Budhimaan

दम फूलना अर्थ, प्रयोग(Dam fulna)

परिचय: “दम फूलना” मुहावरे का शाब्दिक अर्थ होता है सांस फूलना। यह शारीरिक या मानसिक थकान को व्यक्त करने के लिए प्रयोग होता है।

अर्थ: इस मुहावरे का प्रयोग किसी व्यक्ति के थकान या श्रम से आहत होने की स्थिति को दर्शाने के लिए किया जाता है। यह न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक थकान या दबाव को भी व्यक्त कर सकता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग आमतौर पर तब होता है जब कोई व्यक्ति अत्यधिक परिश्रम या लंबे समय तक काम करने के बाद थकान महसूस करता है। इसका प्रयोग अक्सर उस समय भी किया जाता है जब किसी को अत्यधिक चिंता या मानसिक तनाव होता है।

उदाहरण:

-> दस किलोमीटर दौड़ने के बाद प्रथम का दम फूलने लगा।

-> परीक्षा की तैयारी में रात-रात भर जागने से उसका दम फूल रहा था।

निष्कर्ष: “दम फूलना” मुहावरे का प्रयोग भावनात्मक और शारीरिक स्थितियों को व्यक्त करने में सहायक होता है। यह हमारे दैनिक जीवन में अक्सर उपयोगी होता है, खासकर जब हम अपनी थकान या श्रम को व्यक्त करना चाहते हैं। इसका प्रयोग हमारी भाषा को और अधिक रंगीन और प्रभावशाली बनाता है।

Hindi Muhavare Quiz

दम फूलना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गांव में नियांत नामक एक युवक रहता था। वह हमेशा खुश और सक्रिय रहता था। एक दिन, गांव के स्कूल में एक बड़ी खेल प्रतियोगिता का आयोजन हुआ। नियांत ने भी इस प्रतियोगिता में भाग लेने का निर्णय लिया।

वह दौड़ की तैयारी में जुट गया। दिन-रात वह दौड़ने का अभ्यास करता। उसने अपनी सारी ऊर्जा और समय इस तैयारी में लगा दिया। जैसे-जैसे प्रतियोगिता का दिन नजदीक आया, नियांत और भी ज्यादा मेहनत करने लगा।

आखिरकार, प्रतियोगिता का दिन आ गया। नियांत ने अपनी सारी ताकत और जोश के साथ दौड़ शुरू की। दौड़ के दौरान, वह आगे निकल गया और लगभग जीतने ही वाला था, लेकिन अचानक उसे महसूस हुआ कि उसकी सांस फूल रही है। वह थकान से चूर हो गया और दौड़ के अंतिम चरण में उसने धीमा कर दिया। उसका दम फूल रहा था और वह अब और नहीं दौड़ सकता था।

नियांत ने जीत तो नहीं पाई, लेकिन उसे इस बात का एहसास हो गया कि सफलता के लिए उचित संतुलन और आराम भी जरूरी है। उसने सीखा कि अत्यधिक मेहनत करने से कभी-कभी ‘दम फूल’ सकता है और यह हमें अपनी सीमाओं का एहसास कराता है।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि जीवन में संतुलन बनाए रखना कितना महत्वपूर्ण है। अत्यधिक परिश्रम से ‘दम फूलना’ स्वाभाविक है, लेकिन उचित योजना और आराम के साथ हम अपने लक्ष्यों को प्राप्त कर सकते हैं।

शायरी:

चलते-चलते राहों में जब दम फूलने लगा,

हर कदम पर जिंदगी का इम्तिहान होने लगा।

ख्वाब थे आंखों में कई, मंजिलों की जुस्तजू थी,

दौड़ में शामिल हर कदम, फिर भी अनजान होने लगा।

जीत की चाहत में कभी, हार का डर भी साथ चला,

सांसों का ये बोझ, हर खुशी को मेहमान होने लगा।

हर दौर में देखा है ये, मंजिलें भी करीब आईं,

दम फूलने की इस घड़ी में, हौसला पहचान होने लगा।

उम्मीदों की इस डगर में, थकने का कोई मौका नहीं,

दम फूले या दिल टूटे, जिंदगी तो बयान होने लगा।

ये जीवन की राहें हैं, हर कदम पर इम्तिहान हैं,

दम फूलने पर भी यारों, जिंदगी का गुलिस्तान होने लगा।

 

दम फूलना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of दम फूलना – Dam fulna Idiom:

Introduction: The literal meaning of the idiom “दम फूलना” is “to have shortness of breath.” It is used to express physical or mental fatigue.

Meaning: This idiom is used to describe a situation where a person feels exhausted or overwhelmed due to hard work or effort. It can signify not just physical tiredness but also mental fatigue or stress.

Usage: This idiom is commonly used when a person feels fatigued after excessive labor or working for an extended period. It is also often employed when someone experiences significant worry or mental strain.

Example:

-> After running ten kilometers, Pratham started to feel short of breath.

-> He was feeling exhausted due to staying up all night preparing for the exams.

Conclusion: The use of the idiom “दम फूलना” is helpful in expressing emotional and physical states. It is frequently useful in our daily lives, especially when we want to express our fatigue or labor. Its use makes our language more colorful and impactful.

Story of ‌‌Dam fulna Idiom in English:

In a small village, there lived a young man named Niyant. He was always happy and active. One day, a major sports competition was organized at the village school. Niyant decided to participate in this competition.

He began preparing for the race, practicing day and night. He devoted all his energy and time to this preparation. As the day of the competition approached, Niyant started working even harder.

Finally, the day of the competition arrived. Niyant began the race with all his strength and enthusiasm. During the race, he took the lead and was almost about to win, but suddenly he felt his breath getting shorter. He became exhausted and slowed down in the final stage of the race. He was out of breath and could not run any further.

Niyant didn’t win, but he realized that proper balance and rest are also essential for success. He learned that excessive hard work can sometimes lead to shortness of breath and it makes us aware of our limits.

This story teaches us how important it is to maintain balance in life. Naturally, excessive hard work can lead to being out of breath, but with proper planning and rest, we can achieve our goals.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

दम फूलना मुहावरे का क्या उपयोग है?

इस मुहावरे का उपयोग किसी व्यक्ति या चीज की महत्ता और प्रभाव को व्यक्त करने के लिए किया जाता है।

क्या है मुहावरा “दम फूलना” का अर्थ?

दम फूलना का अर्थ होता है किसी व्यक्ति या वस्तु का प्रभावशाली और शक्तिशाली होना।

दम फूलना मुहावरे का वाक्य में उपयोग कैसे किया जाता है?

“उसका बच्चा एक दिन बड़ा आदमी बनेगा, उसमें दम फूला है।”

दम फूलना मुहावरे के अलावा और कौन-कौन से मुहावरे हैं जो इसी अर्थ में हैं?

इसी अर्थ में कुछ और मुहावरे हैं जैसे “शक्ति बनना” और “प्रभावशाली होना”।

क्या दम फूलना मुहावरा अक्सर उपयोग में होता है?

हां, यह मुहावरा अक्सर उपयोग में होता है, विशेष रूप से किसी की शक्ति और प्रभाव को व्यक्त करने के लिए।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।