Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » मामला तूल पकड़ना अर्थ, प्रयोग (Maamla tool pakadna)

मामला तूल पकड़ना अर्थ, प्रयोग (Maamla tool pakadna)

परिचय: “मामला तूल पकड़ना” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जिसका उपयोग अक्सर तब किया जाता है जब किसी घटना या विवाद का मामला अधिक गंभीर या विस्तृत हो जाता है। यह मुहावरा उन परिस्थितियों को दर्शाता है जहां एक छोटी सी बात या घटना बड़े विवाद में बदल जाती है।

अर्थ: “मामला तूल पकड़ना” का अर्थ है कि कोई मुद्दा या विवाद उस स्तर तक पहुँच जाए जहाँ उसका समाधान करना कठिन हो जाता है या वह अधिक समय तक चलने लगता है।

प्रयोग: यह मुहावरा राजनीतिक, सामाजिक, व्यक्तिगत या किसी भी तरह के विवादों के संदर्भ में उपयोगी होता है जहाँ मामला अधिक गंभीर बन जाता है।

उदाहरण:

-> नगर निगम के द्वारा किए गए अतिक्रमण हटाओ अभियान ने मामला तूल पकड़ लिया जब स्थानीय व्यापारियों ने इसका विरोध किया।

-> दो सहकर्मियों के बीच की छोटी सी बहस इतनी बढ़ गई कि मामला तूल पकड़ गया और मामला उच्च प्रबंधन तक पहुँच गया।

निष्कर्ष: “मामला तूल पकड़ना” मुहावरा हमें सिखाता है कि छोटी-छोटी बातों या विवादों को बड़ा नहीं बनाना चाहिए और समय रहते उनका समाधान निकालना चाहिए। इससे हमें यह भी समझ आता है कि संवाद और समझौता विवादों को तूल पकड़ने से रोकने के प्रभावी उपाय हैं। अंततः, यह मुहावरा हमें यह याद दिलाता है कि शांति और सद्भाव के साथ मुद्दों का समाधान करना हमेशा बेहतर होता है।

मामला तूल पकड़ना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गांव में सुभाष और मुनीश नाम के दो पड़ोसी रहते थे। दोनों के बीच में एक छोटा सा बगीचा था जिसमें दोनों का साझा अधिकार था। एक दिन, सुभाष ने बगीचे में एक नया पौधा लगाया। मुनीश ने इसे देखा और उसे लगा कि सुभाष ने पौधा उसके हिस्से में लगा दिया है। उसने सुभाष से इस बारे में बात की, लेकिन बातचीत जल्द ही तर्क-वितर्क में बदल गई।

सुभाष और मुनीश के बीच की यह छोटी सी नोकझोंक गांव में तूल पकड़ने लगी। जल्द ही, इस विवाद में उनके परिवार और दूसरे पड़ोसी भी शामिल हो गए। जो मामला एक साधारण समझौते से सुलझ सकता था, वह एक बड़े विवाद में बदल गया।

गांव के मुखिया ने जब यह मामला सुना, तो उन्होंने दोनों पक्षों को बुलाया और बातचीत करवाई। उन्होंने समझाया कि कैसे एक छोटी सी गलतफहमी ने मामला तूल पकड़ लिया और गांव के सद्भाव को प्रभावित किया। अंततः, सुभाष और मुनीश ने अपनी गलतफहमी को दूर किया और माफी मांगकर दोस्ती का हाथ बढ़ाया।

इस कहानी के माध्यम से, “मामला तूल पकड़ना” मुहावरे का अर्थ स्पष्ट होता है। यह दिखाता है कि कैसे छोटी-छोटी गलतफहमियाँ बड़े विवादों का रूप ले सकती हैं और समय रहते उन्हें सुलझाना कितना जरूरी है। यह मुहावरा हमें यह भी सिखाता है कि संवाद और समझौता ही विवादों को तूल पकड़ने से रोकने के सबसे प्रभावी तरीके हैं।

शायरी:

छोटी सी बात पर जब बवाल हो जाता है,
मामला तूल पकड़ लेता है, जब हर दिल घायल हो जाता है।

बातों ही बातों में जब दूरियां बढ़ जाती हैं,
समझौते की राहें जब खुद ही सिमट जाती हैं।

एक छोटी सी चिंगारी से जब आग लग जाती है,
मामला तूल पकड़ता है, जब बात बढ़ जाती है।

ज़रा सी नासमझी, ज़रा सी गलतफहमी,
बन जाती है वजह, जब मिटती नहीं अनबनी।

मगर याद रखना, हर मामला सुलझ सकता है,
बातचीत से हर दूरी, हर गलतफहमी मिट सकती है।

 

मामला तूल पकड़ना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of मामला तूल पकड़ना – Maamla tool pakadna Idiom:

Introduction: “मामला तूल पकड़ना” is a commonly used Hindi idiom, often employed when an incident or dispute becomes more serious or extensive. This idiom depicts situations where a minor matter or event turns into a major controversy.

Meaning: “मामला तूल पकड़ना” means that an issue or dispute escalates to a level where resolving it becomes difficult, or it starts to drag on for a longer time.

Usage: This idiom is useful in the context of political, social, personal, or any kind of disputes where the situation becomes more severe.

Example:

-> The anti-encroachment campaign initiated by the municipal corporation escalated when local traders protested against it.

-> A small argument between two colleagues escalated so much that it reached the higher management.

Conclusion: The idiom “मामला तूल पकड़ना” teaches us not to magnify small matters or disputes and to resolve them timely. It also shows us that dialogue and compromise are effective measures to prevent disputes from escalating. Ultimately, this idiom reminds us that resolving issues peacefully and harmoniously is always better.

Story of ‌‌Maamla tool pakadna Idiom in English:

In a small village, there lived two neighbors named Subhash and Munish. Between their houses was a small garden in which both had shared rights. One day, Subhash planted a new plant in the garden. Munish saw this and thought that Subhash had planted it on his part of the garden. He talked to Subhash about it, but the conversation quickly turned into an argument.

This minor squabble between Subhash and Munish began to escalate in the village. Soon, their families and other neighbors also got involved. What could have been resolved with a simple compromise turned into a major dispute.

When the village head heard about this matter, he called both parties for a discussion. He explained how a small misunderstanding had escalated and affected the harmony of the village. Eventually, Subhash and Munish cleared their misunderstanding, apologized, and extended a hand of friendship to each other.

Through this story, the meaning of the idiom “मामला तूल पकड़ना” becomes clear. It shows how small misunderstandings can turn into big disputes and how important it is to resolve them timely. This idiom also teaches us that dialogue and compromise are the most effective ways to prevent disputes from escalating.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।