Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » मखमल में टाट का पैबंद अर्थ, प्रयोग (Makhmal mein taat ka paiband)

मखमल में टाट का पैबंद अर्थ, प्रयोग (Makhmal mein taat ka paiband)

परिचय: “मखमल में टाट का पैबंद” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है, जो अक्सर उस स्थिति का वर्णन करने के लिए प्रयोग किया जाता है जब कुछ अच्छे या सुंदर में एक भद्दा या अनुचित हिस्सा जुड़ जाता है। यह मुहावरा विषमता और असंगति की भावना को दर्शाता है।

अर्थ: इस मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है कि किसी मूल्यवान या सुंदर वस्तु में एक सस्ता या अनुपयुक्त तत्व जोड़ दिया गया है। लाक्षणिक रूप से, यह उस स्थिति को दर्शाता है जहाँ किसी उत्कृष्ट या सुंदर चीज़ में कुछ भद्दा या अयोग्य जोड़ा जाता है, जो समग्र रूप से उसे नकारात्मक बना देता है।

प्रयोग: यह मुहावरा आमतौर पर तब प्रयोग किया जाता है जब कोई उच्च गुणवत्ता या सौंदर्य की वस्तु अनुचित या निम्न स्तर की चीज़ से प्रभावित होती है।

उदाहरण:

-> उस खूबसूरत महल में वह बिना पेंट की दीवार “मखमल में टाट का पैबंद” लग रही थी।

-> राजा के दरबार में सभी योग्य मंत्री थे, लेकिन वह एक अयोग्य मंत्री “मखमल में टाट का पैबंद” था।

निष्कर्ष: “मखमल में टाट का पैबंद” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि कैसे एक अवांछित या अनुचित तत्व पूरे समूह या स्थिति की सुंदरता और महत्व को कम कर सकता है। यह मुहावरा हमें संतुलन और सामंजस्य की महत्ता का भी बोध कराता है। इस प्रकार, यह न केवल भाषा की शोभा बढ़ाता है बल्कि गुणवत्ता और सामंजस्य के महत्वपूर्ण पाठ भी सिखाता है।

मखमल में टाट का पैबंद मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक सुंदर राज्य में एक राजकुमारी रहती थी, जिसका नाम अनन्या था। राजकुमारी अनन्या को बहुत ही सुंदर पोशाकें पहनने का शौक था। उसके पास रेशम और मखमल की पोशाकें थीं, जिन्हें देख कर सभी उसकी प्रशंसा करते थे।

एक दिन, राज्य में एक बड़ा उत्सव होने वाला था। अनन्या ने उस अवसर के लिए एक खास पोशाक बनवाई। वह पोशाक मखमल से बनी थी और उस पर सोने की कढ़ाई थी। लेकिन, जब पोशाक तैयार हुई तो उसमें एक छोटी सी खामी नजर आई। उसमें एक जगह पर मखमल के बजाय टाट का एक टुकड़ा लगा दिया गया था।

जब अनन्या ने पोशाक पहनी, तो सभी की नजरें उसी टाट के टुकड़े पर गईं। पूरी पोशाक बहुत सुंदर थी, लेकिन वह टाट का पैबंद सबका ध्यान खींच रहा था। उस एक छोटी सी खामी ने पूरी पोशाक की शोभा को कम कर दिया था। अनन्या ने महसूस किया कि उस पोशाक को पहनने से उसके रूप की सुंदरता भी कम हो गई थी।

निष्कर्ष:

इस कहानी से हमें सिखने को मिलता है कि कैसे “मखमल में टाट का पैबंद” वाली स्थिति में, एक छोटी सी खामी भी पूरी चीज की सुंदरता और महत्व को कम कर सकती है। यह मुहावरा हमें यह भी बताता है कि समग्रता में सौंदर्य और संतुलन कैसे महत्वपूर्ण होते हैं।

शायरी:

मखमली राहों में जब टाट का पैबंद बन जाए,

ज़िन्दगी के सफर में वो मोड़ अजीब सा लग जाए।

सुनहरे ख्वाबों में एक धब्बा सा क्यों हो,

जब हर खुशी के पीछे, ग़मों का पहरा सा क्यों हो।

खुशियों की चादर में, एक टुकड़ा उदासी का,

जैसे बहारों की बगिया में, एक पत्ता ख़ामोशी का।

महफ़िल में रौशनी हो और एक कोना अंधेरा,

ज़िन्दगी के इस खेल में, हर खुशी हो और एक पहेली सवेरा।

ये जो “मखमल में टाट का पैबंद” है, सिखाता बहुत कुछ है,

जीवन की इस रंगीनी में, हर रंग का मतलब बहुत कुछ है।

 

मखमल में टाट का पैबंद शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of मखमल में टाट का पैबंद – Makhmal mein taat ka paiband Idiom:

Introduction: “Makhmal mein taat ka paiband” is a prevalent Hindi idiom used to describe situations where an unsightly or inappropriate part gets attached to something good or beautiful. This idiom represents a feeling of disparity and incongruity.

Meaning: The literal meaning of the idiom “मखमल में टाट का पैबंद” is adding a cheap or unsuitable element to something valuable or beautiful. Figuratively, it refers to a situation where something excellent or beautiful is marred by adding something ugly or unfit, negatively affecting the whole.

Usage: This idiom is generally used when a high-quality or beautiful object is impacted by an inappropriate or lower-grade item.

Example:

-> The unpainted wall in that beautiful palace was like “a patch of burlap on velvet.”

-> In the king’s court, all the ministers were competent, but that one incompetent minister was “a patch of burlap on velvet.”

Conclusion: The idiom “Makhmal mein taat ka paiband” teaches us how an unwanted or inappropriate element can diminish the beauty and importance of the entire group or situation. It also enlightens us on the importance of balance and harmony. Thus, this idiom not only embellishes the language but also imparts significant lessons on quality and harmony.

Story of ‌‌Makhmal mein taat ka paiband Idiom in English:

Once upon a time, in a beautiful kingdom, there lived a princess named Ananya. Princess Ananya had a fondness for wearing beautiful dresses. She owned dresses made of silk and velvet, which everyone admired.

One day, a grand festival was to be held in the kingdom. Ananya had a special dress made for the occasion. The dress was made of velvet and embroidered with gold. However, when the dress was ready, a small flaw was noticed. A piece of burlap had been mistakenly used in place of velvet at one spot.

When Ananya wore the dress, everyone’s attention was drawn to that piece of burlap. The entire dress was beautiful, but that patch of burlap caught everyone’s eye. That one small flaw diminished the beauty of the entire dress. Ananya felt that wearing the dress also reduced her own beauty.

Conclusion:

This story teaches us how, in situations described by “a patch of burlap on velvet,” even a small flaw can reduce the beauty and importance of the whole thing. The idiom also tells us how beauty and balance are important in totality.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।