Budhimaan

Budhimaan Logo
Home » Hindi Muhavare » कलेजा छलनी होना, अर्थ, प्रयोग(Kaleja chalni hona)

कलेजा छलनी होना, अर्थ, प्रयोग(Kaleja chalni hona)

गौरी की चित्र, कलेजा छलनी होना चित्र, हिंदी मुहावरे इल्लुस्ट्रेशन, गाँव का दृश्य, भावनात्मक चित्र

परिचय: हर भाषा में कुछ ऐसे मुहावरे होते हैं, जिन्हें समझने के लिए उस भाषा की गहरी समझ होनी चाहिए। हिंदी भाषा में भी कई ऐसे मुहावरे हैं, और आज हम बात करेंगे “कलेजा छलनी होना” मुहावरे की।

अर्थ: “कलेजा छलनी होना” इस मुहावरे का अर्थ है अत्यधिक दुःखी होना या अधिक परेशानी महसूस करना। जैसे छलनी में अनेक छेद होते हैं, ठीक वैसे ही किसी के मन में बहुत सारी बातें होती हैं जो उसे परेशान करती हैं।

प्रयोग: जब किसी की मासूम भावनाओं का सम्मान नहीं किया जाता या वह किसी बड़ी समस्या का सामना कर रहा हो, तो उसकी स्थिति को व्यक्त करने के लिए इस मुहावरे का प्रयोग किया जाता है।

उदाहरण:

-> अनुज के पिता की मौत के बाद उसका कलेजा छलनी हो गया।

विशेष टिप्पणी: “कलेजा छलनी होना” इस मुहावरे का प्रयोग अक्सर उस समय होता है जब किसी को अधिक मात्रा में दुःख या पीड़ा हो। जीवन के कठिनाइयों और उतार-चढ़ाव में, कई बार हमें ऐसी स्थितियों का सामना करना पड़ता है, जब हमें अपनी भावनाओं और दुःख को शब्दों में व्यक्त करने में कठिनाई होती है। इसलिए, इस तरह के मुहावरों का प्रयोग हमारे भावनाओं को अधिक प्रभावशाली तरीके से प्रकट करने में मदद करता है।

निष्कर्ष: जब भी हमें अपनी गहरी और दर्द भरी भावनाओं को व्यक्त करना हो, “कलेजा छलनी होना” जैसे मुहावरे हमें उस भावना को सही तरीके से प्रकट करने में मदद करते हैं। यह हमें यह समझाता है कि भाषा की शक्ति कितनी प्रभावशाली होती है और यह कैसे हमारी अनव्यक्त भावनाओं को शब्दों में परिभाषित कर सकती है।

कलेजा छलनी होना मुहावरा पर कहानी:

गौरी नामक एक सुंदर छोटी लड़की थी, जो अपने माता-पिता के साथ गाँव में रहती थी। वह हमेशा खुश और उत्साहित रहती थी। उसकी जिंदगी में कोई चिंता नहीं थी, जब तक एक दिन उसके पिता की अचानक मौत नहीं हो गई।

गौरी के लिए यह समाचार एक बड़ा झटका था। उसका पिता उसके लिए उसका सबसे अच्छा दोस्त था। वह उससे हर बार अपनी खुशियों और दुःख में बात करती थी। पिता की मौत के बाद, गौरी खुद को अधूरा महसूस करने लगी।

गाँववाले जब भी गौरी को देखते, वह कहते, “बेचारी गौरी, उसका कलेजा छलनी हो गया है।” यह कहने का मतलब था कि गौरी अब बहुत ही दुःखी और परेशान थी।

दिनों बीतते गए और गौरी का दुःख कम होता जा रहा था, लेकिन वह कभी भी पूरी तरह से ठीक नहीं हो पाई। गाँव में हर कोई उसके दुःख को महसूस करता था और उसे समझाने की कोशिश करता था कि जीवन में ऐसी बड़ी घटनाओं का सामना करना पड़ता है और हमें उससे आगे बढ़ना होता है।

कहानी का यह अंश हमें यह बताता है कि “कलेजा छलनी होना” का मतलब किसी को बहुत अधिक दुःखी या परेशान होना है, और कैसे किसी की भावनाओं को यह मुहावरा प्रकट कर सकता है।

शायरी:

कलेजा छलनी हो गया ज़िंदगी के जख्मों से,

हर ख्वाब टूट गया दिल के किस्से में।

अधूरी रह गई बातें, अधूरी रह गई रातें,

फ़िक्र में बीती उम्र, जवाँ दिल की बस्ती में।

आँखों में जो आंसू हैं, वो लफ्ज़ों में कहाँ,

इश्क़ में जो दर्द है, वो दिल ही जाने फिर।

 

कलेजा छलनी होना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of कलेजा छलनी होना – Kaleja Chhalni Hona Idiom:

Introduction: Every language has certain idioms that require a deep understanding of that language to comprehend. Hindi too has many such idioms, and today we’ll discuss the idiom “कलेजा छलनी होना” (Kaleja Chhalni Hona).

Meaning: The idiom “कलेजा छलनी होना” translates to having a heart like a sieve, which means to be profoundly sad or extremely distressed. Just as a sieve has numerous holes, similarly, a person’s mind can be filled with many concerns or troubles that disturb them.

Usage: This phrase is often used when someone’s innocent feelings are disregarded or when they face a significant challenge or problem.

Examples:

-> After the death of Anuj’s father, he was heartbroken (his heart became like a sieve).

Special Note: The usage of the idiom “कलेजा छलनी होना” is prevalent when someone is experiencing a great deal of pain or sorrow. In the ups and downs of life, there are times when we face situations where it becomes challenging to express our feelings and grief in words. Hence, such idioms help convey our emotions in a more impactful manner.

Conclusion: Whenever we need to express our profound and painful emotions, idioms like “कलेजा छलनी होना” assist us in articulating that sentiment correctly. It demonstrates the power of language and how it can define our unspoken feelings.

Story of ‌‌Kaleja Chhalni Hona Idiom in English:

Gauri was a beautiful young girl who lived in a village with her parents. She was always cheerful and enthusiastic. There was no worry in her life until one day, her father passed away suddenly.

For Gauri, this news was a massive shock. Her father was her best friend. She would always talk to him about her joys and sorrows. After her father’s death, Gauri began to feel incomplete.

Whenever the villagers saw Gauri, they would say, “Poor Gauri, her heart is like a sieve.” This meant that Gauri was now profoundly sad and troubled.

As the days went by, Gauri’s sorrow began to lessen, but she never fully recovered. Everyone in the village felt her pain and tried to comfort her, explaining that in life, we face significant events, and we must move forward.

This part of the story shows that “heart is like a sieve” means someone is deeply saddened or troubled, and how this idiom can express someone’s emotions.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"आप मियां मांगते दरवाजे खड़ा दरवेश कहावत पर आधारित चित्र", "आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ते कदम का प्रतीकात्मक चित्रण", "हिंदी कहावतों का संग्रह - बुद्धिमान.कॉम", "व्यक्तिगत विकास की प्रेरणादायी छवि"
Kahavaten

आप मियां मांगते दरवाजे खड़ा दरवेश, अर्थ, प्रयोग(Aap miyan mangte darwaje khada darvesh)

परिचय: “आप मियां मांगते दरवाजे खड़ा दरवेश” एक प्रसिद्ध हिंदी कहावत है जो व्यक्ति की आर्थिक और सामाजिक स्थिति पर प्रकाश डालती है। यह कहावत

Read More »
"आम खाने से काम मुहावरे का चित्रण", "व्यावहारिकता पर जोर देती कहावत का चित्र", "हिंदी मुहावरों का संकलन - बुद्धिमान.कॉम", "परिणामों पर फोकस करता बागवानी का चित्र"
Kahavaten

आम खाने से काम, पेड़ गिनने से क्या काम?, अर्थ, प्रयोग(Aam khane se kaam, Ped ginne se kya kaam?)

परिचय: “आम खाने से काम, पेड़ गिनने से क्या काम?” यह हिंदी की एक प्रसिद्ध कहावत है, जो व्यावहारिकता और परिणामों पर फोकस करने की

Read More »
"आठों पहर चौंसठ घड़ी कहावत विश्लेषण", "भारतीय किसान मेहनत का प्रतीक", "अनुज की प्रेरणादायक कहानी","सफलता की ओर अग्रसर युवक"
Kahavaten

आठों पहर चौंसठ घड़ी, अर्थ, प्रयोग(Aathon pahar chausath ghadi)

“आठों पहर चौंसठ घड़ी” एक प्रसिद्ध हिंदी कहावत है, जिसका अर्थ है “हर समय, निरंतर”. इस कहावत का उपयोग अक्सर उस स्थिति में किया जाता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।