Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » ढाई दिन की बादशाहत, अर्थ, प्रयोग(Dhai din ki badshahat)

ढाई दिन की बादशाहत, अर्थ, प्रयोग(Dhai din ki badshahat)

परिचय: “ढाई दिन की बादशाहत” एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है जो अल्पकालिक और अस्थायी सफलता या शक्ति का संकेत देता है। इसका प्रयोग अक्सर उन परिस्थितियों में किया जाता है जहां किसी व्यक्ति को बहुत कम समय के लिए अधिकार या सम्मान मिलता है।

अर्थ: इस मुहावरे का अर्थ है कि कोई व्यक्ति बहुत कम समय के लिए सत्ता या प्रभाव में होता है। यह उस अवधि की अस्थिरता और अल्पकालिकता को दर्शाता है जो जल्दी खत्म हो जाती है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग तब किया जाता है जब हम यह बताना चाहते हैं कि किसी को मिली सत्ता या प्रतिष्ठा क्षणिक और अस्थायी है।

उदाहरण:

-> जब एक कर्मचारी को अचानक प्रमोशन मिलता है, पर वह जल्दी ही अपनी पुरानी पोजीशन पर वापस आ जाता है, तो कहा जा सकता है, “उसकी तो ढाई दिन की बादशाहत थी।”

-> एक राजनीतिक नेता जो कुछ समय के लिए सत्ता में आता है पर जल्द ही हटा दिया जाता है, उसे भी इस मुहावरे से व्यक्त किया जा सकता है।

निष्कर्ष: “ढाई दिन की बादशाहत” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि अस्थायी सफलता और शक्ति का मोह न करें। यह जीवन में स्थायित्व और दीर्घकालिक लक्ष्यों की महत्ता को भी दर्शाता है। यह हमें यह याद दिलाता है कि वास्तविक सफलता और शक्ति समय के साथ निर्मित होती है और उसकी अपनी एक स्थायी छाप होती है।

Hindi Muhavare Quiz

ढाई दिन की बादशाहत मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में विशाल नाम का एक युवक रहता था। वह गाँव के सरपंच का बेटा था और हमेशा अपने पिता की सत्ता और प्रतिष्ठा का दिखावा करता। एक दिन, उसके पिता को किसी कार्य के लिए बाहर जाना पड़ा, और उन्होंने विशाल को अपनी अनुपस्थिति में गाँव का कार्यभार संभालने को कहा।

विशाल ने इसे अपनी बड़ी सफलता माना और खुद को गाँव का नया सरपंच समझने लगा। वह गाँववालों पर रौब गाँठने लगा और अपनी छोटी सी सत्ता का उपयोग मनमाने ढंग से करने लगा। लेकिन यह सब कुछ दिनों के लिए ही था। जैसे ही उसके पिता वापस आए, विशाल को अपनी सामान्य जिंदगी में लौटना पड़ा।

गाँववाले उसकी इस छोटी अवधि की सरपंची को ‘ढाई दिन की बादशाहत’ कहकर चिढ़ाते। विशाल को समझ आ गया कि उसने जो सत्ता का अनुभव किया था, वह केवल क्षणिक था और उसकी असली पहचान उसके काम और व्यवहार में निहित है।

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि अस्थायी सफलता और शक्ति का मोह न करें। “ढाई दिन की बादशाहत” का अर्थ है कि जो सत्ता या प्रतिष्ठा थोड़े समय के लिए मिलती है, वह अस्थायी और नश्वर होती है। वास्तविक सफलता और सम्मान समय के साथ और लगातार परिश्रम से प्राप्त होती है।

शायरी:

ढाई दिन की बादशाहत में क्या रखा है यार,
जिंदगी तो वो है जो चले बरसों बार-बार।

सिंहासन पर बैठे तो खुद को ना समझो खुदा,
असली राजा वो है जो दिलों पर करे राज।

आज यहाँ, कल वहाँ, सत्ता की यही कहानी है,
जो ठहरा नहीं कभी, वो बादशाहत भी क्या बादशाहत है।

मिली जब सत्ता तो याद रखना ये बात,
ढाई दिन की चमक में ना खो देना अपनी रात।

बादशाहत की ये दुनिया फानी, यहाँ कुछ भी नहीं स्थायी,
जिसने दिल जीता, वही सच्चा राजा, बाकी सब है अस्थायी।

 

"ढाई दिन की बादशाहत मुहावरे का प्रतीकात्मक चित्र", "अल्पकालिक सफलता की छवि", "बुद्धिमान समझ के साथ हिंदी मुहावरा", "सत्ता की अस्थायिता दर्शाता चित्र", "भारतीय संस्कृति में प्रचलित मुहावरा"

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of ढाई दिन की बादशाहत – Dhai din ki badshahat Idiom:

Introduction: “ढाई दिन की बादशाहत” is a popular Hindi idiom that indicates short-lived and temporary success or power. It is often used in situations where someone gains authority or respect for a very brief period.

Meaning: The meaning of this idiom is that a person holds power or influence for a very short time. It reflects the instability and brevity of that period which ends quickly.

Usage: This idiom is used when we want to convey that the power or prestige someone has gained is transient and temporary.

Usage:

-> When an employee suddenly gets a promotion but soon returns to their old position, it can be said, “It was just a brief reign of two and a half days for him.”

-> A political leader who comes into power for a short time and is soon removed can also be described using this idiom.

Conclusion: The idiom “ढाई दिन की बादशाहत” teaches us not to be enamored by temporary success and power. It also highlights the importance of stability and long-term goals in life. It reminds us that real success and power are built over time and have a lasting impact.

Story of ‌‌Dhai din ki badshahat Idiom in English:

In a small village, there lived a young man named Vishal. He was the son of the village headman and often boasted of his father’s power and prestige. One day, his father had to leave for some work and asked Vishal to take charge of the village in his absence.

Vishal considered this a great success and began to think of himself as the new headman of the village. He started to throw his weight around among the villagers and began to use his brief authority arbitrarily. However, this was only for a few days. As soon as his father returned, Vishal had to go back to his normal life.

The villagers teased him about his short tenure as the headman, calling it “a reign of two and a half days.” Vishal realized that the power he had experienced was fleeting and that his true identity was rooted in his work and behavior.

This story teaches us not to be enamored with temporary success and power. The meaning of “ढाई दिन की बादशाहत” is that the power or prestige that is obtained for a short time is transient and ephemeral. Real success and honor are achieved over time with consistent effort.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या इस मुहावरे का उपयोग केवल राजनीतिक संदर्भों में होता है?

नहीं, ढाई दिन की बादशाहत को किसी भी क्षेत्र में सामयिकता और अस्थायी शक्ति के रूप में व्यापकता से उपयोग किया जा सकता है।

यह मुहावरा किस प्रकार का है?

यह मुहावरा सामान्यत: भूकंपी तथा अस्थायी ताकत की बातें करने के लिए प्रयुक्त होता है।

ढाई दिन की बादशाहत मुहावरे का क्या अर्थ है?

ढाई दिन की बादशाहत” का मतलब है सामयिक और अस्थायी सत्ता या प्रभुत्व।

ढाई दिन की बादशाहत का विरुद्ध क्या है?

इसका विरुद्धार्थी मुहावरा “स्थायी बादशाहत” हो सकता है, जिसका मतलब स्थिर और स्थायी सत्ता होती है।

क्या इसका कोई इतिहासिक संदर्भ है?

: इस मुहावरे का सीधा इतिहासिक संदर्भ नहीं होता, लेकिन यह सामाजिक और राजनीतिक घटनाओं के संदर्भ में प्रयुक्त हो सकता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।