Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » दम खुश्क होना अर्थ, प्रयोग(Dam khushk hona)

दम खुश्क होना अर्थ, प्रयोग(Dam khushk hona)

“दम खुश्क होना” एक लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है, जिसका उपयोग अक्सर भारतीय साहित्य और बोलचाल की भाषा में किया जाता है। यह मुहावरा विभिन्न संदर्भों में भावनाओं और स्थितियों को व्यक्त करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

परिचय: “दम खुश्क होना” मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है ‘साँस सूख जाना’। यह मुहावरा प्रायः तनाव, चिंता, डर या अत्यधिक थकान की स्थिति को दर्शाता है, जहां व्यक्ति को सांस लेने में कठिनाई अनुभव होती है।

अर्थ: इस मुहावरे का व्यापक अर्थ है किसी परिस्थिति या घटना के कारण बेहद परेशान या भयभीत होना। यह एक रूपकात्मक अभिव्यक्ति है, जिसका संबंध शारीरिक संवेदना से अधिक मानसिक या भावनात्मक स्थिति से है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग आमतौर पर उन परिस्थितियों में किया जाता है जहाँ व्यक्ति अत्यधिक चिंता, तनाव या भय का अनुभव कर रहा हो। इसका प्रयोग विभिन्न प्रकार के साहित्यिक और मौखिक संदर्भों में किया जा सकता है।

उदाहरण:

-> जब नियांत ने अपने परीक्षा के परिणामों के बारे में सोचा, तो उसका दम खुश्क हो गया।

-> अंधेरी गली में अकेले चलते समय गौरी का दम खुश्क हो गया।

निष्कर्ष: “दम खुश्क होना” मुहावरा भारतीय साहित्य और सांस्कृतिक संवाद में एक गहरा प्रभाव रखता है। यह मुहावरा न केवल भावनाओं की गहराई को व्यक्त करता है, बल्कि यह भी दर्शाता है कि कैसे भाषा विभिन्न अनुभवों और संवेदनाओं को व्यक्त करने का एक शक्तिशाली माध्यम हो सकती है।

Hindi Muhavare Quiz

दम खुश्क होना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में सोनू नाम का एक लड़का रहता था। सोनू पढ़ाई में बहुत होशियार था, लेकिन परीक्षाओं से उसे बहुत डर लगता था। उसकी बोर्ड परीक्षा सिर पर थी, और वह हर दिन घंटों पढ़ाई करता।

परीक्षा की रात, सोनू ने देखा कि उसके नोट्स गुम हो गए हैं। वह हर जगह खोजता रहा, लेकिन नोट्स कहीं नहीं मिले। घबराहट और तनाव के मारे उसका दम खुश्क हो गया। उसे लगा जैसे सांस लेना दूभर हो गया हो। उसकी माँ ने उसे इस हालत में देखा और समझ गईं कि सोनू परीक्षा के डर से बहुत परेशान है।

माँ ने सोनू को धीरे-धीरे समझाया कि नोट्स खो जाने से कुछ नहीं होता, उसने जो पढ़ाई की है, वह उसके मन में है। सोनू को अपनी माँ की बातों से हिम्मत मिली, और उसने खुद को संभाला।

अगले दिन परीक्षा में, सोनू ने बिना घबराए अच्छे से पेपर दिया। जब परिणाम आए, तो सोनू ने उच्च अंक प्राप्त किए। उसे समझ आया कि डर और तनाव से दम खुश्क होने की बजाय, आत्मविश्वास और संयम से हर परिस्थिति का सामना किया जा सकता है।

इस कहानी से हमें यह सीखने को मिलता है कि तनाव और चिंता के समय भी हमें शांत रहना चाहिए और अपनी क्षमताओं पर विश्वास करना चाहिए। “दम खुश्क होना” मुहावरे का अर्थ इस कहानी के माध्यम से स्पष्ट होता है कि कैसे डर और तनाव से व्यक्ति का मनोबल कम हो सकता है।

शायरी:

इस गली के मोड़ पर, जब भी मैं तन्हा खड़ा होता हूँ,

हर अनकही बातों में, मेरा दम खुश्क होता है।

सपनों के आसमान में, जब भी चाँद छुपा करता है,

हर अधूरी ख्वाहिशों में, मेरा दम खुश्क होता है।

हर राह की मुश्किल में, जब साये भी दगा दे जाएँ,

उस अँधेरे में भी, मेरा दम खुश्क होता है।

ये जिंदगी के सफर में, जब हर रिश्ता इम्तिहान बन जाए,

उन हर अनसुलझे सवालों में, मेरा दम खुश्क होता है।

लेकिन फिर भी, उम्मीदों की रोशनी में,

हर धुंधले पल में, एक नया सवेरा ढूँढता हूँ,

क्योंकि हर मुश्किल में, जब भी मेरा दम खुश्क होता है,

वहीं से जिंदगी का एक नया अध्याय शुरू होता है।

 

दम खुश्क होना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of दम खुश्क होना – Dam khushk hona Idiom:

“दम खुश्क होना” is a popular Hindi idiom frequently used in Indian literature and colloquial language. This idiom is utilized to express emotions and situations in various contexts.

Introduction: The literal meaning of the idiom “दम खुश्क होना” is ‘breath drying up’. It typically represents a state of stress, anxiety, fear, or extreme exhaustion, where an individual experiences difficulty in breathing.

Meaning: The broader meaning of this idiom is to be extremely troubled or frightened due to a situation or event. It is a metaphorical expression, more related to a mental or emotional state than to a physical sensation.

Usage: This idiom is commonly used in situations where a person is experiencing extreme anxiety, stress, or fear. It can be applied in various literary and spoken contexts.

Example:

-> When Niyant thought about his exam results, his breath dried up with anxiety.

-> Gauri’s breath dried up while walking alone in a dark alley.

Conclusion: The idiom “दम खुश्क होना” holds a significant impact in Indian literature and cultural discourse. Not only does it express the depth of emotions, but it also illustrates how language can be a powerful medium to express various experiences and sensations.

Story of ‌‌Dam khushk hona Idiom in English:

In a small village lived a boy named Sonu. Sonu was very intelligent in his studies, but he was greatly afraid of exams. His board exams were approaching, and he studied for hours every day.

On the night before the exam, Sonu realized that his notes were missing. He searched everywhere, but the notes were nowhere to be found. Overwhelmed with panic and stress, he felt as if his breath had dried up, making it difficult to breathe. His mother saw him in this state and understood that Sonu was extremely troubled due to his fear of the exam.

Gently, his mother explained to him that losing his notes was not the end of the world, as what he had studied was already in his mind. Encouraged by his mother’s words, Sonu regained his composure.

The next day in the exam, Sonu, undaunted, performed well. When the results came, he achieved high marks. He realized that instead of letting fear and stress dry up his breath, facing every situation with confidence and calmness was possible.

This story teaches us that even in times of stress and anxiety, we should remain calm and believe in our abilities. The meaning of the idiom “दम खुश्क होना” (breath drying up) becomes clear through this story, illustrating how fear and stress can diminish a person’s morale.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या इस मुहावरे का उपयोग भावनात्मक संदर्भों में किया जा सकता है?

हां, कई बार लोग अपने भावनात्मक हालात का विवरण देने के लिए इस मुहावरे का उपयोग करते हैं, जैसे कि असफलता, निराशा, या असहायता को व्यक्त करने के लिए।

क्या “दम खुश्क होना” का उपयोग आर्थिक संदर्भों में किया जा सकता है?

हां, किसी व्यक्ति या कंपनी के लिए यह मुहावरा अधिक विनाशकारी हो सकता है, जो उनकी आर्थिक स्थिति को संकेत करता है कि उनकी आर्थिक स्थिति बहुत बुरी हो गई है।

क्या अर्थ है “दम खुश्क होना” का?

दम खुश्क होना का अर्थ है अधिक जोर या ऊर्जा की कमी होना। यह एक प्रसिद्ध मुहावरा है जिसे अक्सर थकान या कमजोरी का व्यक्ति व्यक्त करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

क्या इस मुहावरे का प्रयोग केवल शारीरिक थकान को संकेतित करने के लिए किया जा सकता है?

नहीं, यह मुहावरा शारीरिक, मानसिक, या आर्थिक थकान को संकेतित करने के लिए भी प्रयुक्त होता है।

यह मुहावरा किस अवस्था को संकेतित करता है?

यह मुहावरा जीवन की कठिनाईयों या असफलताओं को संकेतित करता है जब व्यक्ति अपनी ऊर्जा और उत्साह खो देता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।