Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » इज्जत पर हाथ डालना अर्थ, प्रयोग(Izzat par hath dalna)

इज्जत पर हाथ डालना अर्थ, प्रयोग(Izzat par hath dalna)

परिचय: “इज्जत पर हाथ डालना” एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है, जो अक्सर समाज में प्रयोग किया जाता है। यह मुहावरा किसी की प्रतिष्ठा या सम्मान को क्षति पहुँचाने के संदर्भ में इस्तेमाल होता है।

अर्थ: “इज्जत पर हाथ डालना” का अर्थ है किसी की निजी या सामाजिक प्रतिष्ठा पर आंच आने की क्रिया या उसे चोट पहुँचाना। यह किसी व्यक्ति के सम्मान या गरिमा को नुकसान पहुँचाने के रूप में देखा जाता है।

प्रयोग: यह मुहावरा तब प्रयोग किया जाता है जब किसी व्यक्ति की इज्जत या प्रतिष्ठा पर किसी तरह का आक्रमण होता है। यह आमतौर पर नकारात्मक संदर्भ में इस्तेमाल होता है।

उदाहरण:

मान लीजिए, एक कर्मचारी ने अपने बॉस के बारे में झूठी अफवाह फैला दी, जिससे बॉस की इज्जत पर हाथ डाला गया। इससे बॉस का समाज में सम्मान कम हो गया।

निष्कर्ष: “इज्जत पर हाथ डालना” यह मुहावरा हमें यह सिखाता है कि किसी की प्रतिष्ठा और सम्मान को नुकसान पहुँचाना नैतिक रूप से गलत है और इससे व्यक्ति की सामाजिक छवि पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इसलिए, हमें हमेशा दूसरों के सम्मान और गरिमा का ख्याल रखना चाहिए।

Hindi Muhavare Quiz

इज्जत पर हाथ डालना मुहावरा पर कहानी:

सुरेंद्र एक छोटे शहर का सम्मानित शिक्षक था। उसकी इज्जत और सम्मान उसके छात्रों और सहकर्मियों के बीच काफी था।

एक दिन, सुरेंद्र के एक सहकर्मी ने उसके खिलाफ झूठी अफवाह उड़ा दी कि सुरेंद्र ने अनुचित तरीके से छात्रों के ग्रेड बढ़ाए हैं। यह खबर जल्दी ही स्कूल और शहर में फैल गई।

सुरेंद्र को जब इस बात का पता चला, तो वह बहुत दुखी हुआ। उसके छात्रों और सहकर्मियों का विश्वास उस पर से कम हो गया। उसकी इज्जत पर हाथ डालने की वजह से उसे समाज में नुकसान उठाना पड़ा।

सुरेंद्र ने इस मामले की सच्चाई सबके सामने रखने का निर्णय लिया। उसने सभी सबूत और गवाहों के साथ स्कूल प्रबंधन के सामने अपनी बात रखी।

जब सच्चाई सामने आई, तो सभी को पता चला कि सुरेंद्र निर्दोष है। उसके सहकर्मी को अपनी गलती का एहसास हुआ और उसने माफी मांगी। सुरेंद्र की इज्जत फिर से बहाल हो गई, और उसकी प्रतिष्ठा पहले से भी अधिक हो गई।

इस कहानी से हमें सिखने को मिलता है कि “इज्जत पर हाथ डालना” बहुत बड़ा अपराध है और इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। हमें हमेशा दूसरों की प्रतिष्ठा का सम्मान करना चाहिए।

शायरी:

इज्जत पर जब हाथ डाला जाता है, दर्द का एक सैलाब उठाता है,

जैसे खामोशी में भी शोर हो, इज्जत की रक्षा हर दिल का दस्तूर हो।

हर अफवाह में छुपा एक झूठ होता है, इज्जत पर दाग जब लगता है,

जैसे सूरज बादलों में छुप जाए, वैसे इंसान का मान घट जाए।

इज्जत की बात ना कोई समझे, जब अफवाहों का बाज़ार सजे,

पर सच्चाई की एक चिंगारी, अंधेरे में भी राह दिखाती।

इज्जत का कर्ज़ हर किसी पर होता है, इसे बचा के रखना जरूरी होता है,

जैसे दिया बाती से रौशन हो, वैसे इज्जत से इंसान का दिल धड़कता हो।

इस शायरी के जरिए, “इज्जत पर हाथ डालना” का संदेश गूँजता,

जीवन में इज्जत का मान रखें, यही हमें आगे बढ़ने की राह दिखाता।

 

इज्जत पर हाथ डालना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of इज्जत पर हाथ डालना – Izzat par hath dalna Idiom:

Introduction: “Izzat par hath dalna” is a popular Hindi idiom, often used in society. This idiom is used in the context of damaging someone’s reputation or respect.

Meaning: “Izzat par hath dalna” means to act in a way that harms someone’s personal or social prestige. It is seen as an act that damages a person’s honor or dignity.

Usage: This idiom is used when there is an attack on someone’s honor or prestige. It is generally used in a negative context.

Example:

For instance, suppose an employee spread false rumors about their boss, which was seen as an attack on the boss’s honor. This led to a decrease in the boss’s respect in society.

Conclusion: The idiom “Izzat par hath dalna” teaches us that damaging someone’s reputation and respect is morally wrong and can adversely affect a person’s social image. Therefore, we should always take care to respect others’ honor and dignity.

Story of ‌‌Izzat par hath dalna Idiom in English:

Surendra was a respected teacher in a small town. He was highly esteemed by his students and colleagues.

One day, a colleague of Surendra spread a false rumor that Surendra had unfairly increased students’ grades. This news quickly spread throughout the school and the town.

When Surendra learned about this, he became very distressed. The trust of his students and colleagues in him diminished. Because of this attack on his honor, he suffered a loss of respect in society.

Surendra decided to reveal the truth of the matter to everyone. He presented his case before the school management with all the evidence and witnesses.

When the truth came out, everyone realized that Surendra was innocent. His colleague realized his mistake and apologized. Surendra’s honor was restored, and his reputation became even greater than before.

This story teaches us that “attacking someone’s honor” is a grave offense and can have serious consequences. We should always respect the reputation of others.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs

क्या “इज्जत पर हाथ डालना” का अंतर “सम्मान पर अपमान” से है?

हां, इन दोनों में अंतर है। “इज्जत पर हाथ डालना” का अर्थ है किसी की इज्जत को अपमानित करना, जबकि “सम्मान पर अपमान” का अर्थ होता है किसी के सम्मान को अपमानित करना।

इस मुहावरे का प्रयोग किस संदर्भ में होता है?

यह मुहावरा उस समय का उपयोग किया जाता है जब किसी व्यक्ति या समूह की सम्मान या इज्जत को उनकी बेहिसाबी या अनचाहे तरीके से ध्वस्त किया जाता है।

क्या है “इज्जत पर हाथ डालना” का अर्थ?

“इज्जत पर हाथ डालना” का अर्थ होता है किसी की सम्मान या गरिमा को अपमानित करना या उसे अनादरित करना।

क्या इस मुहावरे का कोई विपरीत अर्थ है?

हां, इसका विपरीत अर्थ होता है “सम्मान देना” या “इज्जत करना”।

क्या इस मुहावरे का प्रयोग साहित्य में किया जाता है?

हां, यह मुहावरा साहित्य में बहुतायत से प्रयुक्त होता है, विशेष रूप से उस समय जब किसी के कार्यों या व्यवहार से उनकी इज्जत पर प्रश्न उठता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।