Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » माया आनी-जानी है अर्थ, प्रयोग (Maya aani-jani hai)

माया आनी-जानी है अर्थ, प्रयोग (Maya aani-jani hai)

परिचय: “माया आनी-जानी है” एक प्रसिद्ध हिंदी मुहावरा है जो धन-संपत्ति की अस्थायी प्रकृति को दर्शाता है। यह मुहावरा जीवन की उस वास्तविकता को उजागर करता है जिसमें सांसारिक संपत्ति और भौतिक सुख क्षणभंगुर होते हैं।

अर्थ: “माया आनी-जानी है” का अर्थ है कि धन और संपत्ति आज है, कल नहीं हो सकती। यह जीवन की उस सत्यता को दर्शाता है जहाँ किसी भी चीज़ का स्थायी रूप से बने रहना संभव नहीं है।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर उस समय प्रयोग किया जाता है जब किसी को याद दिलाना होता है कि संसार की सभी चीजें क्षणिक हैं और उनका मोह नहीं करना चाहिए।

उदाहरण:

-> जब सुधीर को लॉटरी में बड़ी रकम मिली, तो उसके दोस्त ने उसे समझाया, “याद रख, माया आनी-जानी है, इसलिए इसे समझदारी से खर्च कर।”

-> कुसुम को जब अपने व्यवसाय में भारी नुकसान हुआ, तो उसके पिता ने ढांढस बंधाते हुए कहा, “माया आनी-जानी है, हमें फिर से प्रयास करना होगा।”

निष्कर्ष: “माया आनी-जानी है” मुहावरा हमें जीवन में भौतिकवादी सोच से परे जाने की प्रेरणा देता है। यह हमें सिखाता है कि वास्तविक सुख और शांति आंतरिक संतोष में है, न कि भौतिक वस्तुओं में। इसलिए, हमें अपनी ऊर्जा और समय को मूल्यवान और सार्थक कार्यों में लगाना चाहिए जो आत्मिक संतुष्टि प्रदान करें।

माया आनी-जानी है मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गांव में अनुभव नाम का एक व्यापारी रहता था। अनुभव का व्यापार बहुत ही सफल था, और उसके पास धन-दौलत की कोई कमी नहीं थी। वह अपनी संपत्ति और वैभव पर बहुत गर्व करता था और अक्सर अपने धन का प्रदर्शन करता रहता था।

एक दिन, अनुभव के व्यापार में भारी नुकसान हुआ, और उसका सारा धन चला गया। वह अचानक से बहुत निराश और दुखी हो गया। उसके मित्र और परिवार ने उसे सांत्वना देने की कोशिश की, लेकिन अनुभव को अपने खोए हुए धन का बहुत दुःख था।

इसी दौरान, गांव के एक बुजुर्ग ने अनुभव से मुलाकात की और उसे समझाया, “बेटा, माया आनी-जानी है। तुम्हारा धन आज है, कल नहीं रह सकता। असली संपदा तो तुम्हारी अच्छाई, तुम्हारा चरित्र और तुम्हारे रिश्ते हैं।”

अनुभव ने बुजुर्ग की बातों पर गौर किया और धीरे-धीरे अपनी सोच बदलने लगा। उसने फिर से व्यापार शुरू किया, लेकिन इस बार उसने धन को जीवन का एकमात्र लक्ष्य नहीं माना। वह अपने समुदाय की मदद करने लगा और अपने रिश्तों को महत्व देने लगा।

अनुभव की कहानी से यह सिख मिलती है कि “माया आनी-जानी है”। असली संपत्ति वह है जो हमें आंतरिक खुशी और संतुष्टि प्रदान करे। भौतिक संपत्ति का मोह छोड़कर, हमें अपने जीवन के असली मूल्यों को पहचानना चाहिए।

शायरी:

माया का जहान है, पर ये आनी-जानी है,
खुशियों की पहचान यहां, बस मोहब्बत ठानी है।

धन दौलत की बाजी में, जीत क्या हार क्या,
असली खजाना तो वही, जो दिल में संजोई जानी है।

आया है सो जाएगा, रुकता नहीं कोई खजाना,
जीवन की इस दौड़ में, बस इंसानियत बचानी है।

खुशियों की खोज में, माया से क्या पाना,
असली सुख तो वही, जो बिना मोल चुकानी है।

 

माया आनी-जानी है शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of माया आनी-जानी है – Maya aani-jani hai Idiom:

Introduction: “माया आनी-जानी है” is a famous Hindi idiom that illustrates the transient nature of wealth and property. This idiom highlights the reality of life where worldly riches and material comforts are fleeting.

Meaning: “माया आनी-जानी है” means that wealth and property exist today and may not be there tomorrow. It reflects the truth of life where nothing can remain permanently.

Usage: This idiom is often used when one needs to remind someone that all things in this world are temporary and one should not be attached to them.

Example:

-> When Sudhir won a large sum in the lottery, his friend advised him, “Remember, wealth is fleeting, so spend it wisely.”

-> When Kusum faced a significant loss in her business, her father consoled her, saying, “Wealth comes and goes, we must try again.”

Conclusion: The idiom “माया आनी-जानी है” inspires us to look beyond materialistic thinking in life. It teaches us that real happiness and peace lie in inner contentment, not in material objects. Therefore, we should invest our energy and time in valuable and meaningful activities that provide spiritual satisfaction.

Story of ‌‌Maya aani-jani hai Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a merchant named Anubhav. Anubhav’s business was very successful, and he lacked nothing in terms of wealth and riches. He took great pride in his assets and often flaunted his wealth.

One day, Anubhav’s business suffered a massive loss, and he lost all his wealth. He became suddenly very disheartened and sad. His friends and family tried to console him, but Anubhav was deeply saddened by the loss of his wealth.

During this time, an elder from the village met Anubhav and explained to him, “Son, wealth is transient. What you have today, may not be there tomorrow. The real treasure is your goodness, your character, and your relationships.”

Anubhav paid attention to the elder’s words and gradually began to change his perspective. He restarted his business, but this time, he did not consider wealth as the sole goal of life. He started helping his community and began to value his relationships more.

Anubhav’s story teaches us that “wealth is transient.” The real wealth is what provides us inner happiness and satisfaction. Leaving behind the attachment to material wealth, we should recognize the real values of our life.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।