Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » दिमाग में भूसा भरा होना अर्थ, प्रयोग (Dimag mein bhusa bhara hona)

दिमाग में भूसा भरा होना अर्थ, प्रयोग (Dimag mein bhusa bhara hona)

परिचय: “दिमाग में भूसा भरा होना” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है, जिसका उपयोग किसी व्यक्ति की बुद्धिमत्ता या समझदारी पर प्रश्न चिन्ह लगाने के लिए किया जाता है। यह मुहावरा तब प्रयोग किया जाता है जब किसी की बातें या कार्य अव्यावहारिक और असंगत प्रतीत होते हैं।

अर्थ: “दिमाग में भूसा भरा होना” का अर्थ है कि किसी व्यक्ति के दिमाग में तर्क-वितर्क या समझदारी की कमी होना। इसका प्रयोग उस समय होता है जब किसी व्यक्ति की बातें या कार्य सामान्य बुद्धि या तर्क से परे होते हैं।

प्रयोग: इस मुहावरे का अक्सर तब उपयोग किया जाता है जब किसी की बातें या व्यवहार बेतुके या मूर्खतापूर्ण लगते हैं। यह व्यक्ति के अविवेकी या अव्यावहारिक होने को दर्शाता है।

उदाहरण:

-> सुभाष ने जब बिना सोचे-समझे अपना सारा पैसा एक अविश्वसनीय योजना में लगा दिया, तब उसके दोस्त ने कहा, “लगता है तेरे दिमाग में भूसा भरा है।”

-> जब सुमन ने बिना तथ्यों की जांच किए अफवाह फैलाना शुरू कर दिया, तो उसकी सहेली ने कहा, “तुम्हारे दिमाग में तो भूसा भरा है।”

निष्कर्ष: “दिमाग में भूसा भरा होना” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि सोच-समझकर और तर्कपूर्ण ढंग से कार्य करना महत्वपूर्ण है। यह हमें यह भी बताता है कि अव्यावहारिक या अविवेकी होने से हम अन्य लोगों के लिए हास्यास्पद या अविश्वसनीय बन सकते हैं। इसलिए, हमेशा सोच-समझकर और समझदारी से निर्णय लेना चाहिए।

दिमाग में भूसा भरा होना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गांव में अमन नाम का एक लड़का रहता था। अमन को अपनी बातों और कामों में बिना सोचे-समझे फैसले लेने की आदत थी। गांववाले अक्सर उसे “दिमाग में भूसा भरा होना” की मिसाल कहते थे।

एक दिन अमन ने सुना कि गांव के पास एक तालाब में सोने की मछलियां हैं। बिना सोचे-समझे और किसी से सलाह लिए बिना, अमन ने अपने सारे पैसे उस तालाब की मछली पकड़ने के उपकरणों में लगा दिए।

जब वह तालाब पहुंचा, तो पता चला कि यह तो सिर्फ एक अफवाह थी। वहां कोई सोने की मछली नहीं थी। अमन के सारे पैसे और समय बर्बाद हो गए।

जब अमन निराश होकर वापस आया, तो गांववालों ने उसे समझाया, “देखा, बिना सोचे-समझे काम करने का नतीजा। तुम्हारे दिमाग में भूसा भरा होने की वजह से तुम्हें नुकसान उठाना पड़ा।”

इस घटना के बाद अमन ने सीखा कि बिना सोचे-समझे फैसले लेना और अव्यावहारिक होना उसे कहीं नहीं पहुंचाएगा। अमन ने तब से हमेशा ध्यान से सोचने और समझदारी से काम लेने की कोशिश की।

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि “दिमाग में भूसा भरा होना” यानी बिना सोचे-समझे और अव्यावहारिक रूप से काम करना हमेशा नुकसानदायक होता है। इसलिए हमें हमेशा सोच-समझकर और विवेकपूर्ण ढंग से फैसले लेने चाहिए।

शायरी:

दिमाग में भूसा भरा है, सोच नहीं कोई नई,

चलता है वो अंधेरे में, जैसे हो राह से खोई।

हर बात पर वो करता है गलतियां अपनी,

“दिमाग में भूसा भरा” कहती है दुनिया सारी।

सपने वो बुनता रहता, बिना किसी मेहनत के,

खोया रहता है ख्यालों में, बिना किसी ठोस रेखत के।

कहते हैं लोग उसे देख, खो गया है वो भूल में,

दिमाग में भूसा भरा, चलता फिरता है उसूल में।

जीवन की राह में वो, बिना सोचे ही चलता रहता,

दिमाग में भूसा भरा, हर फैसले में वो बहता।

 

दिमाग में भूसा भरा होना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of दिमाग में भूसा भरा होना – Dimag mein bhusa bhara hona Idiom:

Introduction: “दिमाग में भूसा भरा होना” is a popular Hindi idiom used to question someone’s intelligence or wisdom. It is used when someone’s words or actions seem impractical and inconsistent.

Meaning: “दिमाग में भूसा भरा होना” literally means having hay filled in the brain, implying a lack of reasoning or wisdom in someone. It is used when a person’s words or actions are beyond common sense or logic.

Usage: This idiom is often used when someone’s words or behavior appear foolish or nonsensical. It indicates a person’s lack of discretion or impracticality.

Example:

-> When Subhash invested all his money in an unreliable scheme without thinking, his friend said, “It seems like your brain is filled with hay.”

-> When Suman started spreading rumors without checking the facts, her friend commented, “Your brain is filled with hay.”

Conclusion: The idiom “दिमाग में भूसा भरा होना” teaches us the importance of thinking carefully and acting logically. It also tells us that being impractical or unwise can make us appear ridiculous or unreliable to others. Therefore, it’s always better to make decisions thoughtfully and wisely.

Story of ‌‌Dimag mein bhusa bhara hona Idiom in English:

In a small village, there lived a boy named Aman. Aman had a habit of making decisions impulsively in his speech and actions. The villagers often referred to him as an example of “having straw in the brain.”

One day, Aman heard that there were golden fish in a pond near the village. Without thinking and consulting anyone, Aman invested all his money in equipment to catch fish from that pond.

When he reached the pond, he found out it was just a rumor. There were no golden fish. All of Aman’s money and time were wasted.

Disappointed, Aman returned to the village, where the villagers explained to him, “See, this is the result of acting without thinking. Because your brain was filled with straw, you had to suffer losses.”

After this incident, Aman learned that making decisions without thinking and being impractical would lead him nowhere. From then on, Aman always tried to think carefully and act wisely.

This story teaches us that “having straw in the brain,” meaning acting without thinking and being impractical, is always harmful. Therefore, we should always make decisions thoughtfully and judiciously.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।