Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » दंड कमंडल ग्रहण करना अर्थ, प्रयोग(Dand kamandal grhan karna)

दंड कमंडल ग्रहण करना अर्थ, प्रयोग(Dand kamandal grhan karna)

परिचय: “दंड कमंडल ग्रहण करना” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है, जिसका प्रयोग प्रायः धार्मिक या आध्यात्मिक जीवन की ओर उन्मुख होने के संदर्भ में किया जाता है। यह मुहावरा उस स्थिति को दर्शाता है जब कोई व्यक्ति सांसारिक जीवन से विरक्त होकर संन्यास या तपस्या की राह चुनता है।

अर्थ: “दंड कमंडल ग्रहण करना” का अर्थ है संन्यासी जीवन को अपनाना या आध्यात्मिक मार्ग पर चलने का निर्णय करना। यहाँ ‘दंड’ संन्यासी के हाथ में रहने वाली लकड़ी और ‘कमंडल’ पानी रखने का पात्र है, जो संन्यासी के जीवन के प्रतीक हैं।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग तब किया जाता है जब कोई व्यक्ति भौतिक जीवन से मोह भंग कर, आध्यात्मिक उन्नति की खोज में निकल पड़ता है।

उदाहरण:

-> साधु-संतों के जीवन में: महाराज जी ने जब युवावस्था में ही दंड कमंडल ग्रहण किया, तब से उन्होंने सांसारिक बंधनों को त्याग दिया।

-> आधुनिक संदर्भ में: विशाल ने अपनी सफल कॉर्पोरेट जिंदगी छोड़कर दंड कमंडल ग्रहण करने का निर्णय लिया और हिमालय में साधना में लीन हो गए।

निष्कर्ष: “दंड कमंडल ग्रहण करना” मुहावरा हमें बताता है कि जीवन में कभी-कभी आध्यात्मिक पथ पर चलने का महत्व होता है। यह मुहावरा व्यक्ति के आंतरिक परिवर्तन और उसके सांसारिक मोह से विरक्त होने की प्रक्रिया को दर्शाता है। यह हमें सिखाता है कि आत्मिक शांति और उच्चतर जीवन मूल्यों की खोज में भौतिक सुखों का त्याग करना पड़ता है।

Hindi Muhavare Quiz

दंड कमंडल ग्रहण करना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे शहर में विशाल नाम का एक युवक रहता था। विशाल एक सफल व्यवसायी था, जिसके पास धन और वैभव की कोई कमी नहीं थी। लेकिन, उसका मन हमेशा बेचैन रहता था। वह अक्सर सोचता कि जीवन में कुछ तो कमी है।

एक दिन, विशाल ने एक साधु से मुलाकात की। साधु ने उससे कहा, “बेटा, धन-दौलत से जीवन की सच्ची खुशी नहीं मिलती। आत्मा की शांति के लिए आध्यात्मिक पथ पर चलना होगा।” विशाल के मन में साधु के शब्द गूँज उठे।

उसने अपने व्यवसाय और वैभव को त्यागने का निश्चय किया और ‘दंड कमंडल ग्रहण’ करने का फैसला किया। विशाल ने अपनी संपत्ति दान कर दी और संन्यासी का जीवन अपना लिया। वह हिमालय की तरफ निकल पड़ा, जहाँ वह ध्यान और तपस्या में लीन हो गया।

वर्षों बाद, जब विशाल वापस लौटा, उसके चेहरे पर एक अलौकिक शांति थी। उसने अपने गांव के लोगों को आध्यात्मिकता का महत्व समझाया और कईयों को जीवन के उच्चतर मूल्यों की ओर प्रेरित किया।

निष्कर्ष:

विशाल की कहानी हमें बताती है कि ‘दंड कमंडल ग्रहण करना’ यानी सांसारिक जीवन से विरक्त होकर आध्यात्मिक पथ पर चलने का निर्णय एक व्यक्ति के जीवन को कैसे परिवर्तित कर सकता है। यह कहानी हमें यह भी सिखाती है कि जीवन में सच्ची खुशी और शांति आंतरिक संतोष और आत्म-अनुशासन से ही प्राप्त होती है।

शायरी:

संसार की इस भाग-दौड़ में, एक पल को ठहरा मैं,

‘दंड कमंडल ग्रहण’ कर, नया पथ चुना मैं।

धन-दौलत की चकाचौंध में, खोया था जो पहचान मेरी,

उसे छोड़, आध्यात्म की राह में, ढूँढा मैंने आनंद सच्ची।

जीवन की इस राह में, कई मोड़ आते हैं,

‘दंड कमंडल ग्रहण’ करने वाले, खुद को खोज पाते हैं।

भौतिक सुखों के मायाजाल से, जब तुम निकलोगे बाहर,

पाओगे तुम वह शांति, जो है आत्मा की असल सरकार।

संसार की इस दौड़ से, जब तुम अलग हो जाओगे,

‘दंड कमंडल ग्रहण’ कर, नई राहें खोल पाओगे।

 

दंड कमंडल ग्रहण करना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of दंड कमंडल ग्रहण करना – Dand kamandal grhan karna Idiom:

Introduction: “Dand kamandal grhan karna” is a common Hindi idiom, typically used in the context of turning towards a religious or spiritual life. This idiom illustrates the situation where an individual renounces worldly life to embark on a path of asceticism or penance.

Meaning: “Dand kamandal grhan karna” means to choose the life of an ascetic or to decide to follow a spiritual path. Here, ‘the staff’ is the wooden stick held by ascetics, and ‘the water pot’ is the vessel for carrying water, both symbolizing the life of an ascetic.

Usage: This idiom is used when a person breaks away from materialistic life and sets out in search of spiritual advancement.

Example:

-> In the Lives of Saints: “When Maharaj ji adopted the staff and water pot in his youth, he renounced all worldly ties.”

-> In a Modern Context: “Vishal decided to adopt the staff and water pot, leaving behind his successful corporate life, and became immersed in meditation in the Himalayas.”

Conclusion: The idiom “Dand kamandal grhan karna” tells us that sometimes it’s important to follow the spiritual path in life. It illustrates the process of internal transformation and detachment from worldly desires. It teaches us that in the pursuit of inner peace and higher life values, one may need to forsake material comforts.

Story of ‌‌Dand kamandal grhan karna Idiom in English:

In a small town, there lived a young man named Vishal. Vishal was a successful businessman with no shortage of wealth and luxury. However, his mind was always restless. He often thought that something was missing in his life.

One day, Vishal met a sage. The sage told him, “Son, true happiness in life cannot be found in wealth and riches. To find peace for the soul, one must follow the spiritual path.” The sage’s words resonated deeply with Vishal.

Vishal decided to renounce his business and wealth and chose to ‘adopt the staff and water pot,’ symbolizing the decision to lead an ascetic life. He donated his property and embraced the life of a hermit. Vishal then headed towards the Himalayas, where he immersed himself in meditation and penance.

Years later, when Vishal returned, his face radiated an extraordinary peace. He explained the importance of spirituality to the people of his village and inspired many to seek higher values in life.

Conclusion:

Vishal’s story illustrates how the decision to ‘adopt the staff and water pot,’ meaning to detach oneself from worldly life and follow a spiritual path, can transform a person’s life. The story also teaches us that true happiness and peace in life come from inner contentment and self-discipline.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या यह मुहावरा केवल किसी कार्रवाई को स्वीकार करने के लिए ही होता है?

नहीं, “दंड कमंडल ग्रहण करना” का प्रयोग अक्सर किसी जिम्मेदारी या दायित्व को स्वीकार करने के लिए भी होता है।

यह मुहावरा किस विषय पर आमतौर पर उपयोग में लाया जाता है?

यह मुहावरा अधिकतर किसी कार्रवाई को स्वीकार करने या उस पर जिम्मेदारी लेने के संदर्भ में प्रयोग में लाया जाता है।

क्या है “दंड कमंडल ग्रहण करना” का अर्थ?

“दंड कमंडल ग्रहण करना” का अर्थ है किसी कार्रवाई को स्वीकारना या उसकी जिम्मेदारी लेना।

क्या “दंड कमंडल ग्रहण करना” का अर्थ हर बार एक समान होता है?

नहीं, इस मुहावरे का अर्थ विभिन्न परिस्थितियों और संदर्भों के अनुसार बदल सकता है।

क्या इस मुहावरे का कोई उपयोग समाज में होता है?

हां, यह मुहावरा सामाजिक प्रशासन, कानूनी प्रक्रिया या नैतिक मूल्यों के संदर्भ में उपयोगी होता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।