Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई अर्थ, प्रयोग(Damdi ki budhiya taka sir mudai)

दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई अर्थ, प्रयोग(Damdi ki budhiya taka sir mudai)

परिचय: दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई यह मुहावरा उस स्थिति को व्यक्त करता है जहाँ किसी काम के लिए किया गया खर्च उस काम के मूल्य से अधिक हो जाता है। इसका प्रयोग तब होता है जब किसी छोटी चीज़ या साधारण काम के लिए अनुपातहीन रूप से बड़ा खर्च किया जाता है।

अर्थ: “दमड़ी” पुराने समय का एक बहुत ही कम मूल्य का सिक्का होता था, और “टका” उससे थोड़ा अधिक मूल्य का। इस मुहावरे में, एक बुढ़िया के सिर की मुड़ाई पर उसके बालों के मूल्य से अधिक खर्च होने की बात कही गई है, जो एक अनुपयुक्त और अत्यधिक खर्च को दर्शाता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग अक्सर उन परिस्थितियों में होता है जहां छोटी चीजों पर बड़ा खर्चा करने की नासमझी को दर्शाना हो।

उदाहरण:

-> विनीत ने अपनी पुरानी साइकिल की मरम्मत पर हजारों रुपए खर्च कर दिए, यह तो “दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई” वाली बात हो गई।

-> मीरा ने अपने मोबाइल के लिए इतना महंगा कवर खरीदा कि वह मोबाइल की कीमत से भी ज्यादा हो गया, यह “दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई” कहलाता है।

निष्कर्ष: “दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि किसी भी कार्य या वस्तु पर खर्च करते समय उसके मूल्य का ध्यान रखना चाहिए। यह हमें वित्तीय समझदारी और संतुलित खर्च की ओर प्रेरित करता है। यह मुहावरा अनुचित और अनुपातहीन खर्च की स्थिति को व्यंग्यात्मक ढंग से व्यक्त करता है।

Hindi Muhavare Quiz

दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से शहर में सुरेंद्र नाम का एक व्यापारी रहता था। सुरेंद्र को अपनी चीजों पर बेहद खर्च करने की आदत थी, चाहे वह खर्च जरूरी हो या न हो।

एक दिन, सुरेंद्र ने अपनी पुरानी कार को नया रूप देने का निर्णय लिया। कार पहले से ही अच्छी स्थिति में थी, लेकिन सुरेंद्र चाहते थे कि उसे एक विशेष और आकर्षक लुक मिले। उन्होंने कार पर सोने की परत चढ़वाने का फैसला किया।

इस काम में उन्होंने इतना खर्च कर दिया कि कार की मूल कीमत से कहीं अधिक रुपए खर्च हो गए। जब लोगों ने यह सुना, तो वे हैरान रह गए। उन्होंने कहा, “यह तो ‘दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई’ वाली बात हो गई।”

अंत में, सुरेंद्र को एहसास हुआ कि उन्होंने जो खर्च किया, वह अनुचित और असमझदारी भरा था। उन्होंने सीखा कि हर खर्च के पीछे की समझदारी और उसके मूल्य का महत्व होता है।

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि किसी भी चीज़ पर खर्च करते समय हमें उसके मूल्य और उपयोगिता को ध्यान में रखना चाहिए, नहीं तो हम भी “दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई” जैसी स्थिति में फंस सकते हैं।

शायरी:

छोटी सी खुशी पे किया बड़ा खर्चा, ये कैसी समझदारी,

दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई, ये कहानी हमारी।

जोड़ी थी बचत हर एक दमड़ी, खर्च दी हर टके पर,

जिंदगी के इस खेल में, अक्ल की कमी सबसे बड़ी भारी।

खर्चा बड़ा, मगर हासिल कुछ भी नहीं, यह कैसी आदतें,

दमड़ी की बुढ़िया जैसी कहानियाँ, बनी रहेंगी यादें।

लुटा दी दौलत छोटी चीजों पर, जो न थीं काम की,

खर्चे की बड़ी दास्तानें, लेकिन खुशियाँ नाम की।

अंजाम सोचे बिना, जो चल दिया करने खर्चे पर खर्चे,

वो दमड़ी की बुढ़िया की तरह, हर बार सिर पर बोझ ढोता है बेफिक्रे।

 

दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई – Damdi ki budhiya taka sir mudai Idiom:

Introduction: This idiom depicts a situation where the cost incurred for a task exceeds the actual value of the task itself. It is used when disproportionate expenses are made for trivial or minor things.

Meaning: In the past, a “दमड़ी” was a coin of very low value, and a “टका” was slightly more valuable. In this idiom, an old woman spends more on shaving her head than the worth of her hair, symbolizing inappropriate and excessive expenditure.

Usage: This idiom is used when someone’s handwriting is so unclear or disorganized that understanding it becomes nearly impossible.

Example:

-> Vineet spent thousands of rupees on repairing his old bicycle, which turned out to be a case of “दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई.”

-> Meera bought such an expensive cover for her mobile phone that it cost more than the phone itself, which is called “दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई.”

Conclusion: The idiom “दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई” teaches us to be mindful of the value of any task or item before incurring expenses on it. It encourages financial wisdom and balanced spending. This idiom sarcastically expresses situations of inappropriate and disproportionate expenditure.

Story of ‌‌Damdi ki budhiya taka sir mudai Idiom in English:

In a small town, there lived a businessman named Surendra. Surendra had a habit of spending extravagantly on his possessions, whether the expense was necessary or not.

One day, Surendra decided to give his old car a new look. Although the car was already in good condition, he wanted to give it a special and attractive appearance. He made the decision to coat the car with a layer of gold.

In this endeavor, he spent so much money that it exceeded the original cost of the car by a significant margin. When people heard about this, they were astonished. They remarked, “This is a classic case of spending recklessly.”

In the end, Surendra realized that the expenses he had incurred were inappropriate and unwise. He learned that behind every expenditure, there should be wisdom and an understanding of its value.

This story teaches us the importance of considering the worth and utility of anything we spend money on, lest we find ourselves in a situation similar to the proverbial “Damdi ki budhiya taka sir mudai.”

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या इस मुहावरे का कोई अन्य संदर्भ है?

हां, यह मुहावरा भारतीय संस्कृति में व्यापक रूप से प्रयोग किया जाता है, जो किसी कठिनाई या अच्छाई की प्रशंसा करता है।

इस मुहावरे का इतिहास क्या है?

इस मुहावरे का उल्लेख प्राचीन समय से होता आया है, जो किसी कठिनाई के सामने आने पर उसे देखकर लोगों की भावनाओं को व्यक्त करता है।

क्या है “दमड़ी की बुढ़िया टका सिर मुड़ाई” का मतलब?

यह मुहावरा उस व्यक्ति या स्थिति को वर्णित करता है जो किसी काम को न कर सकता है या जिसे सामना करने में समस्या होती है।

क्या इस मुहावरे का कोई विशेष अर्थ है?

जी हां, इसका अर्थ होता है कि किसी व्यक्ति या चीज का सामना करने में वह बेकार हो जाता है या उसकी सफलता असंभव हो जाती है।

क्या इस मुहावरे का कोई उपयोग है आजकल की जीवनशैली में?

हां, यह मुहावरा अधिकतर किसी व्यक्तिगत या सामाजिक स्थिति को व्यक्त करने के लिए उपयोग किया जाता है, जो किसी के कार्य की असफलता को दर्शाता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।