Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » दर-दर की ठोकर खाना अर्थ, प्रयोग(Dar-dar ki thokar khana)

दर-दर की ठोकर खाना अर्थ, प्रयोग(Dar-dar ki thokar khana)

परिचय: “दर-दर की ठोकर खाना” का अर्थ है विभिन्न जगहों पर जाकर असफलता या कठिनाइयों का सामना करना। यह मुहावरा उन लोगों की स्थिति का वर्णन करता है जो जीवन में बार-बार ठोकरें खाते हैं और संघर्ष करते हैं।

अर्थ: इस मुहावरे का प्रयोग तब होता है जब किसी व्यक्ति को लगातार असफलताएँ मिलती हैं और वह विभिन्न स्थानों या अवसरों पर जाकर भी सफलता प्राप्त नहीं कर पाता।

प्रयोग: यह मुहावरा आमतौर पर उस समय प्रयोग किया जाता है जब कोई व्यक्ति नौकरी, शिक्षा, या अन्य व्यावसायिक अवसरों के लिए कई जगहों पर जाता है, लेकिन हर जगह उसे निराशा हाथ लगती है।

उदाहरण:

-> रोजगार की तलाश में अभय को “दर-दर की ठोकर खानी” पड़ी।

-> अपने व्यवसाय को स्थापित करने के लिए सुरेंद्र को कई बार “दर-दर की ठोकर खानी” पड़ी।

निष्कर्ष: “दर-दर की ठोकर खाना” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि जीवन में संघर्ष और कठिनाइयाँ आम बात हैं और इनसे निराश होने के बजाय धैर्य और संकल्प के साथ आगे बढ़ना चाहिए। यह हमें दृढ़ता और संघर्ष की भावना को समझाता है।

Hindi Muhavare Quiz

दर-दर की ठोकर खाना मुहावरा पर कहानी:

विकास एक प्रतिभाशाली युवक था, जो एक छोटे गांव में रहता था। उसके सपने बड़े थे, वह एक सफल व्यापारी बनना चाहता था। अपने सपने को साकार करने के लिए, वह बड़े शहर में गया और व्यापार स्थापित करने की कोशिश करने लगा।

परंतु, जीवन हमेशा आसान नहीं होता। विकास को अपने व्यापार के लिए उचित स्थान और सहयोग नहीं मिला। उसे “दर-दर की ठोकर खानी” पड़ी। वह हर एक बाजार, हर एक व्यापारिक मंडल में गया, लेकिन हर जगह से उसे निराशा ही हाथ लगी।

इस बीच, उसकी बचत भी समाप्त होने लगी थी और वह आर्थिक संकट में फंस गया। लेकिन विकास ने हार नहीं मानी। उसने अपने प्रयास जारी रखे। उसकी मेहनत और लगन ने उसे एक दिन सफलता दिलाई।

आखिरकार, उसके प्रयासों का फल मिला और उसका व्यापार फलने-फूलने लगा। विकास ने सीखा कि “दर-दर की ठोकर खाना” भी जीवन का एक हिस्सा है, और इन ठोकरों से ही सीखकर आगे बढ़ा जा सकता है।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि जीवन में संघर्ष और असफलताएं अनिवार्य हैं, लेकिन धैर्य और प्रयास से हम अपने लक्ष्यों को प्राप्त कर सकते हैं। “दर-दर की ठोकर खाना” व्यक्ति को मजबूत और दृढ़ संकल्पित बनाता है।

शायरी:

दर-दर की ठोकरें खाईं, मंजिलें ना मिली,

फिर भी चलता रहा मैं, अपने ख्वाबों के सिलसिले।

हर दर पर नाउम्मीदी का सामना किया,

लेकिन इन ठोकरों ने, जीने का हुनर सिखाया।

ज़िंदगी की इन राहों में, कई बार ठोकर खाई,

हर ठोकर ने एक नया सबक, मेरे दिल में बसाया।

दर-दर की ये ठोकरें, इन्होंने मुझे बनाया,

जो ना मिलता किसी किताब में, वो सबक सिखाया।

ठोकरें ही तो जिंदगी के, असली इम्तिहान हैं,

इन्हीं से तो हर इंसान, अपने ख्वाबों की पहचान है।

 

दर-दर की ठोकर खाना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of दर-दर की ठोकर खाना – Dar-dar ki thokar khana Idiom:

Introduction: “दर-दर की ठोकर खाना” means facing failure or difficulties in various places. This idiom describes the situation of people who repeatedly face setbacks and struggle in life.

Meaning: This idiom is used when a person continuously encounters failures and is unable to achieve success despite visiting various places or opportunities.

Usage: The idiom is commonly used when someone visits multiple places for jobs, education, or other professional opportunities, but faces disappointment at every turn.

Example:

-> Abhay had to “face rejections everywhere” in his search for employment.

-> Surendra had to “face setbacks at every step” in establishing his business.

Conclusion: The idiom “दर-दर की ठोकर खाना” teaches us that struggles and difficulties are common in life, and instead of being disheartened, one should move forward with patience and determination. It imparts the essence of resilience and the spirit of struggle.

Story of ‌‌Dar-dar ki thokar khana Idiom in English:

Vikas was a talented young man from a small village with big dreams of becoming a successful businessman. To realize his dream, he moved to a big city and started trying to establish his business.

However, life is not always easy. Vikas struggled to find the right location and support for his business. He had to “face rejections everywhere.” He visited every market and business circle, but disappointment followed him everywhere.

Meanwhile, his savings began to dwindle, and he found himself in a financial crisis. But Vikas didn’t give up. He continued his efforts, and his hard work and dedication eventually led to success.

Finally, his efforts paid off, and his business began to thrive. Vikas learned that “facing rejections everywhere” is a part of life, and it’s from these setbacks that one can learn and move forward.

This story teaches us that struggles and failures are inevitable in life, but with patience and effort, we can achieve our goals. “Facing rejections everywhere” makes a person strong and resolute.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या इस मुहावरे का उपयोग केवल सामान्य व्यक्तियों के लिए है?

नहीं, यह मुहावरा सामान्य और विशेष दोनों प्रकार के लोगों के जीवन में होने वाले कठिनाइयों और अड़चनों को व्यक्त करने के लिए उपयुक्त है।

इस मुहावरे का क्या महत्व है?

यह मुहावरा मानव जीवन की प्रारंभिक संघर्षों और अड़चनों को व्यक्त करता है और सामाजिक परिदृश्य में उनका महत्व दिखाता है।

क्या है मुहावरा ‘दर-दर की ठोकर खाना’ का अर्थ?

यह मुहावरा एक स्थिति का वर्णन करता है जब किसी व्यक्ति को लगातार विफलताओं या कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

क्या इस मुहावरे का कोई समाजशास्त्रीय संदेश है?

हां, यह मुहावरा समय-समय पर हमें सामाजिक अड़चनाओं का सामना करने की आवश्यकता को याद दिलाता है और सामाजिक यथार्थों के साथ सामंजस्य की अवधारणा को मजबूत करता है।

क्या इस मुहावरे का कोई ऐसा वास्तविक उदाहरण है जो हम जानते हैं?

हां, यहां एक उदाहरण है – एक व्यक्ति जो लगातार सफलता की चाहत रखता है लेकिन हर बार उसे नाकामयाबी का सामना करना पड़ता है, वह ‘दर-दर की ठोकर खाना’ वाली स्थिति में हो सकता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।