Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » दुनिया में दूध का धुला कोई भी नहीं अर्थ, प्रयोग (Duniya mein doodh ka dhula koi bhi nahi hai)

दुनिया में दूध का धुला कोई भी नहीं अर्थ, प्रयोग (Duniya mein doodh ka dhula koi bhi nahi hai)

परिचय: “दुनिया में दूध का धुला कोई भी नहीं” यह हिंदी की एक प्रचलित मुहावरा है, जिसका अर्थ होता है कि कोई भी व्यक्ति पूर्णतः निर्दोष या पापमुक्त नहीं होता। इस मुहावरे का उपयोग यह दर्शाने के लिए किया जाता है कि हर व्यक्ति में कुछ न कुछ दोष या कमियाँ होती हैं।

अर्थ: इस मुहावरे में “दूध का धुला” शब्दावली का इस्तेमाल किसी के निर्दोष होने की अवधारणा को दर्शाता है। दूध, जो कि शुद्धता का प्रतीक माना जाता है, इसमें “धुला” शब्द का समावेश यह बताता है कि कोई भी इतना शुद्ध या पापरहित नहीं होता, जैसा कि वह दिखाई देता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग अक्सर तब किया जाता है जब किसी के चरित्र या आचरण पर चर्चा हो रही हो और यह दर्शाना हो कि हर किसी में कुछ न कुछ कमियां होती हैं। यह अहंकार और आत्ममुग्धता के विरुद्ध एक चेतावनी के रूप में भी काम करता है।

उदाहरण:

-> राजनीति में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर चर्चा करते हुए, कोई कह सकता है, “इस क्षेत्र में दुनिया में दूध का धुला कोई भी नहीं है।”

-> अपने मित्र के आदर्शवादी विचारों पर टिप्पणी करते हुए, “तुम्हें समझना चाहिए कि दुनिया में दूध का धुला कोई भी नहीं होता।”

निष्कर्ष: इस मुहावरे का महत्व इस बात में निहित है कि यह हमें यह याद दिलाता है कि कोई भी व्यक्ति पूर्णतः परिपूर्ण नहीं होता। इसका उपयोग कर हम आत्म-समीक्षा कर सकते हैं और दूसरों के प्रति अधिक सहानुभूतिपूर्ण बन सकते हैं। यह मुहावरा हमें यह भी सिखाता है कि हमें दूसरों की कमियों के प्रति अधिक उदार होना चाहिए, क्योंकि हम स्वयं भी पूर्णतः निर्दोष नहीं हैं।

दुनिया में दूध का धुला कोई भी नहीं मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक सुदूर गाँव था जिसका नाम आदर्श ग्राम था। इस गाँव में विशाल नाम का एक युवक रहता था। विशाल बहुत ही नेक और ईमानदार था, और उसे गाँव का सबसे आदर्श व्यक्ति माना जाता था। उसका विश्वास था कि उसके गाँव के हर व्यक्ति में कुछ न कुछ अवगुण या कमी अवश्य होती है।

एक दिन, गाँव में एक संत आए। विशाल ने संत से गाँव के लोगों को नैतिकता का पाठ पढ़ाने का अनुरोध किया। संत ने विशाल को एक चुनौती दी, “तुम एक दिन के लिए गाँव के प्रत्येक व्यक्ति की अच्छाई और बुराई को देखो और मुझे बताओ।”

विशाल ने पूरे गाँव का दौरा किया। उसने देखा कि जिसे वह अवगुणी समझता था, उसमें भी कुछ अच्छाई थी, और जिन्हें वह अच्छा समझता था, उनमें भी कुछ कमियाँ थीं। यह देखकर वह अचंभित रह गया।

जब वह संत के पास लौटा, तो उसने अपना अनुभव साझा किया। संत मुस्कुराए और बोले, “विशाल, तुमने सही देखा है। इस दुनिया में दूध का धुला कोई भी नहीं होता। हर व्यक्ति में कुछ न कुछ अच्छाई और बुराई होती है। यही जीवन का सार है।”

विशाल को इस बात का गहराई से अहसास हुआ और उसने गाँववालों को यह शिक्षा दी। उस दिन के बाद, विशाल और गाँव के लोगों ने एक-दूसरे की कमियों को समझना और स्वीकारना शुरू कर दिया। आदर्श ग्राम अब और भी अधिक सहिष्णु और समझदार बन गया।

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि हमें दूसरों की कमियों के प्रति उदार होना चाहिए और यह समझना चाहिए कि कोई भी पूर्णतः निर्दोष नहीं होता।

शायरी:

इस जहां में कोई दूध का धुला नहीं,

हर किसी में कुछ न कुछ सिला नहीं।

गलतियों का हिसाब किसे दें यहाँ,

हर शख्स में कोई न कोई खता नहीं।

आईने में खुद को देखा जब भी,

पाया खुद में भी वो रौशन जिला नहीं।

हर दिल में छिपी है एक अजनबी दास्ताँ,

इस दुनिया में कोई परफेक्ट कहानी नहीं।

इस फिलोसॉफी का लें अगर सबक,

तो जीना यहाँ कोई मुश्किल बात नहीं।

 

दुनिया में दूध का धुला कोई भी नहीं शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of दुनिया में दूध का धुला कोई भी नहीं – Duniya mein doodh ka dhula koi bhi nahi hai Idiom:

Introduction: “Duniya mein doodh ka dhula koi bhi nahi hai” is a popular Hindi idiom, meaning that no person is entirely faultless or free from sin. This idiom is used to convey that everyone has some flaws or shortcomings.

Meaning: In this idiom, the phrase “washed in milk” symbolizes the concept of being faultless. Milk, often considered a symbol of purity, is used here with the term “washed” to illustrate that no one is as pure or sin-free as they might appear to be.

Usage: This idiom is frequently used when discussing someone’s character or behavior, to point out that everyone has some flaws. It also serves as a warning against arrogance and self-righteousness.

Example:

-> During a discussion on corruption in politics, one might say, “In this field, no one is completely innocent in the world.”

-> Commenting on a friend’s idealistic views, “You should understand that no one is completely innocent in the world.”

Conclusion: The significance of this idiom lies in reminding us that no one is perfect. By using it, we can engage in self-reflection and become more empathetic towards others. This idiom also teaches us to be more forgiving of others’ faults, as we ourselves are not entirely faultless.

Story of ‌‌Duniya mein doodh ka dhula koi bhi nahi hai Idiom in English:

Once upon a time, there was a remote village named Ideal Village. In this village lived a young man named Vishal. Vishal was very kind and honest, and was considered the most exemplary person in the village. He believed that every person in his village had some flaws or shortcomings.

One day, a sage visited the village. Vishal requested the sage to teach the villagers about morality. The sage challenged Vishal, saying, “For one day, observe the good and bad in every person of the village and tell me about it.”

Vishal toured the entire village. He saw that those he thought were flawed had some good in them, and those he thought were good also had some flaws. This left him astonished.

When he returned to the sage, he shared his experience. The sage smiled and said, “Vishal, you have seen correctly. In this world, no one is completely washed in milk. Every person has some good and some bad in them. That’s the essence of life.”

Vishal deeply realized this truth and shared his learning with the villagers. From that day on, Vishal and the villagers began to understand and accept each other’s shortcomings. Ideal Village became even more tolerant and wise.

This story teaches us that we should be generous towards the flaws of others and understand that no one is completely faultless.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।