Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » मीठा उत्तर टाले क्रोध अर्थ, प्रयोग (Mitha uttar taale krodh)

मीठा उत्तर टाले क्रोध अर्थ, प्रयोग (Mitha uttar taale krodh)

परिचय: “मीठा उत्तर टाले क्रोध” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जिसका उपयोग अक्सर संवाद और संबंधों में सौहार्द बनाए रखने के महत्व को दर्शाने के लिए किया जाता है। यह मुहावरा यह संदेश देता है कि मीठे और सौम्य उत्तर से किसी भी तरह के क्रोध या गुस्से को शांत किया जा सकता है।

अर्थ: “मीठा उत्तर टाले क्रोध” का अर्थ है कि मधुर और संयमित जवाब देने से विवाद या गुस्से की स्थिति को शांत किया जा सकता है। यह मुहावरा हमें यह सिखाता है कि संवेदनशीलता और समझदारी से किसी भी तनावपूर्ण स्थिति का सामना करना चाहिए।

प्रयोग: इस मुहावरे का उपयोग व्यक्तिगत संबंधों, कार्यस्थल पर संवाद, और सामाजिक इंटरैक्शन में किया जा सकता है जहाँ सौहार्द और समझदारी की आवश्यकता होती है।

उदाहरण:

-> जब ऑफिस में विकास और उसके बॉस के बीच मतभेद हुआ, विकास ने मीठे उत्तर से स्थिति को संभाला और अनावश्यक तनाव से बचा।

-> दो दोस्तों के बीच हुए झगड़े में एक ने मीठे शब्दों का इस्तेमाल किया, जिससे उनकी दोस्ती फिर से मजबूत हो गई।

निष्कर्ष: “मीठा उत्तर टाले क्रोध” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि कठिनाई और गलतफहमी के क्षणों में मधुर भाषा का प्रयोग करना चाहिए। यह संवाद का एक सकारात्मक और प्रभावी तरीका है जो न केवल विवाद को हल करता है बल्कि संबंधों को भी मजबूत करता है। इसलिए, हमें संवाद में सौम्यता और मधुरता को अपनाना चाहिए, ताकि हम एक शांतिपूर्ण और समृद्ध समाज का निर्माण कर सकें।

मीठा उत्तर टाले क्रोध मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में दो पड़ोसी सुभाष और मुनीश रहते थे। दोनों के बीच अक्सर छोटी-मोटी नोकझोंक होती रहती थी। एक दिन की बात है, सुभाष की गेंद गलती से मुनीश के आँगन में चली गई। सुभाष गेंद लेने गया तो मुनीश ने उसे डांट दिया और कहा कि वह अपनी गेंद को संभालकर रखे। सुभाष को मुनीश की बातें बुरी लगीं और वह क्रोधित हो गया।

सुभाष ने तुरंत अपने दिल की भड़ास निकालने की सोची, लेकिन तभी उसकी दादी ने उसे रोका। दादी ने कहा, “बेटा, ‘मीठा उत्तर टाले क्रोध’। अगर तुम मुनीश से मीठे शब्दों में बात करोगे तो शायद वह तुम्हारी बात को समझे और आगे से ऐसा ना हो।”

सुभाष ने दादी की सलाह मानी और मुनीश के पास गया। उसने मुनीश से मीठे शब्दों में कहा, “भैया, मुझे माफ़ कर दो, आगे से मैं ध्यान रखूँगा कि मेरी गेंद तुम्हारे आँगन में ना आए।” मुनीश सुभाष के इस व्यवहार से बहुत प्रभावित हुआ और उसने भी माफ़ी मांग ली।

इस घटना से सुभाष और मुनीश के बीच की दूरियाँ कम हो गईं और दोनों अच्छे दोस्त बन गए। गाँव वाले भी इस घटना को देखकर समझ गए कि वाकई “मीठा उत्तर टाले क्रोध”।

इस कहानी के माध्यम से हमें यह सिखने को मिलता है कि किसी भी तरह के क्रोध या विवाद को मीठे और संयमित शब्दों से हल किया जा सकता है। यह हमें अपने संबंधों को मजबूत और सौहार्दपूर्ण बनाने की प्रेरणा देता है।

शायरी:

क्रोध की आग में, मीठे शब्द बन जाते हैं बारिश,

जहाँ शब्दों का जादू, करे हर दिल को खुश।

जब भी लगे जिंदगी में, कोई तूफान है खड़ा,

‘मीठा उत्तर टाले क्रोध’, यही संदेश हमें याद रहा।

मुश्किलें चाहे जितनी भी, आएं राह में,

मीठा उत्तर ही तो है, सुलझाने की चाबी हर बाह में।

क्रोध के बादल छंट जाते हैं, मीठी बोली से,

समझो तो सही, यही है जीवन की रोशनी से।

कह दो जो दिल से, मीठे शब्दों का सलाम है,

मिल जाएगा जवाब में, सुखद शांति का पैगाम है।

चलो बुनें हम एक दुनिया, जहाँ मीठे उत्तर का बसेरा,

‘मीठा उत्तर टाले क्रोध’, जीवन का यही सबसे सुंदर गहेरा।

 

मीठा उत्तर टाले क्रोध शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of मीठा उत्तर टाले क्रोध – Mitha uttar taale krodh Idiom:

Introduction: “Mitha uttar taale krodh” is a popular Hindi idiom often used to emphasize the importance of maintaining harmony in communication and relationships. This idiom conveys the message that any form of anger or rage can be calmed with sweet and gentle responses.

Meaning: “Mitha uttar taale krodh” implies that disputes or anger can be calmed with polite and restrained answers. This idiom teaches us that any stressful situation should be approached with sensitivity and wisdom.

Usage: This idiom can be applied in personal relationships, workplace communication, and social interactions where harmony and understanding are needed.

Example:

-> When there was a disagreement between Vikas and his boss at the office, Vikas managed the situation with a sweet response, avoiding unnecessary stress.

-> In a quarrel between two friends, one used sweet words, which strengthened their friendship once again.

Conclusion: The idiom “Mitha uttar taale krodh” teaches us that we should use gentle language during moments of difficulty and misunderstanding. It’s a positive and effective way of communication that not only resolves disputes but also strengthens relationships. Therefore, we should adopt gentleness and sweetness in our communication to build a peaceful and prosperous society.

Story of ‌‌Mitha uttar taale krodh Idiom in English:

In a small village, two neighbors named Subhash and Munish lived. They often had minor squabbles. One day, Subhash’s ball accidentally rolled into Munish’s courtyard. When Subhash went to retrieve it, Munish scolded him and told him to keep his ball under control. Subhash felt hurt by Munish’s words and became angry.

Subhash was about to vent his frustration, but his grandmother stopped him. She advised, “Son, ‘A Sweet Response Defuses Anger’. If you speak to Munish with kind words, maybe he will understand your point, and such incidents won’t happen in the future.”

Subhash heeded his grandmother’s advice and approached Munish. He said to Munish in gentle words, “Brother, please forgive me, I will be careful in the future to ensure my ball doesn’t end up in your yard.” Munish was impressed by Subhash’s behavior and apologized as well.

This incident brought Subhash and Munish closer, turning them into good friends. The villagers, witnessing this event, understood the true meaning of “A Sweet Response Defuses Anger”.

Through this story, we learn that any form of anger or dispute can be resolved with sweet and measured words. It inspires us to strengthen and maintain harmony in our relationships.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।