Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » मधुर वचन सौ क्रोध नसाई अर्थ, प्रयोग (Madhur vachan sau krodh nasai)

मधुर वचन सौ क्रोध नसाई अर्थ, प्रयोग (Madhur vachan sau krodh nasai)

परिचय: “मधुर वचन सौ क्रोध नसाई” एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है, जो संवाद और व्यवहार में मिठास की शक्ति को रेखांकित करता है। यह मुहावरा हमें यह सिखाता है कि कैसे मधुर भाषा का उपयोग करके हम विवादों को सुलझा सकते हैं और किसी भी स्थिति में शांति स्थापित कर सकते हैं।

अर्थ: “मधुर वचन सौ क्रोध नसाई” का अर्थ है कि मीठे और सौम्य शब्दों का प्रयोग क्रोध और आक्रोश को दूर कर सकता है। यह मुहावरा हमें बताता है कि मधुर भाषा न केवल सामने वाले के दिल को छू लेती है बल्कि उनके क्रोध को भी शांत कर देती है।

प्रयोग: यह मुहावरा व्यक्तिगत संबंधों, कार्यस्थल पर सहकर्मियों के साथ संवाद, और सामाजिक संगठनों में विवादों को सुलझाने के लिए उपयोगी है।

उदाहरण:

-> जब दो दोस्तों के बीच गलतफहमी के कारण झगड़ा हो गया, तो एक ने मधुर वचनों का उपयोग करके स्थिति को शांत किया।

-> एक प्रबंधक ने अपने क्रोधित कर्मचारी को समझाने के लिए मधुर भाषा का सहारा लिया, जिससे कर्मचारी का क्रोध शांत हुआ।

निष्कर्ष: “मधुर वचन सौ क्रोध नसाई” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि शब्दों की मिठास किसी भी तीव्र क्रोध को शांत कर सकती है। यह हमें यह भी बताता है कि संवाद में सौम्यता और मिठास अपनाकर हम न केवल सामने वाले का दिल जीत सकते हैं बल्कि किसी भी विवादित स्थिति को भी सुलझा सकते हैं। इसलिए, अपने व्यवहार में मिठास लाने का प्रयास करें और देखें कैसे यह आपके आसपास के वातावरण को बदल देता है।

मधुर वचन सौ क्रोध नसाई मुहावरा पर कहानी:

एक समय की बात है, एक छोटे से गाँव में दो पड़ोसी सुभाष और मुनीश रहते थे। दोनों के बीच अक्सर छोटी-मोटी नोकझोंक होती रहती थी। एक दिन, उनके बीच की नोकझोंक एक बड़े झगड़े में बदल गई। मुनीश ने सुभाष के खेत में अपने जानवरों को चरने के लिए छोड़ दिया, जिससे सुभाष काफी क्रोधित हो गए।

सुभाष ने मुनीश के घर जाकर उससे इस बात की शिकायत की और दोनों के बीच तीव्र वाद-विवाद होने लगा। मुनीश भी क्रोध में आ गया और दोनों एक-दूसरे को नुकसान पहुँचाने की बात करने लगे।

तभी गाँव के एक बुजुर्ग व्यक्ति ने यह देखा और बीच-बचाव करने के लिए आगे आए। उन्होंने शांत और मधुर वाणी में दोनों को समझाया कि उनकी लड़ाई से न केवल उनके बीच दरार आएगी बल्कि उनके परिवारों के बीच भी तनाव पैदा होगा।

बुजुर्ग ने कहा, “मधुर वचन सौ क्रोध नसाई।” उनके मधुर शब्दों ने दोनों के दिलों को छू लिया और उनका क्रोध शांत हो गया। सुभाष और मुनीश ने एक-दूसरे से माफी मांगी और फिर से अच्छे पड़ोसी के रूप में रहने लगे।

निष्कर्ष:

इस कहानी से हमें सिखने को मिलता है कि मधुर भाषा और सौम्यता से किसी भी तीव्र क्रोध को शांत किया जा सकता है। “मधुर वचन सौ क्रोध नसाई” मुहावरे के माध्यम से हमें यह सिखाया जाता है कि संवाद में मिठास और सौम्यता अपनाकर हम न केवल सामने वाले का दिल जीत सकते हैं बल्कि किसी भी विवादित स्थिति को भी सुलझा सकते हैं।

शायरी:

मधुर वचन में छुपा, जीवन का एक सुनहरा सपना,

क्रोध की आग को बुझाए, वो है सच्चा ज्ञान का खजाना।

कहते हैं “मधुर वचन सौ क्रोध नसाई”,

बातों में मिठास लाओ, दिलों को ऐसे बसाई।

जब भी दिल में उठे तूफान, याद रखना ये बात,

मधुरता से ही मिलती है, हर दिल में एक खास जगह।

शब्दों की ताकत से बड़ी, कोई तलवार नहीं,

मधुर वाणी से ही सुलझे, जीवन की हर पहेली।

जीवन के सफर में, यही सबक याद रखना,

“मधुर वचन सौ क्रोध नसाई”, इसी में है सच्ची समझदारी।

 

मधुर वचन सौ क्रोध नसाई शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of मधुर वचन सौ क्रोध नसाई – Madhur vachan sau krodh nasai Idiom:

Introduction: “Madhur vachan sau krodh nasai” is a popular Hindi idiom that highlights the power of sweetness in communication and behavior. This proverb teaches us how using gentle language can resolve conflicts and establish peace in any situation.

Meaning: The meaning of “Madhur vachan sau krodh nasai” is that the use of gentle and soft words can dispel anger and rage. This proverb tells us that sweet language not only touches the heart of the person in front but also calms their anger.

Usage: This idiom is useful in personal relationships, communication with colleagues at the workplace, and in resolving disputes in social organizations.

Example:

-> When a misunderstanding caused a fight between two friends, one used sweet words to calm the situation.

-> A manager resorted to sweet language to explain to his angry employee, which calmed the employee’s anger.

Conclusion: The idiom “Madhur vachan sau krodh nasai” teaches us that the sweetness of words can calm any intense anger. It also tells us that by adopting gentleness and sweetness in communication, we can not only win the heart of the person in front but also resolve any disputed situation. Therefore, try to bring sweetness into your behavior and see how it transforms the environment around you.

Story of ‌‌Madhur vachan sau krodh nasai Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, lived two neighbors, Subhash and Munish. They often had minor squabbles. One day, their squabble escalated into a major argument. Munish let his animals graze in Subhash’s field, which infuriated Subhash.

Subhash went to Munish’s house to complain, and a fierce argument ensued. Munish, too, became angry, and both started threatening to harm each other.

Just then, an elderly person from the village saw this and stepped forward to mediate. He explained to them in a calm and sweet voice that their fight would not only create a rift between them but also cause tension among their families.

The elder said, “Sweet words can soothe a hundred angers.” His gentle words touched their hearts, and their anger subsided. Subhash and Munish apologized to each other and started living as good neighbors again.

Conclusion:

This story teaches us that gentle language and kindness can calm any intense anger. Through the proverb “Sweet words can soothe a hundred angers,” we are taught that by adopting sweetness and gentleness in communication, we can not only win the heart of the person in front but also resolve any disputed situation.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।