Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » इधर-उधर की हाँकना अर्थ, प्रयोग (Idhar-udhar ki haankna)

इधर-उधर की हाँकना अर्थ, प्रयोग (Idhar-udhar ki haankna)

परिचय: हिंदी भाषा अपने मुहावरों और लोकोक्तियों के लिए प्रसिद्ध है, जो बोलचाल की भाषा को और भी रंगीन और प्रभावशाली बनाते हैं। “इधर-उधर की हाँकना” भी ऐसा ही एक मुहावरा है, जिसका प्रयोग अक्सर रोजमर्रा की बातचीत में किया जाता है।

अर्थ: “इधर-उधर की हाँकना” का अर्थ होता है बेतुकी या अनावश्यक बातें करना। यह मुहावरा तब प्रयोग किया जाता है, जब कोई व्यक्ति मुख्य विषय से भटक कर ऐसी बातें करने लगता है जो विषय से संबंधित नहीं होतीं।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग आमतौर पर तब किया जाता है जब किसी को यह इंगित करना होता है कि सामने वाला व्यक्ति विषय से भटक रहा है और अनावश्यक बातें कर रहा है। यह एक व्यंग्यात्मक तरीका होता है वार्तालाप को सही दिशा में लाने का।

उदाहरण:

-> जब भी मैं विकास से पढ़ाई के बारे में बात करता हूँ, वह हमेशा इधर-उधर की हाँकता रहता है।

-> मीटिंग में, जब मैंने परियोजना की प्रगति के बारे में पूछा, तो मैनेजर सिर्फ इधर-उधर की हाँकते रहे और कोई सार्थक जवाब नहीं दिया।

निष्कर्ष: “इधर-उधर की हाँकना” एक ऐसा मुहावरा है जो व्यक्ति के अनावश्यक और बेतुकी बातों की ओर इशारा करता है। यह हमें यह सिखाता है कि वार्तालाप में हमेशा विषय पर केंद्रित रहना चाहिए और अनावश्यक बातों से बचना चाहिए। इस मुहावरे का प्रयोग हमारी बातचीत को अधिक प्रभावी और उद्देश्यपूर्ण बनाता है।

इधर-उधर की हाँकना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अभय नाम का एक युवक रहता था। अभय की एक खास आदत थी – वह हमेशा इधर-उधर की बातें करता रहता था। चाहे बातचीत का विषय कुछ भी हो, अभय की बातें हमेशा मुख्य विषय से भटक जाती थीं।

एक दिन गाँव के स्कूल में एक महत्वपूर्ण बैठक हो रही थी। बैठक का विषय था स्कूल के विकास के लिए धन जुटाना। जैसे ही अभय से उसके विचार पूछे गए, वह इधर-उधर की बातें करने लगा। वह बातों को घुमाकर गाँव के मेले, उसके बचपन के किस्से और यहाँ तक कि मौसम की चर्चा तक करने लगा।

लोग हैरान थे कि अभय ने बैठक के मुद्दे पर एक भी शब्द नहीं कहा। गाँव के मुखिया ने अभय को समझाया कि बैठक का मकसद स्कूल के विकास पर चर्चा करना था, न कि इधर-उधर की बातें करना।

अभय को तब एहसास हुआ कि उस

की यह आदत न केवल उसके लिए बल्कि दूसरों के लिए भी समस्या बन रही थी। वह जब भी इधर-उधर की बातें करता, लोग उसकी बातों का मुद्दा समझने में भ्रमित हो जाते थे।

इस घटना के बाद, अभय ने ठान लिया कि वह अपनी इस आदत पर काबू पाएगा। धीरे-धीरे उसने सीखा कि कैसे विषय पर केंद्रित रहकर बातचीत की जाती है। वह अब जब भी किसी से बात करता, तो सीधे विषय पर आता और अनावश्यक बातों से बचता।

इस बदलाव से न केवल उसकी बातचीत अधिक प्रभावी हुई, बल्कि लोग भी उसकी बातों को गंभीरता से लेने लगे। अभय की कहानी ने गाँववालों को यह सिखाया कि “इधर-उधर की हाँकना” न केवल समय की बर्बादी है, बल्कि यह बातचीत के मुख्य उद्देश्य से भी भटकाता है। अंततः, अभय अपनी इस आदत को सुधार कर एक अच्छा वक्ता बन गया और उसकी यह गुणवत्ता सबके लिए एक प्रेरणा बन गई।

शायरी:

इधर-उधर की ना बातें कर, ये वक्त की बर्बादी है,

दिल की बात कह, जो भी है, यही तो जिंदगी की कादी है।

जिस तरह से बहती है नदियाँ, उसी राह पे चलना सीख ले,

हर लहर की एक कहानी है, तू इधर-उधर की मत फिसलना सीख ले।

इधर-उधर की जो हाँके, वो रास्ता भूल जाते हैं,

सच्चाई की राह पे चलने वाले, मंजिल को चूम जाते हैं।

हर बात में एक गहराई होती है, इसे तू समझ ले,

इधर-उधर की हाँकने में, जीवन की सच्चाई खो दे।

जो दिल से बात करते हैं, उनकी बात में असर होता है,

इधर-उधर की बातों में, न वो रंग न वो जिगर होता है।

 

इधर-उधर की हाँकना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of इधर-उधर की हाँकना – Idhar-Udhar Ki Haankna Idiom:

Introduction: The Hindi language is renowned for its idioms and proverbs, which add color and effectiveness to everyday speech. “इधर-उधर की हाँकना” (Idhar-Udhar Ki Haankna) is one such idiom commonly used in daily conversation.

Meaning: The literal meaning of “इधर-उधर की हाँकना” is to talk irrelevantly or unnecessarily. This phrase is used when someone deviates from the main topic and starts discussing things that are not related to the subject at hand.

Usage: This idiom is typically used to indicate that the person in conversation is straying from the topic and engaging in unnecessary dialogue. It serves as a sarcastic way to steer the conversation back in the right direction.

Example:

-> Whenever I talk to Vikas about studies, he always strays off-topic.

-> In the meeting, when I asked about the progress of the project, the manager just kept digressing and didn’t provide any meaningful answer.

Conclusion: “इधर-उधर की हाँकना” is an idiom that points to unnecessary and irrelevant speech. It teaches us to stay focused on the topic in conversation and avoid unnecessary dialogue. The use of this idiom makes our conversations more effective and purposeful.

Story of ‌‌Idhar-udhar ki haankna Idiom in English:

In a small village lived a young man named Abhay. Abhay had a peculiar habit – he always engaged in irrelevant conversations. Regardless of the topic of discussion, Abhay’s talks would invariably stray from the main subject.

One day, there was an important meeting in the village school. The agenda was to raise funds for the school’s development. As soon as Abhay was asked for his opinion, he started talking about unrelated things. He diverted the conversation to the village fair, childhood stories, and even the weather.

People were surprised that Abhay didn’t speak a single word relevant to the meeting’s agenda. The village head explained to Abhay that the purpose of the meeting was to discuss the school’s development, not to engage in irrelevant discussions.

Abhay then realized that this habit of his was not only problematic for him but also for others. Whenever he talked about unrelated things, people would get confused about the actual point of his talks.

After this incident, Abhay resolved to control this habit. Gradually, he learned to stay focused on the topic and engage in relevant conversations. Now, whenever he talked to someone, he would directly address the subject and avoid unnecessary topics.

This change not only made his conversations more effective, but people also started taking his words seriously. Abhay’s story taught the villagers that “straying off-topic” is not only a waste of time, but it also deviates from the main purpose of the conversation. Eventually, by improving this habit, Abhay became a good speaker, and his quality became an inspiration for everyone.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।