Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » इस हाथ दे, उस हाथ ले अर्थ, प्रयोग(Iss hath de, Uss hath le)

इस हाथ दे, उस हाथ ले अर्थ, प्रयोग(Iss hath de, Uss hath le)

परिचय: “इस हाथ दे, उस हाथ ले” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है, जिसका उपयोग अक्सर व्यापार और लेन-देन के संदर्भ में किया जाता है। इसका शाब्दिक अर्थ है कि किसी चीज को देने के बदले में तुरंत ही कुछ प्राप्त करना।

अर्थ: यह मुहावरा तत्काल लाभ या परिणाम प्राप्त करने की स्थिति को दर्शाता है। जब किसी कार्य का परिणाम बिना किसी देरी के मिल जाता है, तो इस मुहावरे का प्रयोग किया जाता है।

प्रयोग: यह मुहावरा व्यापार, लेनदेन, और ऐसे ही अन्य स्थितियों में प्रयोग किया जाता है जहाँ तत्काल परिणाम या लाभ होता है। यह तत्काल प्रतिफल की अवधारणा को व्यक्त करता है।

उदाहरण:

मान लीजिए एक व्यक्ति किसी दुकान पर जाता है और वहाँ कुछ सामान खरीदता है। वह तुरंत ही दुकानदार को पैसे देता है और बदले में सामान प्राप्त करता है। यहाँ, “इस हाथ दे, उस हाथ ले” की स्थिति है।

निष्कर्ष: “इस हाथ दे, उस हाथ ले” मुहावरा हमें यह समझाता है कि कुछ परिस्थितियों में, विशेषकर व्यापार और लेन-देन में, परिणाम या लाभ तुरंत प्राप्त होते हैं। यह एक प्रकार का सीधा और सरल व्यापारिक संबंध दर्शाता है, जहाँ किसी प्रतीक्षा या देरी की आवश्यकता नहीं होती।

Hindi Muhavare Quiz

इस हाथ दे, उस हाथ ले मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गांव में सुभाष नाम का एक किसान रहता था। सुभाष बहुत ही चतुर और समझदार था। उसके पास एक बड़ा बाग था, जहां वह तरह-तरह के फल उगाता था।

एक दिन सुभाष ने अपने बाग के फल बाजार में बेचने का निर्णय लिया। उसने अपने सबसे अच्छे फल चुने और उन्हें बाजार में ले गया। बाजार में उसके फलों की बहुत मांग थी।

सुभाष ने एक अनोखी योजना बनाई। उसने फैसला किया कि वह तत्काल भुगतान के बदले में अतिरिक्त फल देगा। इसका मतलब था कि जो भी ग्राहक उसे तुरंत पैसे देगा, सुभाष उसे कुछ अतिरिक्त फल देगा।

यह योजना बहुत सफल रही। लोग उसके फलों के लिए तुरंत भुगतान करने लगे और बदले में अतिरिक्त फल प्राप्त करने लगे। इससे सुभाष की बिक्री और भी बढ़ गई।

सुभाष की इस चतुराई भरी योजना से गांववाले बहुत प्रभावित हुए। इस हाथ दे, उस हाथ ले की नीति ने न केवल सुभाष को लाभ पहुंचाया, बल्कि ग्राहकों को भी खुशी दी।

इस कहानी के माध्यम से, हमें समझ में आता है कि “इस हाथ दे, उस हाथ ले” की नीति किस प्रकार व्यापार में लाभकारी हो सकती है। यह तत्काल भुगतान और प्रतिफल का एक सुंदर उदाहरण है, जो दोनों पक्षों के लिए फायदेमंद होता है।

शायरी:

इस हाथ दे, उस हाथ ले, जिंदगी का ये खेल,

जैसे बाज़ार में बिकता हर एक जज़्बात का मेल।

हर बार ये सोचा कि जीत लूंगा दुनिया सारी,

पर हर बार दिल ने दिया, प्यार में हार का ताज।

बदले में मिला जो भी, उसे कबूल किया हमने,

जैसे बारिश में खिले, बिन मांगे ही फूल कई।

जिंदगी की इस राह में, हर कदम पे यही बात,

जो दिया वो खो दिया, जो लिया वो याद रहा।

इस दुनिया की रीत है, कुछ पाने की चाह में,

अक्सर खो देते हैं, हम अपने ही जज़्बातों की राह।

इस हाथ दे, उस हाथ ले, ये दुनिया का मेला,

प्यार में जीत हो या हार, दोनों ही हैं खेला।

देना और लेना यहाँ, जीवन की दो पहेली,

खुशियाँ बांटे चलो, तो जीवन हो जाए अकेली।

इस हाथ दे, उस हाथ ले, यही तो है जिंदगी,

हर पल में प्यार ढूंढो, तो हर पल है बंदगी।

 

इस हाथ दे, उस हाथ ले शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of इस हाथ दे, उस हाथ ले – Iss hath de, Uss hath le Idiom:

Introduction: “Iss hath de, Uss hath le” is a prevalent Hindi idiom, often used in the context of trade and transactions. Its literal meaning is to receive something immediately in exchange for giving something.

Meaning: This idiom represents the situation of obtaining immediate benefits or results. It is used when the outcome of an action is received without any delay.

Usage: This phrase is used in business, transactions, and similar situations where immediate results or benefits are involved. It expresses the concept of immediate reciprocity.

Usage:

Suppose a person goes to a shop and buys some items. He immediately pays the shopkeeper and in return, receives the goods. Here, the situation of “Iss hath de, Uss hath le” occurs.

Conclusion: The idiom “Iss hath de, Uss hath le” teaches us that in certain situations, especially in business and transactions, results or benefits are obtained immediately. It represents a straightforward and simple business relationship, where there is no need for waiting or delay.

Story of ‌‌Iss hath de, Uss hath le Idiom in English:

In a small village, there lived a farmer named Subhash. Subhash was very clever and wise. He had a large orchard where he grew various kinds of fruits.

One day, Subhash decided to sell the fruits from his orchard in the market. He selected his best fruits and took them to the market. There was a great demand for his fruits in the market.

Subhash devised a unique plan. He decided that he would give extra fruits in exchange for immediate payment. This meant that any customer who paid him immediately would receive some additional fruits from Subhash.

This plan was very successful. People started paying immediately for his fruits and, in return, began receiving extra fruits. This strategy greatly increased Subhash’s sales.

The villagers were very impressed with Subhash’s clever plan. The policy of “Give with one hand, take with the other” not only benefited Subhash but also delighted the customers.

Through this story, we understand how the policy of “Give with one hand, take with the other” can be beneficial in business. It is a beautiful example of immediate payment and reciprocity, which is advantageous for both parties.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

इस मुहावरे का उपयोग व्यक्ति के बीच समझौते में कैसे किया जा सकता है?

जब दोनों पक्ष समझौते कर रहे होते हैं और एक व्यक्ति कुछ मांगता है, तो दूसरे को भी कुछ देना होगा, इस प्रकार का समझौता ‘इस हाथ दे, उस हाथ ले’ हो सकता है।

इस मुहावरे का उपयोग किस परिस्थिति में हो सकता है?

जब कोई अन्य किसी से कुछ चाहता है और वही व्यक्ति भी कुछ चाहता है, तो इस मुहावरे का उपयोग हो सकता है।

मुहावरा ‘इस हाथ दे, उस हाथ ले’ का मतलब क्या है?

इस मुहावरे का मतलब है कि कोई व्यक्ति किसी से कुछ मांगता है, परंतु उसको खुद भी तो कुछ देना होगा।

क्या इस मुहावरे का अर्थ सिर्फ भौतिक चीजों में ही होता है?

नहीं, इस मुहावरे का अर्थ केवल भौतिक चीजों में ही नहीं होता, बल्कि यह भावनात्मक और सामाजिक मायने भी रख सकता है।

क्या इस मुहावरे का उपयोग सामाजिक संबंधों में होता है?

हां, इस मुहावरे का उपयोग सामाजिक संबंधों में सहयोग और समझदारी की बात करने के लिए किया जा सकता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।