Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » लाला भइया करना अर्थ, प्रयोग(Lala bhaiya karna)

लाला भइया करना अर्थ, प्रयोग(Lala bhaiya karna)

परिचय: “लाला भइया करना” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है, जिसका प्रयोग व्यक्ति विशेष की चापलूसी या खुशामद करने के संदर्भ में किया जाता है। यह मुहावरा उन परिस्थितियों में प्रयोग होता है, जब कोई अपने निजी स्वार्थ या लाभ के लिए किसी की अत्यधिक प्रशंसा या चापलूसी करता है।

अर्थ: “लाला भइया करना” का मतलब है किसी की बेवजह की चापलूसी करना या उसकी अनावश्यक प्रशंसा करना। यह आमतौर पर तब किया जाता है जब कोई व्यक्ति अपने निजी हितों की पूर्ति के लिए किसी अधिकारी, बॉस या अन्य महत्वपूर्ण व्यक्ति की चापलूसी करता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का इस्तेमाल आमतौर पर व्यंग्यात्मक या हास्यास्पद परिस्थितियों में किया जाता है, जहां किसी की चापलूसी करने की प्रवृत्ति को उजागर किया जाता है।

उदाहरण:

-> मुनीश अपने बॉस की हर छोटी-बड़ी बात पर “लाला भइया” करता रहता है, ताकि उसे प्रमोशन मिल सके।

-> अभय ने अपने सीनियर को खुश करने के लिए उनकी बेजा तारीफ की, यानि “लाला भइया” का खेल खेला।

निष्कर्ष: “लाला भइया करना” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि खुशामद या चापलूसी अक्सर असत्य और छद्म व्यवहार की निशानी होती है। यह हमें यह भी बताता है कि वास्तविक और ईमानदार संबंधों की अपेक्षा खुशामदी रिश्ते अक्सर सतही और अस्थायी होते हैं।

Hindi Muhavare Quiz

लाला भइया करना मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से शहर में अनुज नाम का एक युवा व्यापारी रहता था। अनुज अपने व्यापार में कुछ नया करने की इच्छा रखता था, लेकिन उसके पास न तो पर्याप्त पूंजी थी और न ही सही मार्गदर्शन। एक दिन उसके शहर में एक बड़े व्यापारी, मिस्टर शर्मा आए, जिनकी प्रतिष्ठा और व्यापारिक सफलता के चर्चे चारों ओर थे।

अनुज ने सोचा कि यदि वह मिस्टर शर्मा का ध्यान अपनी ओर खींच पाया तो शायद उसके व्यापार को भी एक नया मोड़ मिल सकता है। इसलिए उसने मिस्टर शर्मा की हर बात पर हाँ में हाँ मिलाना शुरू कर दिया। चाहे मिस्टर शर्मा कुछ भी कहें, अनुज उनकी प्रशंसा के पुल बांधने लगता। वह हर मौके पर “लाला भइया” करने लगा।

धीरे-धीरे, मिस्टर शर्मा ने अनुज की इस खुशामद को पहचान लिया। उन्होंने अनुज को समझाया कि सफलता और सहयोग खुशामद से नहीं, बल्कि सच्ची मेहनत, ईमानदारी और विश्वसनीयता से मिलती है। अनुज ने अपनी गलती समझी और फिर से अपनी मेहनत पर ध्यान केंद्रित किया। अंततः, उसकी मेहनत और सच्चाई ने उसे सफलता दिलाई और मिस्टर शर्मा ने भी उसे अपने व्यापार में सहयोगी बना लिया।

इस कहानी से हमें सिखने को मिलता है कि “लाला भइया करना” यानि खुशामद करने से अस्थायी लाभ तो मिल सकता है, लेकिन दीर्घकालिक सफलता और सम्मान के लिए ईमानदारी, सच्चाई और मेहनत जरूरी है।

शायरी:

खुशामद की दुनिया में, लाला भइया कहकर,

अपनी मेहनत को छोड़ा, चालाकी से बहकर।

दूर तक जाने की चाह में, खुद को भूला बैठा,

सच का दामन छोड़कर, ख्वाबों में पला बैठा।

आईना जब सच बोले, तो मन खुद से रूठा,

लाला भइया करने से, किस्मत भी है छूठा।

असली राह पर चलने का, फिर एक फैसला किया,

मेहनत की राह पर चलकर, सपने को सजीव किया।

जिंदगी की इस दौड़ में, सच की है एक बात,

लाला भइया करने से, नहीं मिलती है सौगात।

ईमानदारी से जीता है, जो दिल से करता काम,

वही सच्चा व्यापारी, उसी का जग में नाम।

 

लाला भइया करना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of लाला भइया करना – Lala Bhaiya Karna Idiom:

Introduction: “लाला भइया करना” (Lala Bhaiya Karna) is a popular Hindi idiom used to describe the act of flattery or excessive praise, often done for personal gain or to achieve a specific goal. This idiom is commonly used to highlight situations where someone is flattering a superior, boss, or an important person excessively, usually for selfish reasons.

Meaning: The literal meaning of “लाला भइया करना” is to indulge in unwarranted flattery or to excessively praise someone. It is typically used when a person flatters someone in a position of authority or importance to fulfill personal interests or goals.

Usage: This idiom is often used in a sarcastic or humorous context to expose someone’s tendency to flatter. It can be seen in situations where people try to curry favor with those in power through insincere compliments and praise.

Usage:

-> Munish constantly flatters his boss over every little thing, trying to “लाला भइया” his way to a promotion.

-> Abhay played the “लाला भइया” game by excessively praising his senior to win their favor.

Conclusion: The idiom “लाला भइया करना” teaches us that flattery or sycophancy often represents dishonest and deceptive behavior. It also suggests that relationships based on flattery are typically superficial and temporary compared to genuine and honest connections.

Story of ‌‌Lala Bhaiya Karna Idiom in English:

Once upon a time, in a small town, there lived a young businessman named Anuj. Anuj aspired to do something new in his business, but he lacked sufficient capital and proper guidance. One day, a renowned businessman, Mr. Sharma, visited his town. Mr. Sharma was well-known for his reputation and business success.

Anuj thought that if he could attract Mr. Sharma’s attention, it might give his business a new direction. Therefore, he began to agree with everything Mr. Sharma said. No matter what Mr. Sharma spoke, Anuj would excessively praise him and started flattering him at every opportunity, engaging in what is known as “लाला भइया करना” in Hindi.

Gradually, Mr. Sharma recognized Anuj’s flattery. He explained to Anuj that success and cooperation are earned through genuine hard work, honesty, and reliability, not flattery. Anuj realized his mistake and refocused on his hard work. Eventually, his honesty and diligence brought him success, and Mr. Sharma even partnered with him in his business.

This story teaches us that while “लाला भइया करना” or flattery might bring temporary benefits, long-term success and respect require honesty, truthfulness, and hard work.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

लाला भइया करने का उपाय क्या हो सकता है?

लोगों को सतर्क रहना और अपने आस-पास की घटनाओं का ध्यान रखना इसे बचने का एक तरीका हो सकता है।

इस मुहावरे का उपयोग किस सीतुएशन में हो सकता है?

इसे किसी को छल करने या किसी को धोखा देने की स्थिति में प्रयुक्त किया जा सकता है।

लाला भइया करना मुहावरा का क्या अर्थ है?

लाला भइया करना एक हिंदी मुहावरा है जिसका अर्थ होता है किसी को ठगना या धोखा देना।

इस मुहावरे का उपयोग कहां तक हो सकता है?

यह मुहावरा विभिन्न स्थानों और परिस्थितियों में उपयोग किया जा सकता है, जहां धोखा देने की कोशिश होती है।

क्या लाला भइया करना सामाजिक समस्याओं का कारण बन सकता है?

हाँ, यदि लोग एक-दूसरे के साथ विश्वासघात करते हैं, तो यह सामाजिक समस्याएं उत्पन्न कर सकती हैं।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।