिखाने का एक योजना बनाई। उसने सुरेंद्र के खिलाफ गाँव के मुखिया को झूठी शिकायत कर दी कि सुरेंद्र अनैतिक व्यापार प्रथाओं में लिप्त है। प्रेमचंद्र को लगा कि इससे सुरेंद्र का व्यापार बर्बाद हो जाएगा और वह गाँव का सबसे सफल व्यापारी बन जाएगा।

लेकिन, जब मुखिया ने जांच की तो पता चला कि प्रेमचंद्र की शिकायत में कोई सच्चाई नहीं थी और प्रेमचंद्र ने ही अनैतिक प्रथाओं में लिप्त होने के सबूत मिटाने की कोशिश की थी। इसके परिणामस्वरूप, प्रेमचंद्र का व्यापार बर्बाद हो गया और गाँव के लोगों ने उसे बहिष्कृत कर दिया।

प्रेमचंद्र के इस अनुभव ने गाँव वालों को एक महत्वपूर्ण सबक सिखाया। उन्होंने कहा, “प्रेमचंद्र की जूती प्रेमचंद्र के सिर पर ही पड़ी।” यानी प्रेमचंद्र के अपने ही काम ने उसके खिलाफ काम किया।

इस कहानी से हमें सीखने को मिलता है कि “मियाँ की जूती मियाँ के सिर” मुहावरे का अर्थ है कि अपने ही कामों से खुद को नुकसान पहुँचाना। यह हमें यह भी सिखाता है कि दूसरों के खिलाफ चालाकी और चतुराई का इस्तेमाल करना अंततः हमारे खुद के खिलाफ ही जाता है।

शायरी:

चालाकी से जो चले खुद की राह में,
अक्सर वो ही गिरते हैं अपनी चाल में।
“मियाँ की जूती मियाँ के सिर”, यह कहावत है पुरानी,
खुद के बिछाए जाल में फंसती है अपनी ही कहानी।

जिन्होंने सोचा दूसरों को नीचा दिखाना,
उनकी अपनी किस्मत ने उन्हें रुलाना।
खुद के बुने जाल में फंसना, ये कैसी विडंबना,
खुद के कर्मों से ही होती है, खुद की पहचान गुमनामी में बनना।

चलते चलो इंसान बनकर, चालाकी को छोड़कर,
अपने ही जाल में ना फंसो, यही संदेश है मोड़ पर।
“मियाँ की जूती मियाँ के सिर”, सबक है ये जीवन का,
अपने ही कर्मों का फल, हमें समझना है हर क्षण का।

 

मियाँ की जूती मियाँ के सिर शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of मियाँ की जूती मियाँ के सिर – Miyan ki jooti miyan ke sir Idiom:

Introduction: “Miyan ki jooti miyan ke sir” is a popular Hindi idiom that represents the situation where someone’s own actions cause harm to themselves. This idiom is generally used when a person’s own work or decisions turn against them.

Meaning: “Miyan ki jooti miyan ke sir” means the outcome of a person’s own actions is negative or harmful to themselves. It illustrates situations where a person’s own decisions work against them.

Usage: This idiom is used sarcastically when a person puts themselves in trouble due to their own actions.

Example:

-> Vineet tried to belittle his colleague, but when the matter reached the boss, his own job was at risk. This is called “the shoe on one’s own head.”

-> Parul made a false complaint against her neighbor, but when the truth came out, her own image was tarnished. This situation is also an example of “the shoe on one’s own head.”

Conclusion: The idiom “Miyan ki jooti miyan ke sir” teaches us that we should carefully consider our actions and decisions. Damaging oneself through one’s own actions is not beneficial in any way. Therefore, we should act wisely and practically, keeping in mind the consequences of our decisions.

Story of ‌‌Miyan ki jooti miyan ke sir Idiom in English:

Once upon a time, in a village lived a merchant named Premchand. Premchand prided himself on his cunning and wit. He always tried to belittle others and use them for his own gain.

One day, Premchand devised a plan to demean his rival merchant, Surendra. He falsely complained to the village chief that Surendra was involved in unethical business practices. Premchand thought this would ruin Surendra’s business, making him the most successful merchant in the village.

However, when the chief investigated, it was discovered that Premchand’s complaint had no truth, and it was Premchand who had tried to erase evidence of his own unethical practices. As a result, Premchand’s business was ruined, and he was ostracized by the villagers.

Premchand’s experience taught the villagers an important lesson. They said, “Premchand’s own shoe has fallen on his head.” Meaning, Premchand’s own actions worked against him.

This story teaches us that the idiom “the shoe on one’s own head” means to harm oneself with one’s own actions. It also teaches us that using cunning and wit against others ultimately turns against ourselves.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।