Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » मौत के घाट उतारना अर्थ, प्रयोग (Maut ke ghat utarna)

मौत के घाट उतारना अर्थ, प्रयोग (Maut ke ghat utarna)

परिचय: “मौत के घाट उतारना” एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी की हत्या या जान लेने के संदर्भ में किया जाता है। यह मुहावरा गंभीरता और चरम सीमा को दर्शाता है, जहाँ कोई व्यक्ति दूसरे के जीवन को समाप्त कर देता है।

अर्थ: “मौत के घाट उतारना” मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है किसी की जान लेना या हत्या करना। यह अक्सर गंभीर अपराधों या किसी गहरी दुश्मनी के परिणामस्वरूप किए गए कृत्यों के संदर्भ में इस्तेमाल होता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का उपयोग साहित्य, फिल्मों, और दैनिक वार्तालाप में तीव्र भावनाओं या घटनाओं को व्यक्त करने के लिए किया जाता है। यह अक्सर नकारात्मक संदर्भों में प्रयोग होता है, और इसका प्रयोग गंभीर स्थितियों में ही किया जाना चाहिए।

उदाहरण:

एक फिल्म की कहानी में, नायक का दुश्मन उसे और उसके परिवार को बहुत परेशान करता है। अंत में, नायक अपने परिवार की रक्षा करते हुए दुश्मन को “मौत के घाट उतार देता है”।

निष्कर्ष: “मौत के घाट उतारना” मुहावरा भावनाओं और क्रियाओं की गहराई को दर्शाता है। यह जीवन और मृत्यु के बीच के गंभीर संबंध को उजागर करता है और हमें याद दिलाता है कि हिंसा कभी भी समस्याओं का सही समाधान नहीं होती। इस मुहावरे का प्रयोग केवल उन परिस्थितियों में किया जाना चाहिए जहाँ इसकी गंभीरता को समझा जा सके और इसे हल्के में नहीं लिया जाए।

मौत के घाट उतारना मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गांव में दो किसान रहते थे, प्रेमचंद्र और सुभाष। दोनों के बीच जमीन को लेकर विवाद था। प्रेमचंद्र एक शांत स्वभाव का व्यक्ति था, जबकि सुभाष अधिक आक्रामक और लड़ाई-झगड़े में विश्वास रखता था। एक दिन, सुभाष ने गुस्से में आकर प्रेमचंद्र को धमकी दी कि वह उसे “मौत के घाट उतार देगा”।

प्रेमचंद्र ने इसे पहले तो नजरअंदाज किया, लेकिन जब सुभाष की धमकियां बढ़ती गईं, तो उसने इसकी शिकायत गांव के मुखिया से की। मुखिया ने दोनों पक्षों को सुना और समझाया कि विवाद को हिंसा से नहीं, बल्कि बातचीत और समझौते से हल किया जाना चाहिए।

सुभाष, जो पहले “मौत के घाट उतारने” की बात कर रहा था, अब समझ गया कि उसका रवैया गलत था। उसने प्रेमचंद्र से माफी मांगी और दोनों ने मिलकर जमीन के विवाद को शांतिपूर्वक हल किया।

इस कहानी से हमें सीखने को मिलता है कि “मौत के घाट उतारना” जैसे गंभीर कदम उठाने से पहले हमें शांति और समझौते का मार्ग अपनाना चाहिए। विवादों को हल करने के लिए हिंसा कभी भी सही समाधान नहीं होती। बातचीत और समझौता ही सच्चे समाधान की कुंजी हैं।

शायरी:

गलियों में फैली है जब से नफरत की बातें,
“मौत के घाट उतारना” बनी हैं रोज की रातें।
लेकिन ये कौन जानता, हर दिल में है एक जज्बात,
मोहब्बत भी है यहाँ, छुपा कर रखा है जिसे हर बार।

जिंदगी के मेले में, मौत से क्या डरना,
जब तक है सांस में सांस, क्यों न मोहब्बत से भरना?
“मौत के घाट उतारना” का जिक्र क्यों, जब इश्क में है जीना,
क्यों न दिलों को जोड़ें, जब साथ में है बीना।

दुश्मनी में क्या रखा है, जब दोस्ती में है खुशियाँ,
गले लगा ले दुश्मन को, बना ले उसे अपना।
“मौत के घाट उतारना” छोड़, चल पड़ें इश्क के रास्ते,
जहां हर कदम पर, सिर्फ मोहब्बत हो, और न हो कोई वास्ते।

याद रखना, जिंदगी है बेशकीमती, “मौत के घाट उतारना” नहीं,
इसे प्यार से सजाओ, दिलों को दिलों से मिलाओ।
फैलाओ प्यार की बातें, बुनो खुशियों की रातें,
जहां “मौत के घाट उतारना” न हो, सिर्फ मोहब्बत के गीत गाते।

 

मौत के घाट उतारना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of मौत के घाट उतारना – Maut ke ghat utarna Idiom:

Introduction: “Maut ke ghat utarna” is a popular Hindi idiom often used in the context of murdering or taking someone’s life. This idiom reflects seriousness and extremity, where one person ends the life of another.

Meaning: The literal meaning of the idiom “Maut ke ghat utarna” is to take someone’s life or to commit murder. It is often used in the context of serious crimes or as a result of deep enmity.

Usage: This idiom is used in literature, films, and daily conversation to express intense emotions or events. It is often used in negative contexts and should be employed only in serious situations.

Example:

In the story of a film, the hero’s enemy causes a lot of trouble for him and his family. In the end, the hero, protecting his family, “brings the enemy to the ghats of death.”

Conclusion: The idiom “Maut ke ghat utarna” illustrates the depth of emotions and actions. It highlights the grave relationship between life and death and reminds us that violence is never the right solution to problems. This idiom should only be used in situations where its seriousness can be understood and not taken lightly.

Story of ‌‌Maut ke ghat utarna Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived two farmers, Premchand and Subhash. There was a dispute between them over a piece of land. Premchand was a calm-natured person, whereas Subhash was more aggressive and believed in fighting. One day, in a fit of anger, Subhash threatened Premchand that he would “bring him to the ghats of death.”

Initially, Premchand ignored this, but as Subhash’s threats became more frequent, he complained to the village head. The village head listened to both sides and explained that the dispute should not be resolved with violence but through dialogue and compromise.

Subhash, who had initially spoken of “bringing to the ghats of death,” now understood that his attitude was wrong. He apologized to Premchand, and together they peacefully resolved the land dispute.

This story teaches us that before taking serious steps like “bringing someone to the ghats of death,” we should adopt the path of peace and compromise. Violence is never the right solution for resolving disputes. Dialogue and compromise are the keys to a true solution.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।