Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » कूप मंडूक होना अर्थ, प्रयोग(Koop mandook hona)

कूप मंडूक होना अर्थ, प्रयोग(Koop mandook hona)

परिचय: “कूप मंडूक होना” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो एक व्यक्ति की सीमित ज्ञान और अनुभव की स्थिति को दर्शाता है। इस मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है – एक कुएं में रहने वाला मेंढक। यह उस व्यक्ति की बानगी प्रस्तुत करता है जो केवल अपने सीमित परिवेश या अनुभवों को ही सब कुछ मान लेता है।

अर्थ: इस मुहावरे का अर्थ है कि कोई व्यक्ति अगर अपने छोटे से दायरे में ही सीमित रहता है, तो वह बड़ी और विस्तृत दुनिया के बारे में नहीं जान पाता। ऐसे व्यक्ति अपने संकीर्ण दृष्टिकोण के कारण व्यापक अवसरों और ज्ञान से वंचित रह जाते हैं।

प्रयोग:

-> जब कोई व्यक्ति अपने संकुचित विचारों के चलते नए अनुभवों को अपनाने में हिचकिचाता है।

-> जब किसी का ज्ञान केवल एक सीमित क्षेत्र तक ही सीमित रहता है और वह बाहरी दुनिया से अनजान रहता है।

उदाहरण:

-> विकास को अपने गाँव से बाहर कुछ भी नहीं पता, वह सच में ‘कूप मंडूक’ है।

-> लक्ष्मी ने कभी शहर नहीं देखा, इसलिए वह कई मामलों में ‘कूप मंडूक’ जैसी है।

निष्कर्ष: ‘कूप मंडूक होना’ मुहावरा हमें यह सिखाता है कि हमें अपने ज्ञान और अनुभवों को सीमित नहीं रखना चाहिए। हमें नए विचारों और अनुभवों को अपनाने की कोशिश करनी चाहिए ताकि हमारी समझ और ज्ञान में वृद्धि हो सके। यह मुहावरा हमें बताता है कि विशाल और विविध दुनिया की समझ के लिए हमें अपने संकुचित दायरे से बाहर निकलना चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

कूप मंडूक होना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में प्रथम नाम का एक लड़का रहता था। प्रथम का जीवन उसके गाँव और उसके छोटे से खेत तक ही सीमित था। उसने कभी गाँव की सीमा से बाहर कदम नहीं रखा था। उसकी दुनिया उसके गाँव और खेतों तक ही सीमित थी।

एक दिन, गाँव में एक पढ़े-लिखे युवक ने आकर गाँववालों को बताया कि शहर में नए अवसर और नई तकनीकें आ रही हैं, जो खेती को अधिक लाभदायक बना सकती हैं। उसने गाँववालों को शहर जाकर इन नई तकनीकों को सीखने का सुझाव दिया।

प्रथम ने सुना तो उसने इसे बेकार समझा और कहा, “हमारे पुरखों ने जो तरीके सिखाए हैं, वे ही काफी हैं। नई तकनीकें सिर्फ समय और पैसे की बर्बादी हैं।” इस तरह प्रथम ने शहर जाने का मौका ठुकरा दिया।

अन्य युवा, जो शहर गए थे, उन्होंने नई तकनीकें सीखीं और अपने खेतों में उन्हें लागू किया। उनकी फसलों की पैदावार और आय में बड़ा सुधार हुआ।

जब प्रथम ने देखा कि शहर गए युवा कितने सफल हो रहे हैं, तो उसे अपनी गलती का एहसास हुआ। उसने महसूस किया कि उसके ‘कूप मंडूक’ बने रहने के कारण उसने बहुत कुछ खो दिया।

इस कहानी से हमें सीख मिलती है कि ‘कूप मंडूक’ बनकर रहने से हम जीवन के बड़े और महत्वपूर्ण अवसरों को खो देते हैं। हमें अपने संकुचित विचारों और दायरे से बाहर निकलकर नई चीजों को सीखना और अपनाना चाहिए। यही ‘कूप मंडूक’ मुहावरे का सार है।

शायरी:

छोटी सी दुनिया में, बंद अपने ख्यालों में,

कूप मंडूक सी सोच, रह गए हम उन्हीं गलियों में।

नयी राहों की ओर, जब कभी नजरें उठाईं,

महसूस हुआ खुद को, उसी पुराने कुएं का पानी।

हर रोज़ वही राहें, वही पुरानी चाहें,

सपनों की दुनिया में, कहीं खो गई वो नई राहें।

अपनी ही सोच में, बंदी बना लिया खुद को,

जीवन के विशाल सागर में, ठहरा रहा ये छोटा सा बुदबुद।

कहते हैं दुनिया, बहुत कुछ है देखने को,

पर इस कुएं की चार दीवारों में, कैद है मेरे सपने रो रो।

उड़ने को है पंख पर, डर लगता है आसमान से,

कूप मंडूक की तरह, अनजान हूँ मैं उस उन्मुक्त गगन से।

लेकिन अब ठान लिया है, तोड़ दूँगा ये दीवारें,

नई दुनिया की ओर, करूँगा अपनी नज़रें चारे।

जिंदगी की इस दौड़ में, नहीं रहूँगा पीछे अब,

‘कूप मंडूक’ की तरह, नहीं बनूँगा मैं कभी खुद से रब।

 

कूप मंडूक होना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of कूप मंडूक होना – Koop Mandook Hona Idiom:

Introduction: “Koop Mandook Hona” is a prevalent Hindi idiom that illustrates the condition of a person having limited knowledge and experience. The literal meaning of this idiom is – a frog living in a well. It exemplifies a person who considers their limited environment or experiences as everything.

Meaning: The idiom means that if a person remains confined within their small sphere, they fail to understand the broader and more expansive world. Such individuals, due to their narrow perspective, miss out on extensive opportunities and knowledge.

Usage:

-> When a person hesitates to embrace new experiences due to their constricted thoughts.

-> When someone’s knowledge is limited only to a specific area and they remain unaware of the outside world.

Usage:

-> Vikas knows nothing beyond his village; he truly is a ‘Koop Mandook.’

-> Lakshmi has never seen a city, hence in many aspects, she is like a ‘Koop Mandook.’

Conclusion: The idiom ‘Koop Mandook Hona’ teaches us that we should not limit our knowledge and experiences. We should strive to embrace new ideas and experiences to enhance our understanding and knowledge. This idiom tells us that to comprehend the vast and diverse world, we need to step out of our limited boundaries.

Story of ‌‌Koop Mandook Hona Idiom in English:

In a small village, there lived a boy named Pratham. His life was confined to his village and his small farm. He had never stepped beyond the boundaries of his village. His world was limited to his village and fields.

One day, an educated young man came to the village and informed the villagers about new opportunities and technologies emerging in the city that could make farming more profitable. He suggested that the villagers go to the city to learn these new techniques.

When Pratham heard this, he dismissed it as useless and said, “The methods taught by our ancestors are sufficient. New technologies are just a waste of time and money.” In this way, Pratham refused the opportunity to go to the city.

The other youths who went to the city learned these new techniques and implemented them in their fields. They saw a significant improvement in the yield and income from their crops.

When Pratham saw how successful the youths who went to the city were becoming, he realized his mistake. He felt that his remaining a ‘Koop Mandook’ (frog in a well) had made him lose out on a lot.

This story teaches us that by being a ‘Koop Mandook,’ we lose out on significant and important opportunities in life. We should step out of our constricted thoughts and boundaries to learn and adopt new things. This is the essence of the idiom ‘Koop Mandook.’

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

यह मुहावरा किस प्रकार से उत्पन्न हुआ है?

कूप मंडूक होना” मुहावरा संस्कृत शब्दों से आया है जिसमें “कूप” का तात्पर्य एक गड्ढे या खुदाई से है, और “मंडूक” का मतलब मेंढ़ा है।

इस मुहावरे का उपयोग किस परिस्थिति में हो सकता है?

“कूप मंडूक होना” का अच्छा उपयोग उन लोगों के लिए हो सकता है जो अपनी अव्वल योजनाओं में गड़बड़ करते हैं।

कूप मंडूक होना” का अर्थ क्या होता है?

कूप मंडूक होना” का मतलब होता है अपने ही घर को बिगाड़ना या अपनी खुदाई में फंस जाना।

कूप मंडूक होने से कैसे बचा जा सकता है?

एक व्यापारी जो अपने निवेशों में गड़बड़ करता है और अपना व्यापार बर्बाद करता है, उसे कहा जा सकता है कि उसने “कूप मंडूक हो लिया है”।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।