Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना अर्थ, प्रयोग (Derby ke ghode ki tarah daudna)

डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना अर्थ, प्रयोग (Derby ke ghode ki tarah daudna)

परिचय: “डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना” मुहावरा अंग्रेजी भाषा और संस्कृति से आया है। डर्बी, जो कि एक प्रसिद्ध घोड़े की दौड़ है, इस मुहावरे के केंद्र में है।

अर्थ: इस मुहावरे का अर्थ है बहुत तेज़ी से और पूरी शक्ति के साथ किसी कार्य को करना। यह उस प्रयास को दर्शाता है जो एक घोड़ा डर्बी दौड़ में लगाता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग अक्सर उन स्थितियों में किया जाता है जहां कोई व्यक्ति या संस्था अपनी पूरी क्षमता और ऊर्जा के साथ काम कर रही होती है।

उदाहरण: “परीक्षा की तैयारी में अमन डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ रहा है।” इस उदाहरण में, अमन की कड़ी मेहनत और समर्पण को डर्बी के घोड़े की दौड़ के साथ तुलना की गई है, जो उसकी असाधारण प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

निष्कर्ष: “डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना” मुहावरा उस स्थिति को बयान करता है जहां कोई व्यक्ति अपने लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु अथक प्रयास कर रहा होता है। यह मुहावरा हमें यह सिखाता है कि सफलता के लिए कठिन परिश्रम और पूरी निष्ठा से प्रयास करना आवश्यक है। यह न केवल हमें प्रेरित करता है, बल्कि उन मानदंडों को भी उजागर करता है जो व्यक्तियों को उनकी उच्चतम क्षमता तक पहुँचाने में मदद करते हैं।

इस प्रकार, “डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना” मुहावरा एक प्रेरक संदेश के साथ एक मजबूत और सार्थक अर्थ रखता है।

डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गांव में नियांत नाम का एक लड़का रहता था। नियांत का सपना था कि वह एक दिन देश का सबसे बड़ा धावक बने। हालांकि, उसके पास न तो अच्छे जूते थे और न ही प्रशिक्षण के लिए संसाधन। फिर भी, उसका हौसला बुलंद था।

हर दिन, नियांत सुबह जल्दी उठता और नंगे पांव ही अपने गांव के आसपास के खेतों में दौड़ने लगता। गांववाले उसे देखकर कहते, “देखो, नियांत तो डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ रहा है!” उनका मतलब था कि नियांत पूरी शक्ति और समर्पण के साथ अपने सपने की ओर बढ़ रहा था।

एक दिन, गांव में एक बड़ी दौड़ का आयोजन हुआ। नियांत ने भी इसमें भाग लिया। उसके पास न तो नए जूते थे और न ही किसी तरह का प्रोफेशनल प्रशिक्षण, पर उसकी इच्छाशक्ति और मेहनत ने उसे नहीं रुकने दिया। दौड़ शुरू होते ही नियांत ने अपनी पूरी ताकत से दौड़ना शुरू किया। उसकी दौड़

इतनी तेज और दृढ़ थी कि वह बाकी सभी प्रतियोगियों से आगे निकल गया। नियांत ने न केवल दौड़ जीती, बल्कि सभी का दिल भी जीत लिया।

उसकी इस जीत ने उसे गांव का हीरो बना दिया। लोग कहते, “नियांत ने साबित कर दिया कि अगर किसी काम को डर्बी के घोड़े की तरह करो, तो सफलता निश्चित है।” नियांत की कड़ी मेहनत, लगन और दृढ़ निश्चय ने उसे उसके सपने तक पहुंचाया।

इस कहानी से यह सिखने को मिलता है कि कोई भी लक्ष्य, चाहे वह कितना भी कठिन क्यों न हो, अगर उसे पूरी शक्ति और समर्पण के साथ अंजाम दिया जाए, तो वह हासिल किया जा सकता है। “डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना” मुहावरा इसी भावना को दर्शाता है। नियांत की तरह, हम सभी अपनी मेहनत और लगन से अपने सपनों को साकार कर सकते हैं।

शायरी:

जुनून से भरी धड़कनों में, उम्मीदों की जोत जली है,
डर्बी के घोड़े सी चाल में, हर मुश्किल आसान बनी है।

जीत की ख्वाहिशों को लेकर, चल पड़े हैं अनजान राहों में,
हर कदम पर इम्तिहान है, पर डगमगाना नहीं इन राहों में।

सपनों की दौड़ में, हर धूल को चुनौती दी है,
हर दर्द को पीछे छोड़, नई उम्मीद की किरण खिली है।

कहते हैं लोग, देखो उसे, उसकी चाल में जादू है,
जो ठान ली, वो पा ली, उसकी हिम्मत में वो बादशाहत का सजदा है।

डर्बी के घोड़े की तरह, जब दौड़े हैं हम भी,
तो फिर ये जहां क्या, आसमान भी कम पड़े है हमारी राहों में।

 

डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना – Derby ke ghode ki tarah daudna Idiom:

Introduction: The idiom “डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना” (Derby ke ghode ki tarah daudna) originates from the English language and culture. The Derby, a famous horse race, is at the core of this idiom.

Meaning: This idiom means to work on something with great speed and full strength. It represents the kind of effort a horse puts in during a derby race.

Usage: This idiom is often used in situations where an individual or an institution is working with their full capacity and energy.

Example:

In the example, “अमन परीक्षा की तैयारी में डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ रहा है।” (Aman is preparing for the exam like a horse running in a derby), Aman’s hard work and dedication are compared to the run of a horse in a derby, highlighting his extraordinary commitment.

Conclusion: The idiom “डर्बी के घोड़े की तरह दौड़ना” describes a situation where a person is making tireless efforts to achieve their goals. It teaches us that hard work and complete dedication are necessary for success. It not only motivates us but also highlights the standards that help individuals reach their highest potential. Thus, the idiom “Derby ke ghode ki tarah daudna” carries a strong and meaningful message with an inspiring undertone.

Story of ‌‌Derby ke ghode ki tarah daudna Idiom in English:

In a small village, there lived a boy named Niyant. Niyant dreamed of becoming the greatest runner in the country. However, he neither had good shoes nor resources for training. Yet, his determination was strong.

Every day, Niyant would wake up early and start running barefoot in the fields around his village. The villagers, seeing him, would say, “Look, Niyant is Derby ke ghode ki tarah daudna!” They meant that Niyant was moving towards his dream with full strength and dedication.

One day, a big race was organized in the village. Niyant participated in it too. He neither had new shoes nor any professional training, but his willpower and hard work did not let him stop. As soon as the race started, Niyant began running with all his might. His run was so fast and firm that he surpassed all other competitors. Niyant not only won the race but also won everyone’s heart.

His victory made him a hero in the village. People said, “Niyant has proven that if you do something like a horse in a derby, success is certain.” Niyant’s hard work, dedication, and determination helped him achieve his dream.

This story teaches us that any goal, no matter how difficult it may be, can be achieved if pursued with full strength and dedication. The idiom “Derby ke ghode ki tarah daudna” embodies this spirit. Like Niyant, we all can realize our dreams through our hard work and dedication.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।