Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » कच्चा चबाना अर्थ, प्रयोग (Kachcha chabana)

कच्चा चबाना अर्थ, प्रयोग (Kachcha chabana)

परिचय: हिंदी भाषा की समृद्धि में मुहावरों का एक विशेष स्थान है। “कच्चा चबाना” ऐसा ही एक रोचक मुहावरा है जो व्यंग्य और हास्य का अनूठा मिश्रण प्रस्तुत करता है।

अर्थ: “कच्चा चबाना” मुहावरे का अर्थ है किसी को परास्त करना या किसी पर भारी पड़ना। यह आमतौर पर तब प्रयोग किया जाता है जब कोई व्यक्ति किसी अन्य व्यक्ति को बुद्धि या चातुर्य में मात देता है।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर उन परिस्थितियों में उपयोग होता है जहाँ किसी की चतुराई या चालाकी दूसरे व्यक्ति पर हावी हो जाती है। यह उस स्थिति को दर्शाता है जहां एक व्यक्ति दूसरे पर अपनी बुद्धिमत्ता या कौशल से विजय प्राप्त करता है।

उदाहरण:

-> राजनीति में अनुभवी नेता ने नवागंतुक को “कच्चा चबा” दिया, जब उसने चतुराई से उसकी योजना को विफल कर दिया।

-> शतरंज के खेल में, अनुभवी खिलाड़ी ने नए खिलाड़ी को “कच्चा चबा” दिया, अपने दांव से उसे परास्त करते हुए।

निष्कर्ष: “कच्चा चबाना” मुहावरा हमें सिखाता है कि जीवन में बुद्धि और चालाकी का महत्व होता है। यह युक्ति और कुशलता के महत्व को दर्शाता है, और यह भी कि कैसे अनुभव और ज्ञान व्यक्ति को विजयी बना सकता है। इस प्रकार, यह मुहावरा हमें जीवन के कठिन प्रतिस्पर्धी माहौल में चतुराई और बुद्धिमत्ता के महत्व को सिखाता है।

Hindi Muhavare Quiz

कच्चा चबाना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अभय नाम का एक युवक रहता था। वह बहुत ही सरल और मेहनती था, लेकिन उसके गाँव के लोग उसे कम आंकते थे।

गाँव में एक दिन एक प्रतियोगिता आयोजित की गई, जिसमें बुद्धिमानी और चतुराई का खेल खेला जाना था। सभी ने सोचा कि अभय इस खेल में हार जाएगा, क्योंकि उसे कम समझा जाता था।

खेल शुरू हुआ, और एक-एक करके सभी प्रतिस्पर्धियों को अभय ने अपनी बुद्धिमानी और चतुराई से हरा दिया। वह हर चाल में अपने विरोधियों को “कच्चा चबा” गया।

अंत में, अभय ने प्रतियोगिता जीत ली। गाँव वाले उसकी बुद्धिमानी और चतुराई से हैरान थे। उसने सभी को दिखा दिया कि असली क्षमता किसी के बाहरी रूप में नहीं, बल्कि उसके भीतर होती है।

अभय की कहानी हमें “कच्चा चबाने” के मुहावरे का सही अर्थ समझाती है। यह दिखाती है कि कैसे बुद्धि और चतुराई किसी भी स्थिति में विजयी बना सकती है। अभय की तरह, हमें भी अपनी बुद्धिमत्ता और चतुराई का सही उपयोग करना चाहिए। इस प्रकार, यह कहानी हमें जीवन में चतुराई और बुद्धिमत्ता के महत्व को सिखाती है।

शायरी:

बाजी पलटी जब चतुराई से, ‘कच्चा चबाया’ हर बाजी में,
जिंदगी की शतरंज में, हर चाल में नई आजी में।
वो देखते रह गए, हम चलते गए कदम दर कदम,
खेल बदला जब बुद्धिमत्ता से, चकित रह गया हर अदम।

चालाकी में जो माहिर थे, उन्हें भी हमने ‘कच्चा चबा’ दिया,
जिंदगी के इस खेल में, अपना हर दांव लगा दिया।
उनके हर सवाल का, हमने जवाब दिया,
हर बाजी जीत कर, नया इतिहास रच दिया।

मुश्किलों में भी, अपनी चतुराई का डंका बजाया,
‘कच्चा चबाकर’, हर बार एक नई राह दिखाया।
जो समझते थे हमें कम, उन्हें हमने गलत साबित किया,
हर मुश्किल को आसान बनाकर, जीत का झंडा गाड़ दिया।

 

कच्चा चबाना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of कच्चा चबाना – Kachcha chabana Idiom:

Introduction: In the richness of the Hindi language, idioms hold a special place. “कच्चा चबाना” is one such intriguing idiom that presents a unique blend of satire and humor.

Meaning: The idiom “कच्चा चबाना” means to defeat someone or to overpower someone. It is commonly used when a person outsmarts another person in intelligence or cunning.

Usage: This idiom is often used in situations where someone’s cleverness or cunning dominates another person. It depicts a scenario where one person gains victory over another through their wit or skill.

Example:

-> In politics, the experienced leader “outwitted” (कच्चा चबा) the newcomer when he cleverly foiled his plan.

-> In a game of chess, the veteran player “outplayed” (कच्चा चबा) the novice with his strategic move.

Conclusion: The idiom “कच्चा चबाना” teaches us about the importance of intelligence and cunning in life. It highlights the significance of strategy and skill, and how experience and knowledge can lead a person to victory. Thus, this idiom educates us on the importance of wit and wisdom in the competitive environment of life.

Story of ‌‌Kachcha chabana Idiom in English:

In a small village, there lived a young man named Abhay. He was very simple and hardworking, but the people of his village underestimated him.

One day, a competition was organized in the village, which was to be a game of intelligence and cunning. Everyone thought that Abhay would lose in this game, as he was considered to be less capable.

The game began, and one by one, Abhay defeated all his competitors with his intelligence and cunning. He “outsmarted” (कच्चा चबा) his opponents in every move.

In the end, Abhay won the competition. The villagers were amazed by his intelligence and cunning. He showed everyone that real capability lies not in one’s external appearance but within.

Abhay’s story explains the true meaning of the idiom “कच्चा चबाना”. It demonstrates how intelligence and cunning can lead to victory in any situation. Like Abhay, we should also use our intelligence and cunning appropriately. Thus, this story teaches us the importance of cunning and intelligence in life.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या कच्चा चबाना अप्रिय और असंवेदनशील होता है?

हां, कच्चा चबाना अप्रिय और असंवेदनशील होता है क्योंकि यह दूसरों के समय और प्रयास को बेकार करता है।

क्या कच्चा चबाना का विपरीत शब्द होता है?

हां, “पक्का काम करना” का विपरीत शब्द “कच्चा चबाना” है, जो एक काम को पूरी तरह से न करने का अर्थ है।

कच्चा चबाना का मतलब क्या है?

“कच्चा चबाना” का मतलब होता है किसी काम को अधूरा या अधिक न समझकर करना।

इस मुहावरे का उपयोग किस संदर्भ में किया जाता है?

यह मुहावरा अक्सर किसी काम को ध्यानपूर्वक न करने के संदर्भ में प्रयोग किया जाता है।

क्या कच्चा चबाना अच्छा होता है?

नहीं, कच्चा चबाना एक अच्छा विचार नहीं है, क्योंकि यह किसी काम को अधूरा छोड़कर किया जाता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।