Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » दूज का चांद होना अर्थ, प्रयोग (Dooj ka chand hona)

दूज का चांद होना अर्थ, प्रयोग (Dooj ka chand hona)

“दूज का चांद होना” यह एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है जो अक्सर भारतीय समाज में प्रयोग किया जाता है।

परिचय: हिंदी भाषा में मुहावरे भाषा की समृद्धि को दर्शाते हैं। “दूज का चांद होना” मुहावरा इसी समृद्धि का एक हिस्सा है। यह मुहावरा भावनात्मक और लाक्षणिक अर्थ प्रदान करता है।

अर्थ: “दूज का चांद होना” का शाब्दिक अर्थ है – दूसरे दिन का चांद। लेकिन, इसका लाक्षणिक अर्थ है किसी व्यक्ति या वस्तु का बहुत कम समय के लिए दिखाई देना। यह उस स्थिति को दर्शाता है जब कोई व्यक्ति या चीज बहुत ही कम अवधि के लिए प्रकट होती है और फिर गायब हो जाती है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग उन परिस्थितियों में किया जाता है जहां कोई व्यक्ति या चीज अक्सर नहीं दिखती, लेकिन कभी-कभार प्रकट होती है। इसका प्रयोग किसी ऐसे व्यक्ति के लिए भी किया जाता है जो बहुत कम दिखाई देता है या जो अक्सर अनुपस्थित रहता है।

उदाहरण:

-> विशाल तो दूज का चांद हो गया है, साल में एक बार ही अपने गांव आता है।

-> हमारे पड़ोसी इतने व्यस्त रहते हैं कि वे दूज के चांद की तरह कभी-कभार ही दिखाई देते हैं।

निष्कर्ष: “दूज का चांद होना” मुहावरा उन व्यक्तियों या चीजों की दुर्लभता या अक्सर अनुपस्थित रहने की प्रवृत्ति को व्यक्त करता है। यह मुहावरा हिंदी भाषा की सौंदर्यता और भावपूर्ण अभिव्यक्ति को दर्शाता है। हिंदी मुहावरों का प्रयोग भाषा को और अधिक रोचक और जीवंत बनाता है।

इस प्रकार, “दूज का चांद होना” मुहावरा न केवल एक भाषाई अलंकार है, बल्कि यह हमारी सांस्कृतिक और सामाजिक संवेदनाओं को भी व्यक्त करता है। यह मुहावरा हमें यह भी सिखाता है कि हमारे जीवन में कुछ चीजें और व्यक्ति ऐसे होते हैं जिनका महत्व उनकी अनुपस्थिति में ही अधिक समझ में

आता है। इसलिए, इस मुहावरे का प्रयोग हमें उन चीजों और लोगों की कद्र करना सिखाता है जो हमेशा हमारे पास नहीं होते, लेकिन जब भी वे उपस्थित होते हैं, तो उनका महत्व बहुत बढ़ जाता है।

इस प्रकार, “दूज का चांद होना” न सिर्फ एक भाषाई विशेषता है, बल्कि यह हमारे जीवन के विभिन्न पहलुओं में गहराई से निहित है। इस मुहावरे का प्रयोग करके हम अपनी बातों में भावनाओं का संचार कर सकते हैं और साथ ही, यह हमें उन चीजों की अहमियत का एहसास कराता है जो हमारे जीवन में कम ही नजर आती हैं। इसलिए, यह मुहावरा हिंदी भाषा की संस्कृति और परंपरा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

दूज का चांद होना मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में ‘नियांत’ नाम का एक लड़का रहता था। नियांत काफी मेहनती और प्रतिभाशाली था, लेकिन उसके पास एक खास आदत थी – वह बहुत ही कम दिखाई देता था। वह अपने काम में इतना व्यस्त रहता था कि गाँववालों को उसका दर्शन होना दुर्लभ हो गया था।

नियांत जब भी गाँव में दिखाई देता, लोग कहते, “अरे! आज तो दूज का चांद निकल आया है।” उसके इस तरह कम दिखाई देने की वजह से गाँववाले उसे ‘दूज का चांद’ के नाम से पुकारने लगे।

एक दिन, गाँव में एक बड़ा उत्सव था। सभी गाँववाले उत्सव में शामिल होने के लिए एकत्रित हुए। लेकिन नियांत वहाँ नहीं था। उसकी अनुपस्थिति ने सभी को बहुत निराश किया। लोगों ने कहा, “अगर नियांत यहाँ होता, तो उत्सव की रौनक और भी बढ़ जाती।”

इस घटना से गाँववालों को नियांत की अहमियत का एहसास हुआ। उन्हें समझ आया कि नियांत की उपस्थिति, भले ही दुर्लभ हो, लेकिन उसका महत्व बहुत ज्यादा है।

नियांत जब उत्सव के अगले दिन गाँव लौटा, तो गाँववालों ने उसे गर्मजोशी से स्वागत किया। उन्होंने उसे बताया कि कैसे उसकी अनुपस्थिति ने उत्सव की खुशियों में कमी कर दी थी। नियांत को इससे बहुत कुछ सीखने को मिला। उसने महसूस किया कि उसकी उपस्थिति का गाँववालों पर बड़ा प्रभाव पड़ता है।

इसके बाद, नियांत ने अपने काम के साथ-साथ समाजिक जीवन में भी सक्रिय होने का निर्णय लिया। वह अब अधिक बार गाँव में दिखाई देने लगा और गाँववालों के साथ समय बिताने लगा। उसने समझा कि उसकी उपस्थिति से न केवल उसे खुशी मिलती है, बल्कि उसके आसपास के लोग भी खुश होते हैं।

नियांत की कहानी ने गाँववालों को “दूज का चांद होना” मुहावरे का अर्थ समझाया। उन्हें सिखाया कि किसी की दुर्लभता उसके महत्व को और भी बढ़ा देती है, और कभी-कभार दिखाई देने वाली चीज़ या व्यक्ति का मूल्य बहुत अधिक होता है। इस प्रकार, नियांत और गाँववालों ने मिलकर इस मुहावरे का सच्चा अर्थ समझा और एक दूसरे की कद्र करना सीखा।

शायरी:

दूज का चांद जो निकले, बात कुछ और ही होती,

हर दिल में एक उम्मीद, हर नज़र में बात खोटी।

ये दुनिया भी अजब है, चांद से कम नहीं,

जो रोज़ दिखे वो प्यारा, जो कम दिखे वो गहरा जहाँ।

गुज़रती शाम का आलम, चांद की दुर्लभता में खोया,

हर इक चेहरे में अर्जुन, हर इक दिल में वो रोया।

दूज के चांद की याद में, बातें बनती रहती हैं,

वो जब भी आए, हर इक रूह, उसमें खोई रहती है।

इस दुनिया की रीत है, अनमोल वो जो नायाब हो,

दूज का चांद बनकर, दिलों में वो ही राज करे।

 

दूज का चांद होना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of दूज का चांद होना – Dooj ka chand hona Idiom:

“Dooj ka chand hona” is a popular Hindi idiom often used in Indian society.

Introduction: Idioms in the Hindi language illustrate the richness of the language. “Dooj ka chand hona” is a part of this richness. This idiom provides an emotional and figurative meaning.

Meaning: The literal meaning of “Dooj ka chand hona” is – the moon of the second day. However, its figurative meaning is the brief appearance of a person or an object. It represents a situation where a person or thing appears for a very short duration and then disappears.

Usage: This idiom is used in situations where a person or thing is not often seen but appears occasionally. It is also used for someone who is rarely seen or often absent.

Example:

-> “Vishal has become like the moon of ‘Dooj’, he only comes to his village once a year.”

-> “Our neighbors are so busy that they are seen only occasionally, just like the moon of ‘Dooj’.”

Conclusion: The idiom “Dooj ka chand hona” expresses the rarity or frequent absence of individuals or things. It illustrates the beauty and expressive nature of the Hindi language. The use of idioms makes the language more interesting and lively.

Thus, the idiom “Dooj ka chand hona” is not only a linguistic ornament but also expresses our cultural and social sentiments. It teaches us that in our lives, some things and people are more significant in their absence. Therefore, this idiom instructs us to appreciate those things and people who are not always with us, but their significance greatly increases when they are present. In this way, “Being the moon of ‘Dooj'” is deeply embedded in various aspects of our life, allowing us to communicate emotions in our speech and making us realize the importance of things that are rarely seen in our lives. Hence, this idiom is an important part of the culture and tradition of the Hindi language.

Story of ‌‌Dooj ka chand hona Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a boy named ‘Niyant’. Niyant was hardworking and talented, but he had a peculiar habit – he was rarely seen. He was so occupied with his work that his appearance became a rare event for the villagers.

Whenever Niyant appeared in the village, people would exclaim, “Look! The moon of ‘Dooj’ has emerged today.” Due to his rare appearances, the villagers started calling him ‘the moon of Dooj’.

One day, there was a grand festival in the village. All the villagers gathered to participate. However, Niyant was not there. His absence deeply disappointed everyone. People said, “If Niyant were here, the festival would have been even more joyful.”

This incident made the villagers realize the importance of Niyant. They understood that although his presence was rare, it was highly significant.

When Niyant returned to the village the next day after the festival, the villagers welcomed him warmly. They told him how his absence had diminished the joy of the festival. Niyant learned a lot from this. He realized that his presence had a significant impact on the villagers.

Afterward, Niyant decided to be active in social life along with his work. He began to appear more frequently in the village and spent time with the villagers. He understood that not only did his presence bring him happiness, but it also made the people around him happy.

Niyant’s story explained to the villagers the meaning of the idiom “Being the moon of ‘Dooj’.” It taught them that the rarity of someone increases their importance, and the value of a person or thing that appears occasionally is very high. Thus, Niyant and the villagers together understood the true meaning of this idiom and learned to appreciate each other.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।