Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » गज-भर की जबान होना अर्थ, प्रयोग(Gaj-bhar ki juban hona)

गज-भर की जबान होना अर्थ, प्रयोग(Gaj-bhar ki juban hona)

“गज-भर की जबान होना” एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है जो व्यक्ति की बोलने की अधिकता और अनावश्यक बातों को बताने की प्रवृत्ति को दर्शाता है।

परिचय: हिंदी भाषा में मुहावरे अक्सर जटिल विचारों और मानवीय व्यवहारों को सरल और प्रभावशाली तरीके से प्रस्तुत करते हैं। “गज-भर की जबान होना” मुहावरा भी ऐसा ही है, जो व्यक्ति की बातचीत में अतिशयोक्ति की ओर संकेत करता है।

अर्थ: इस मुहावरे का अर्थ है कि किसी व्यक्ति की जबान बहुत लंबी होती है, यानी वह बहुत ज्यादा या अनावश्यक बातें करता है। यह उन लोगों के लिए प्रयोग होता है जो बिना सोचे-समझे या अत्यधिक बोलते हैं।

प्रयोग: यह मुहावरा तब इस्तेमाल किया जाता है जब किसी को अत्यधिक बोलने की आदत या बिना जरूरत के बहुत कुछ कह देने की प्रवृत्ति पर टिप्पणी करनी हो।

उदाहरण:

मान लीजिए, एक व्यक्ति कार्यालय में बिना जरूरत के बहुत अधिक बातें करता है और अक्सर गोपनीय जानकारी भी उजागर कर देता है, तो उसके बारे में कहा जा सकता है, “उसकी तो गज-भर की जबान है।”

निष्कर्ष: “गज-भर की जबान होना” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि बोलने से पहले सोचना और आवश्यकता से ज्यादा न बोलना बहुत जरूरी है। यह हमें यह भी बताता है कि अत्यधिक या अनावश्यक बोलने से न केवल अपनी बल्कि दूसरों की समस्याएं भी बढ़ सकती हैं। इसलिए, सोच-समझ कर बोलने की आदत विकसित करना महत्वपूर्ण है।

Hindi Muhavare Quiz

गज-भर की जबान होना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में अमन नाम का एक लड़का रहता था। अमन की एक खास बात थी – उसकी गज-भर की जबान। वह दिनभर बिना थके, बिना रुके बातें किया करता था।

अमन के इस स्वभाव के कारण गाँव के लोग अक्सर उससे कतराते थे। एक दिन गाँव में एक नाटक का आयोजन होना था, और अमन को भी इसमें एक छोटा सा किरदार मिला। नाटक की रिहर्सल के दौरान अमन ने अपनी बातों से सबको इतना परेशान कर दिया कि निर्देशक ने उसे नाटक से बाहर कर दिया।

अमन इससे बहुत दुखी हुआ और उसने अपने गुरुजी से सलाह मांगी। गुरुजी ने उसे समझाया कि “बातें करना अच्छा है, लेकिन हर समय और हर बात को लेकर बात करना उचित नहीं होता। तुम्हारी ‘गज-भर की जबान’ तुम्हारे और दूसरों के लिए समस्या बन रही है।”

अमन ने गुरुजी की बातों पर ध्यान दिया और धीरे-धीरे अपनी बातचीत को संयमित करना शुरू किया। वह जब भी बोलता, सोच-समझकर और आवश्यकतानुसार बोलता।

कुछ समय बाद, अमन को गाँववालों ने उसके इस बदलाव के लिए सराहना की और वह फिर से नाटक में शामिल हो गया।

इस कहानी के माध्यम से हमें यह सिखने को मिलता है कि “गज-भर की जबान होना” यानी अनावश्यक और अत्यधिक बातें करने से बचना चाहिए और सोच-समझ कर बोलने की आदत डालनी चाहिए। इससे न सिर्फ खुद का बल्कि दूसरों का भी सम्मान और सहयोग प्राप्त होता है।

शायरी:

गज-भर की जबान से क्या हासिल, दिलों को दुखाने का,
खामोशी में भी एक सुकून है, ये समझाने का।

बातों का क्या है, वो तो बहते नीर की तरह,
जहाँ थम जाए, वहीं सारा जहाँ होता है।

गज-भर की जबान लेकर क्या करना,
जब एक लफ्ज़ में ही सब कुछ कह दिया जाना।

खामोशी की भी अपनी एक जबान होती है,
जो समझ जाए, वो सच्चा इंसान होता है।

बोलने से पहले सोच लिया करो, यारों,
गज-भर की जबान में अक्सर, दिल टूट जाते हैं।

शब्दों की ताकत को पहचानो, इसे बेवजह न खोना,
जिसने ये जान लिया, वो सबका मान होता है।

 

गज-भर की जबान होना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of गज-भर की जबान होना – Gaj-bhar ki juban hona Idiom:

“Gaj-bhar ki juban hona” is a popular Hindi idiom that illustrates a person’s tendency to talk excessively and to speak unnecessary things.

Introduction: In the Hindi language, idioms often present complex ideas and human behaviors in a simple and impactful way. The idiom “to have a tongue as long as a yard” is one such phrase, indicating exaggeration in conversation.

Meaning: The idiom means that a person has a very long tongue, metaphorically speaking, indicating that they talk too much or say unnecessary things. It is used for those who speak without thinking or speak excessively.

Usage: This idiom is used when commenting on someone’s habit of excessive talking or the tendency to say a lot without necessity.

Example:

For instance, if a person in an office talks excessively without need and often reveals confidential information, it can be said about them, “He/she has a tongue as long as a yard.”

Conclusion: The idiom “Gaj-bhar ki juban hona” teaches us that it is very important to think before speaking and not to talk more than necessary. It also tells us that excessive or unnecessary talking can increase not only one’s own problems but also others’. Therefore, developing the habit of thinking and speaking judiciously is important.

Story of ‌‌Gaj-bhar ki juban hona Idiom in English:

In a small village, there lived a boy named Aman. Aman had a peculiar trait – he had a ‘tongue as long as a yard.’ He used to talk non-stop all day without getting tired.

Due to this nature of Aman, people in the village often avoided him. One day, there was a play being organized in the village, and Aman got a small role in it. During the rehearsal of the play, Aman annoyed everyone so much with his incessant talking that the director excluded him from the play.

Aman was very upset and sought advice from his teacher. The teacher explained to him, “It is good to talk, but it is not appropriate to talk all the time and about everything. Your ‘tongue as long as a yard’ is becoming a problem for you and others.”

Aman paid heed to his teacher’s words and gradually started to control his conversations. Whenever he spoke, he did so thoughtfully and only when necessary.

After some time, the villagers appreciated Aman for his change, and he was included again in the play.

This story teaches us that having a ‘tongue as long as a yard,’ meaning speaking unnecessarily and excessively, should be avoided. One should develop the habit of speaking thoughtfully. This not only earns self-respect but also the respect and cooperation from others.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

इस मुहावरे का उदाहरण क्या हो सकता है?

“उस नेता की गज-भर की जबान ने लोगों को प्रभावित कर दिया और उन्होंने एक उत्कृष्ट भाषण दिया।”

गज-भर की जबान हो मुहावरा का उपयोग कहाँ होता है?v

इस मुहावरे का उपयोग व्यक्ति की ताकतवर और प्रभावशाली भाषा की स्थिति को बयान करने में किया जाता है, जैसे कोई भाषण या उद्घाटन के समय।

गज-भर की जबान हो मुहावरा का अर्थ क्या है?

यह मुहावरा किसी की बहुत भारी और सक्रिय भाषा को संकेतित करता है, जिसमें व्यक्ति की ज़बान बहुत चुस्त और जोरदार होती है।

गज-भर की जबान हो मुहावरे का संबंध किस भाषा के साथ है?

यह मुहावरा हिंदी भाषा का है और इसका प्रयोग हिंदी में होता है।

क्या इस मुहावरे का कोई विपरीत अर्थ हो सकता है?

नहीं, इस मुहावरे का सामान्यत: सकारात्मक ही अर्थ होता है और उसे उलटा किया नहीं जा सकता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।