Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » गया वक्त फिर हाथ नहीं आता अर्थ, प्रयोग(Gaya waqt phir haath nahi aata)

गया वक्त फिर हाथ नहीं आता अर्थ, प्रयोग(Gaya waqt phir haath nahi aata)

परिचय: गया वक्त फिर हाथ नहीं आता, यह मुहावरा समय के मूल्य और इसके सदुपयोग पर जोर देता है। यह हमें बताता है कि समय एक ऐसी चीज है जो एक बार निकल जाने के बाद कभी वापस नहीं आती।

अर्थ: ‘गया वक्त फिर हाथ नहीं आता’ का अर्थ है कि बीता हुआ समय कभी वापस नहीं आता, इसलिए हमें हर पल का सही तरीके से उपयोग करना चाहिए।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर उन परिस्थितियों में इस्तेमाल होता है जहाँ हमें यह समझाने की जरूरत होती है कि समय की कीमत को समझना और इसका सदुपयोग करना कितना जरूरी है।

उदाहरण:

-> अमन ने अपने कॉलेज के दिनों में पढ़ाई पर ध्यान नहीं दिया और अब उसे एहसास हो रहा है कि ‘गया वक्त फिर हाथ नहीं आता’।

निष्कर्ष: ‘गया वक्त फिर हाथ नहीं आता’ एक महत्वपूर्ण मुहावरा है जो हमें समय के महत्व को समझाता है। यह हमें यह सिखाता है कि हर पल का सदुपयोग करना चाहिए, क्योंकि एक बार गुजर जाने के बाद, समय कभी वापस नहीं आता। इस मुहावरे का संदेश हमें प्रेरित करता है कि हम अपने समय को व्यर्थ न गवाएं और हर क्षण को महत्वपूर्ण बनाएं।

Hindi Muhavare Quiz

गया वक्त फिर हाथ नहीं आता मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गांव में अमन नाम का एक युवक रहता था। अमन बहुत प्रतिभाशाली था, लेकिन उसमें एक बड़ी कमी थी – वह समय की कद्र नहीं करता था। स्कूल में भी वह हमेशा देर से पहुंचता और अक्सर परीक्षाओं की तैयारी भी आखिरी समय पर करता।

एक दिन गांव में एक बड़ी कंपनी ने नौकरी के लिए आवेदन मंगवाए। अमन को यह सुनहरा मौका लगा, लेकिन उसने सोचा कि अभी तो बहुत समय है, बाद में आवेदन कर दूंगा। दिन बीतते गए और अमन ने आवेदन करना टालता रहा। जब उसने आखिरकार आवेदन करने की सोची, तब तक आवेदन की अंतिम तारीख निकल चुकी थी।

इस घटना ने अमन को गहरा सबक सिखाया। उसे अहसास हुआ कि ‘गया वक्त फिर हाथ नहीं आता’। उसे समझ में आया कि समय का सदुपयोग कितना जरूरी है और एक बार गवां दिया गया समय कभी वापस नहीं आता।

उस दिन के बाद, अमन ने अपने जीवन में समय की कीमत को समझा और हर काम को समय पर करने की आदत डाली। उसका यह परिवर्तन उसके जीवन में नई सफलताओं का मार्ग प्रशस्त कर गया। अमन की कहानी गांववालों के लिए एक मिसाल बन गई, और उसके जीवन में यह बदलाव दिखा कि ‘गया वक्त फिर हाथ नहीं आता’ का अर्थ क्या होता है।

शायरी:

बीता वक्त लौटकर कभी हाथ नहीं आता,
जिंदगी की राहों में, ये सबक बार बार सिखाता।

ख्वाब थे आंखों में, पर देरी से जागे हम,
गुजरे पलों की कदर, क्यूं न कर पाए हम।

लम्हों का हिसाब न रखा, खो दिया जिन्हें ख्यालों में,
समय की कीमत का एहसास, हुआ जब चले गए वो पल बालों में।

वक्त की रेत फिसली, हाथों से जैसे पानी,
गया वक्त फिर हाथ नहीं आता, सिखा गया ये जिंदगानी।

अब समझे हैं हम, वक्त की कदर क्या है,
गुजरे पल वापस नहीं आते, यही जीवन का सच है।

समय का सदुपयोग करो, ये सिख लिया हमने,
‘गया वक्त फिर हाथ नहीं आता’, ये जान लिया हमने।

 

गया वक्त फिर हाथ नहीं आता शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of गया वक्त फिर हाथ नहीं आता – Gaya waqt phir haath nahi aata Idiom:

Introduction: This idiom emphasizes the value of time and its effective use. It tells us that time is something that, once gone, never returns.

Meaning: ‘गया वक्त फिर हाथ नहीं आता’ means that the time that has passed never comes back, therefore we should use every moment properly.

Usage: This idiom is often used in situations where it’s necessary to explain the importance of valuing time and using it wisely.

Example:

-> Aman didn’t focus on his studies during his college days, and now he realizes that ‘गया वक्त फिर हाथ नहीं आता’ (time once gone never returns).

Conclusion: ‘गया वक्त फिर हाथ नहीं आता’ is an important idiom that teaches us the importance of time. It instructs us to make good use of every moment, as time never returns once it has passed. The message of this idiom inspires us not to waste our time and to make every moment count.

Story of ‌‌Gaya waqt phir haath nahi aata Idiom in English:

In a small village, there lived a young man named Aman. Aman was very talented, but he had a significant flaw – he didn’t value time. In school, he always arrived late and often prepared for exams at the last minute.

One day, a big company invited job applications in the village. Aman saw this as a golden opportunity, but he thought there was plenty of time and decided to apply later. Days passed, and Aman kept procrastinating on the application. By the time he finally decided to apply, the deadline had already passed.

This incident taught Aman a profound lesson. He realized that ‘time once gone never returns’. He understood the importance of utilizing time wisely and that time lost is never regained.

From that day onwards, Aman learned to value time in his life and made a habit of doing everything on time. This change in his life paved the way for new successes. Aman’s story became an example for the villagers, showing them the true meaning of ‘time once gone never returns’.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

यह मुहावरा किस तरह के लोगों के लिए उपयोगी है?

इस मुहावरे का उपयोग उन लोगों के द्वारा किया जाता है जो किसी अवसर के गवाह हैं और उसे फिर से प्राप्त करने की चेष्टा कर रहे हैं।

इस मुहावरे का प्रयोग किस प्रकार से किया जाता है?

यह मुहावरा उस स्थिति को व्यक्त करने के लिए प्रयोग किया जाता है जब कोई अवसर या समय एक बार गुजर चुका है और फिर से उसे प्राप्त करना मुश्किल होता है।

क्या मुहावरा “गया वक्त फिर हाथ नहीं आता” का अर्थ है?

यह मुहावरा वह समय या अवसर को दर्शाता है जो एक बार गुजर गया है और फिर वापस नहीं आता।

क्या इस मुहावरे का कोई विरोधी मुहावरा है?

हाँ, “ना उठी हाथ से ना गिरी वक्त से” एक विरोधी मुहावरा है जो किसी के समय और अवसर के विलोपन को दर्शाता है।

क्या यह मुहावरा किसी व्यक्ति के अनुभव को दर्शाता है?

हां, यह मुहावरा अक्सर उन व्यक्तियों के अनुभव को दर्शाता है जो एक बार गुजरे हुए समय के फिर से आने की आशा करते हैं, लेकिन वह समय फिर से नहीं आता।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।