Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » खरामा खरामा चलना अर्थ, प्रयोग (Kharama kharama chalna)

खरामा खरामा चलना अर्थ, प्रयोग (Kharama kharama chalna)

परिचय: हिंदी भाषा में मुहावरे भाषा की रंगीनी और विविधता को दर्शाते हैं। “खरामा खरामा चलना” एक ऐसा ही मुहावरा है जो व्यक्ति के चलने की शैली या उसके व्यवहार को व्यक्त करता है।

अर्थ: “खरामा खरामा चलना” का अर्थ होता है बहुत धीरे और आराम से चलना, जैसे कोई संभल-संभल कर या अकड़ कर चल रहा हो। इस मुहावरे का इस्तेमाल उस स्थिति में किया जाता है जब कोई व्यक्ति आत्मविश्वास और आराम से चलता है।

प्रयोग: यह मुहावरा उन परिस्थितियों में प्रयोग होता है जहां किसी व्यक्ति का चलने का तरीका आत्मविश्वास या घमंड को दर्शाता हो। इसे अक्सर उन लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाता है जो अपने आप को दूसरों से बेहतर समझते हैं।

उदाहरण:

-> जब भी अभय कॉलेज में प्रवेश करता है, वह “खरामा खरामा चलता” है, मानो पूरी कॉलेज उसकी हो।

-> फिल्म स्टार को देखो, वह हमेशा “खरामा खरामा चलते” हैं, जैसे वह सबसे अलग हों।

निष्कर्ष: “खरामा खरामा चलना” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि कभी-कभी लोग अपने आत्मविश्वास या घमंड के कारण एक खास तरीके से चलते हैं। यह चलने की शैली उनके व्यक्तित्व और आत्म-छवि को दर्शाती है। इस मुहावरे का प्रयोग उन स्थितियों में होता है जहां व्यक्ति दिखावटी या अतिरिक्त आत्मविश्वास के साथ चलता है। यह हमें यह भी सिखाता है कि हमें अपने आत्मविश्वास को सकारात्मक रूप में प्रयोग करना चाहिए और घमंड से बचना चाहिए। इस प्रकार, “खरामा खरामा चलना” मुहावरा हमें आत्मविश्वास और घमंड के बीच के अंतर को समझने में मदद करता है।

Hindi Muhavare Quiz

खरामा खरामा चलना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से शहर में विशाल नाम का एक युवक रहता था। वह बहुत ही आत्मविश्वासी और अपने आप में मगरूर था।

विशाल ने हाल ही में एक प्रतिष्ठित कंपनी में नौकरी पाई थी। नौकरी पाने के बाद उसका चलने का तरीका बदल गया। वह अब “खरामा खरामा चलता” था, मानो वह सबसे बड़ा और सबसे अधिक जानने वाला हो। उसका यह अंदाज उसके दोस्तों और परिवार को अखरने लगा।

एक दिन कंपनी में एक बड़ी समस्या आ गई। विशाल ने तुरंत उसे सुलझाने की पेशकश की, अपने उसी “खरामा खरामा” अंदाज में। लेकिन उसका आत्मविश्वास उसे गलत दिशा में ले गया, और वह समस्या को और बढ़ा बैठा।

इस घटना ने विशाल को एक महत्वपूर्ण सबक सिखाया। उसे समझ आया कि सिर्फ आत्मविश्वास ही काफी नहीं होता, उसे विनम्रता और वास्तविकता की समझ भी होनी चाहिए। उसने अपने व्यवहार में सुधार किया और फिर से अपने सहकर्मियों और दोस्तों का सम्मान पाया।

विशाल की कहानी “खरामा खरामा चलने” के मुहावरे का अर्थ स्पष्ट करती है। यह बताती है कि कैसे आत्मविश्वास के साथ-साथ विनम्रता और यथार्थवादिता भी महत्वपूर्ण होती है। आत्मविश्वास और घमंड के बीच का फर्क समझना जीवन में बहुत आवश्यक है।

शायरी:

चलता हूँ ‘खरामा खरामा’, अपनी दुनिया में मगन,
जैसे हर कदम पे, खुदा से हो कोई संवाद।
हर गली, हर चौराहे पे, मेरी चाल का असर,
मानो जिंदगी का हर पल, मेरी मुट्ठी में हो याद।

‘खरामा खरामा चलने’ में, कुछ तो बात है खास,
जैसे हर कदम खुद में, एक कहानी बयान करता है।
लेकिन ये चाल है क्या, बस एक फ़साना या हकीकत,
क्योंकि जब असलियत आईने में दिखती है, तो इंसान डरता है।

चलते चलते ‘खरामा खरामा’, कभी ठहर जाना चाहिए,
खुद को जानने का, कभी वक्त निकालना चाहिए।
आईने में खुद को देख, सच का सामना करना चाहिए,
क्योंकि जिंदगी में खुद से बड़ा, कोई राजदार नहीं होता।

 

खरामा खरामा चलना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of खरामा खरामा चलना – Kharama kharama chalna Idiom:

Introduction: Idioms in the Hindi language illustrate its vibrancy and diversity. “खरामा खरामा चलना” is one such idiom that describes a person’s style of walking or their behavior.

Meaning: “खरामा खरामा चलना” means to walk very slowly and leisurely, as if someone is walking carefully or with a swagger. This idiom is used when a person walks with confidence and ease.

Usage: This idiom is used in situations where a person’s way of walking reflects confidence or arrogance. It is often used for those who consider themselves superior to others.

Example:

-> Whenever Abhay enters the college, he walks “खरामा खरामा,” as if the whole college belongs to him.

-> Look at the film star, he always walks “खरामा खरामा,” as if he is different from everyone else.

Conclusion: The idiom “खरामा खरामा चलना” teaches us that sometimes people walk in a certain way due to their confidence or arrogance. This style of walking reflects their personality and self-image. The idiom is used in situations where a person walks with ostentatious or extra confidence. It also teaches us that we should use our confidence positively and avoid arrogance. Thus, “खरामा खरामा चलना” helps us understand the difference between confidence and arrogance.

Story of ‌‌Kharama kharama chalna Idiom in English:

In a small town, there lived a young man named Vishal. He was very confident and somewhat arrogant.

Vishal recently got a job in a prestigious company. After getting the job, his way of walking changed. He now walked “खरामा खरामा” (slowly and pompously), as if he was the most important and knowledgeable person around. This attitude started to irk his friends and family.

One day, a big problem arose at the company. Vishal immediately offered to solve it, in his usual “खरामा खरामा” style. However, his overconfidence led him in the wrong direction, and he ended up exacerbating the problem.

This incident taught Vishal an important lesson. He realized that confidence alone is not enough; he also needed to have humility and a sense of reality. He improved his behavior and regained the respect of his colleagues and friends.

Vishal’s story clarifies the meaning of the idiom “खरामा खरामा चलना.” It shows that along with confidence, humility and realism are also important. Understanding the difference between confidence and arrogance is essential in life.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या इस मुहावरे के अन्य संबंधित मुहावरे हैं?

हां, ‘खराबी में होना’, ‘अनुचित रूप से काम करना’ जैसे मुहावरे इसके संबंधित हैं।

क्या ‘खरामा खरामा चलना’ का वास्तविक उदाहरण दिया जा सकता है?

हां, जैसे कि कोई व्यक्ति अपने काम को ध्यानपूर्वक नहीं करता और उसके परिणामों का प्रभाव दूसरों पर पड़ता है, वैसे ही ‘खरामा खरामा चलना’ का एक उदाहरण हो सकता है।

क्या मुहावरा ‘खरामा खरामा चलना’ का अर्थ है?

यह मुहावरा किसी काम को अनुचित तरीके से करने का अर्थ देता है।

इस मुहावरे का उपयोग किस संदर्भ में किया जाता है?

यह मुहावरा अक्सर किसी गैर ठीक तरीके से किये गए कार्य को नकारने के लिए प्रयोग किया जाता है।

क्या ‘खरामा खरामा चलना’ का उपयोग साहित्य में होता है?

हां, यह मुहावरा साहित्य में भी उपयोग किया जाता है जब किसी कार्य को गैर ठीक तरीके से किया गया हो।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।