Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » दही के धोखे कपास खाना अर्थ, प्रयोग (Dahi ke dhokhe kapaas khana)

दही के धोखे कपास खाना अर्थ, प्रयोग (Dahi ke dhokhe kapaas khana)

“दही के धोखे कपास खाना” एक पारंपरिक हिंदी मुहावरा है जो धोखे और भ्रम की स्थिति को व्यक्त करता है। यह मुहावरा भारतीय समाज में काफी प्रचलित है और इसका उपयोग अक्सर उन परिस्थितियों में किया जाता है जहाँ वास्तविकता और धारणा में भारी अंतर होता है।

परिचय: “दही के धोखे कपास खाना” मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है कि कोई व्यक्ति दही समझकर कपास खा ले, जो कि एक भूल या गलतफहमी का परिणाम होता है। यह मुहावरा उस स्थिति को दर्शाता है जहां व्यक्ति भ्रम में पड़ जाता है और वास्तविकता का सही आकलन नहीं कर पाता।

अर्थ: इस मुहावरे का प्रयोग उस समय होता है जब कोई व्यक्ति अपनी गलतफहमी या भ्रम के कारण गलत कदम उठा लेता है। यह व्यक्ति की उस भूल को दर्शाता है जो उसने बिना पूरी जानकारी के लिया हो।

प्रयोग: जब कोई व्यक्ति देखने में आकर्षक लेकिन वास्तव में निरर्थक चीज को चुन लेता है, तब इस मुहावरे का प्रयोग होता है। यह उन स्थितियों में भी प्रयोग होता है जहाँ व्यक्ति की अपेक्षाएं और वास्तविकता में बड़ा अंतर होता है।

उदाहरण:

उदाहरण के लिए, “अंश ने उस चमकदार खिलौने को देखकर खरीद लिया, पर वह टूटा हुआ निकला। उसने तो दही के धोखे कपास खा लिया।” इस उदाहरण में, अंश की अपेक्षाएं और वास्तविकता के बीच का अंतर इस मुहावरे के माध्यम से व्यक्त होता है।

निष्कर्ष: “दही के धोखे कपास खाना” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि बाहरी आकर्षण में न फंसकर हमें हमेशा चीजों की वास्तविकता को समझने की कोशिश करनी चाहिए। यह मुहावरा हमें यह भी बताता है कि कभी-कभी हमारी गलतफहमियाँ हमें गलत निर्णयों की ओर ले जा सकती हैं। इसलिए, निर्णय लेने से पहले हमें सोच-विचार करना चाहिए और चीजों की वास्तविकता को समझना चाहिए। इस प्रकार, यह मुहावरा हमें यथार्थवादी और विवेकी बनने की सीख देता है।

दही के धोखे कपास खाना मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में मुनीश नाम का एक व्यापारी रहता था। मुनीश हमेशा बड़े सपने देखा करता था और हमेशा तेजी से धन कमाने की चाह रखता था। एक दिन, उसे एक व्यक्ति मिला जिसने उसे एक चमत्कारी बीज बेचने की पेशकश की। उस व्यक्ति ने कहा कि यह बीज रातोंरात एक विशाल पेड़ बन जाएगा और उस पर सोने के फल लगेंगे। मुनीश ने बिना सोचे-समझे और लालच में आकर उस बीज को महंगे दाम पर खरीद लिया।

मुनीश ने बीज को बड़े ध्यान से लगाया और रात भर इंतजार किया। लेकिन, सुबह होते होते उसे एहसास हुआ कि वह धोखे में आ गया था। न तो कोई पेड़ उगा और न ही सोने के फल लगे। गाँव वालों ने जब यह देखा तो कहने लगे, “मुनीश ने तो दही के धोखे कपास खा लिया।”

इस घटना से मुनीश को समझ में आया कि बिना सोचे-समझे और लालच में आकर किसी भी प्रकार के झांसे में आ जाना उसके लिए हानिकारक हो सकता है। उसने यह भी सीखा कि वास्तविकता और अपेक्षाओं के बीच के अंतर को समझना जरूरी है।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि “दही के धोखे कपास खाना” मुहावरा हमें सिखाता है कि असलियत को पहचानने में असफल होना और झूठी आशाओं या भ्रम में जीना अंततः हमें निराशा और हानि की ओर ले जाता है। मुनीश की कहानी हमें यह भी बताती है कि व्यावहारिकता और सतर्कता हमें ऐसी गलतियों से बचा सकती है जो हमें भ्रमित और धोखे में डाल सकती हैं।

शायरी:

दही के धोखे में कपास खाया करते हैं,

जिंदगी में हम भी कभी भ्रमाया करते हैं।

अरमानों का बाजार सजा, ख्वाब बुना करते हैं,

दही समझ बैठे कपास, गलतियाँ गुना करते हैं।

धोखे की इस दुनिया में, रोज नया सबक मिलता है,

दही के धोखे में जब कपास खाया, तो दिल भी हिलता है।

अपने ही सपनों में, अक्सर भटक जाते हैं,

दही की आस में कपास, अपने हाथ लाते हैं।

भ्रम की इस दुनिया में, सच का दर्पण ढूंढते हैं,

दही के धोखे में कपास, हम भी कभी खाते हैं।

 

दही के धोखे कपास खाना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of दही के धोखे कपास खाना – Dahi ke dhokhe kapaas khana Idiom:

“Dahi ke dhokhe kapaas khana” is a traditional Hindi idiom that represents a situation of deception and illusion. This idiom is quite popular in Indian society and is often used in situations where there is a significant difference between reality and perception.

Introduction: The literal meaning of the idiom “Eating cotton mistaking it for yogurt” is when a person eats cotton mistaking it for yogurt, which results from a mistake or misunderstanding. This idiom represents situations where a person is confused and unable to assess reality correctly.

Meaning: This idiom is used when a person takes the wrong step due to their misconception or illusion. It indicates the mistake a person makes without having complete information.

Usage: This idiom is used when a person chooses something that looks attractive but is actually meaningless. It is also used in situations where there is a big difference between a person’s expectations and reality.

Example:

For example, “Ansh bought the shiny toy he saw, but it turned out to be broken. He indeed ate cotton mistaking it for yogurt.” In this example, the difference between Ansh’s expectations and reality is expressed through this idiom.

Conclusion: The idiom “Dahi ke dhokhe kapaas khana” teaches us that we should always try to understand the reality of things instead of getting trapped by external attractions. It also tells us that sometimes our misconceptions can lead us to wrong decisions. Therefore, we should think and consider before making decisions and understand the reality of things. This idiom thus teaches us to be realistic and wise.

Story of ‌‌Dahi ke dhokhe kapaas khana Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a trader named Munish. Munish always dreamed big and desired to earn wealth quickly. One day, he met a man who offered to sell him a miraculous seed. The man claimed that the seed would grow into a giant tree overnight and bear golden fruits. Driven by greed and without much thought, Munish bought the seed at a high price.

Munish planted the seed with great care and waited all night. However, by morning, he realized that he had been deceived. No tree grew, nor were there any golden fruits. When the villagers saw this, they said, “Munish has eaten cotton mistaking it for yogurt.”

This incident made Munish realize that being impulsive and greedy can lead to harm. He also learned the importance of understanding the difference between reality and expectations.

This story teaches us that the idiom “Eating cotton mistaking it for yogurt” signifies that failing to recognize reality and living in false hopes or illusions can ultimately lead to disappointment and loss. Munish’s story also tells us that practicality and caution can prevent us from making mistakes that lead to confusion and deception.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।