Budhimaan

Budhimaan Logo
Home » Hindi Muhavare » कच्चा चिट्ठा खोलना, अर्थ, प्रयोग(Kacha Chittha kholna)

कच्चा चिट्ठा खोलना, अर्थ, प्रयोग(Kacha Chittha kholna)

"अनुज गाँव में", "अनुज के घर से चोरी की गई सामग्री", "हैरान और परेशान गाँववासी", "अनुज को गाँव से निकालते हुए"

परिचय: हिंदी भाषा में अनेक मुहावरे हैं जो जीवन की विभिन्न परिस्थितियों और अनुभवों को दर्शाते हैं। ‘कच्चा चिट्ठा खोलना’ भी ऐसे ही मुहावरों में से एक है।

अर्थ: ‘कच्चा चिट्ठा खोलना’ का अर्थ है किसी का असली चेहरा या असली भाव उजागर करना। या फिर, किसी के गुप्त या छिपे हुए राज खोलना।

उदाहरण:

-> जब विशाल ने सच्चाई सुनाई, तो विकास का ‘कच्चा चिट्ठा’ सभी के सामने खुल गया।

-> अन्वेषण में पता चला कि सुधीर ने ही चोरी की थी, इससे उसका ‘कच्चा चिट्ठा’ सभी के सामने आ गया।

विवेचना: जब हम कहते हैं कि किसी का ‘कच्चा चिट्ठा खुल गया’, तो इसका मतलब है कि उसकी असलीता, जो वह छुपा रहा था, अब सबके सामने आ गई है। यह मुहावरा विशेष रूप से उस समय किया जाता है जब किसी की असलियत उजागर होती है।

निष्कर्ष: ‘कच्चा चिट्ठा खोलना’ ऐसा मुहावरा है जो हमें यह बताता है कि सत्य या असलियत कितनी भी देर से हो, अंतत: वह सामने आ ही जाता है। इसे सही संदर्भ में प्रयोग करके हम अपनी भाषा को और अधिक प्रभावशाली बना सकते हैं।

कच्चा चिट्ठा खोलना मुहावरा पर कहानी:

दिल्ली के एक समीपवर्ती गाँव में अनुज नामक युवक रहता था। वह गाँव के सबसे अच्छे व्यक्तियों में गिना जाता था। लोग उसे अपने ईमानदारी और सच्चाई के लिए जानते थे।

एक दिन, गाँव में मेला हुआ। मेले में लोगों ने अनेक प्रकार की खरीददारी की। अनुज ने भी एक महंगी घड़ी खरीदी। कुछ दिनों बाद, उस घड़ी का एक गाँववासी ने चोरी का आरोप लगा दिया। अनुज ने तुरंत सभी को उस घड़ी की खरीददारी की रसीद दिखाई और अपनी मासूमियत साबित की।

लेकिन, एक दिन गाँव के मुख्य ने अनुज के घर पर अचानक छापा मारा और उसके घर से कुछ चीजें बरामद की गईं जो गाँव के अन्य लोगों से चोरी हो गई थीं।

जब इस खबर का पता चला, तो सभी हैरान और परेशान हो गए। अनुज जिसे सभी ईमानदार मानते थे, वही अब सभी के सामने चोर निकला। गाँववासियों ने अनुज को सजा दी और उसे गाँव से निकाल दिया।

अनुज का ‘कच्चा चिठ्ठा’ अब सभी के सामने खुल चुका था। वह जिसे सभी प्यार और सम्मान से जानते थे, उसी ने उनका भरोसा तोड़ा। इस घटना से गाँव के लोगों को यह सिखाने को मिला कि आँखों दिखाई देने वाली सत्यता और असली सत्यता में अक्सर अंतर होता है।

शायरी:

जिंदगी के मेले में बहुत कुछ छुपा बैठा हूँ मैं,

हर खुशी, हर ग़म की कहानी अधूरी लिख बैठा हूँ मैं।

‘कच्चा चिठ्ठा’ जब खोलूं, सब कुछ दिखेगा जहाँ को,

जो चुपा था दिल में, वो बहर हाल दिखा बैठा हूँ मैं।

 

कच्चा चिट्ठा खोलना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of कच्चा चिट्ठा खोलना – Kaccha Chittha Kholna Idiom:

Introduction: The Hindi language contains a plethora of idioms that illustrate various situations and experiences in life. ‘Kaccha Chittha Kholna’ is one such idiom.

Meaning:  The phrase ‘Kaccha Chittha Kholna’ translates to revealing someone’s true colors or exposing someone’s hidden or real intentions.

Usage:

-> When Vishal spoke the truth, Vikas’s true nature was laid bare in front of everyone.

-> The investigation revealed that Sudhir was the thief, exposing his true character to everyone.

Discussion: When we say ‘Kaccha Chittha Khul Gaya’, it means that someone’s true nature or intentions, which they had been hiding, have now been revealed. This idiom is specifically used when the reality or truth about someone becomes evident.

Conclusion: The idiom ‘Kaccha Chittha Kholna’ conveys that no matter how long the truth or reality is hidden, it eventually comes out. By using this in the appropriate context, we can make our language even more impactful.

Story of ‌‌Kaccha Chittha Kholna Idiom in English:

In a village near Delhi, there lived a young man named Anuj. He was considered one of the most respected individuals in the village. People knew him for his honesty and truthfulness.

One day, there was a fair in the village. Many villagers made various purchases at the fair. Anuj too bought an expensive watch. A few days later, a villager accused him of stealing the same kind of watch. Anuj immediately showed everyone the receipt of his purchase, proving his innocence.

However, one day the village head unexpectedly raided Anuj’s house and found several items that had been stolen from other villagers.

When the news spread, everyone was shocked and upset. Anuj, who everyone thought was honest, was now exposed as a thief in front of everyone. The villagers punished Anuj and expelled him from the village.

Anuj’s true character was now revealed to everyone. The man who everyone loved and respected had betrayed their trust. This incident taught the villagers that what appears to be true and actual truth can often be different.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"आप मियां मांगते दरवाजे खड़ा दरवेश कहावत पर आधारित चित्र", "आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ते कदम का प्रतीकात्मक चित्रण", "हिंदी कहावतों का संग्रह - बुद्धिमान.कॉम", "व्यक्तिगत विकास की प्रेरणादायी छवि"
Kahavaten

आप मियां मांगते दरवाजे खड़ा दरवेश, अर्थ, प्रयोग(Aap miyan mangte darwaje khada darvesh)

परिचय: “आप मियां मांगते दरवाजे खड़ा दरवेश” एक प्रसिद्ध हिंदी कहावत है जो व्यक्ति की आर्थिक और सामाजिक स्थिति पर प्रकाश डालती है। यह कहावत

Read More »
"आम खाने से काम मुहावरे का चित्रण", "व्यावहारिकता पर जोर देती कहावत का चित्र", "हिंदी मुहावरों का संकलन - बुद्धिमान.कॉम", "परिणामों पर फोकस करता बागवानी का चित्र"
Kahavaten

आम खाने से काम, पेड़ गिनने से क्या काम?, अर्थ, प्रयोग(Aam khane se kaam, Ped ginne se kya kaam?)

परिचय: “आम खाने से काम, पेड़ गिनने से क्या काम?” यह हिंदी की एक प्रसिद्ध कहावत है, जो व्यावहारिकता और परिणामों पर फोकस करने की

Read More »
"आठों पहर चौंसठ घड़ी कहावत विश्लेषण", "भारतीय किसान मेहनत का प्रतीक", "अनुज की प्रेरणादायक कहानी","सफलता की ओर अग्रसर युवक"
Kahavaten

आठों पहर चौंसठ घड़ी, अर्थ, प्रयोग(Aathon pahar chausath ghadi)

“आठों पहर चौंसठ घड़ी” एक प्रसिद्ध हिंदी कहावत है, जिसका अर्थ है “हर समय, निरंतर”. इस कहावत का उपयोग अक्सर उस स्थिति में किया जाता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।