Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे अर्थ, प्रयोग(Chhode to mare, Na chhode to mare)

छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे अर्थ, प्रयोग(Chhode to mare, Na chhode to mare)

परिचय: “छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” यह हिंदी मुहावरा एक ऐसी स्थिति को व्यक्त करता है जहां व्यक्ति किसी भी निर्णय पर पहुंचे, उसका परिणाम नकारात्मक होता है। इस मुहावरे का प्रयोग उस परिस्थिति में होता है जहां कोई भी कार्यवाही व्यक्ति के लिए अनुकूल नहीं होती।

अर्थ: “छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” का सीधा अर्थ है कि व्यक्ति किसी दुविधा में फंस जाता है जहां उसके पास ऐसे विकल्प नहीं होते जिनसे वह बच सके। यह एक ऐसी स्थिति का वर्णन करता है जहां हर संभव कदम नुकसानदायक होता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग तब किया जाता है जब कोई व्यक्ति अपने आप को ऐसी स्थिति में पाता है जहां उसके पास चुनने के लिए कोई सुखद विकल्प नहीं होता।

उदाहरण:

-> “राजनीति में उस स्थिति में वह फंस गया था जहां ‘छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे’ जैसी स्थिति बन गई थी।”

-> “अगर मैं इस नौकरी को छोड़ दूं तो आर्थिक संकट है, न छोड़ूं तो मानसिक तनाव, वाकई में ‘छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे’ की स्थिति है।”

निष्कर्ष: “छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” मुहावरा हमें जीवन की ऐसी दुविधाओं के बारे में बताता है जहां व्यक्ति के पास अनुकूल विकल्पों का अभाव होता है। यह मुहावरा हमें सिखाता है कि कभी-कभी जीवन में हमें ऐसी परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है जहां हर निर्णय का परिणाम कठिन होता है।

Hindi Muhavare Quiz

छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में, सुरेंद्र नाम का एक किसान रहता था। सुरेंद्र अपने खेतों में बहुत मेहनत से काम करता था, लेकिन उस वर्ष अचानक सूखा पड़ गया। स्थिति ऐसी थी कि अगर सुरेंद्र खेती करता तो बीज और पानी की कमी के कारण फसल बर्बाद हो जाती, और अगर नहीं करता तो उसका परिवार भूखा रह जाता। यह उसके लिए “छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” जैसी स्थिति बन गई।

सुरेंद्र ने सोचा कि वह गाँव के जमींदार से मदद मांगेगा, लेकिन जमींदार ने बदले में उसकी जमीन का एक बड़ा हिस्सा मांग लिया। अब सुरेंद्र के सामने दोहरी समस्या थी – या तो वह अपनी जमीन गंवा दे या अपने परिवार को भूखा रखे।

सुरेंद्र ने बहुत सोच-विचार के बाद एक तीसरा रास्ता चुना। उसने अपने खेतों में सूखा प्रतिरोधी फसलें लगाईं और पास के गाँव से कम ब्याज पर कर्ज लेकर सिंचाई की व्यवस्था की। धीरे-धीरे उसकी मेहनत रंग लाई, और उसने न केवल अपने परिवार का पेट भरा बल्कि जमीन भी बचा ली।

इस कहानी के माध्यम से हमें यह सीखने को मिलता है कि “छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” जैसी स्थितियों में भी, कभी-कभी तीसरा विकल्प खोजना संभव होता है। यह हमें बताता है कि कठिनाइयों में भी धैर्य और सोच-समझकर कदम उठाने से समस्या का समाधान निकल सकता है।

शायरी:

जिंदगी के इस मोड़ पर, फंस गया हूं ‘छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे’,

हर राह पर लगता है, जैसे मेरी किस्मत से जुदा मेरे कदम हो गए।

हर फैसला जैसे कोई सवाल है, हर जवाब नया इम्तिहान लगता है,

जीवन की इस दौड़ में, हर दिशा बेमानी सी लगती है।

छोड़ूं तो खाली हाथ, न छोड़ूं तो दिल पर बोझ,

हर दोराहे पर खड़ा, सोचता हूँ यह कैसा रोज़।

इस दुनिया की राहों में, कई बार ऐसे मोड़ आते हैं,

जहां हर कदम पर लगता है, जैसे सब कुछ खो जाते हैं।

जीवन के इस सफर में, ‘छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे’,

हर पल एक नयी चुनौती, हर रास्ते पर नया सवेरे।

पर इसी कश्मकश में, कहीं न कहीं छुपा है जीवन का राज़,

कि हर मुश्किल भी देती है, नया जीने का एक अंदाज़।

 

छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे – Chhode to mare, na chhode to mare Idiom:

Introduction: “छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” (Chhode to mare, na chhode to mare) is a Hindi idiom that expresses a situation where no matter what decision a person makes, the outcome is negative. This idiom is used in scenarios where any action taken is unfavorable for the person.

Meaning: The literal meaning of “छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” is that a person finds themselves in a dilemma where they have no options that could save them. It describes a situation where every possible step is detrimental.

Usage: This idiom is used when a person finds themselves in a situation where they have no pleasant options to choose from.

Example:

-> “He found himself in such a situation in politics where it became a case of ‘छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे’.”

-> “If I leave this job, I face financial crisis, and if I don’t, then mental stress, truly a ‘छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे’ situation.”

Conclusion: The idiom “छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” tells us about life’s dilemmas where a person lacks favorable options. It teaches us that sometimes in life, we face situations where every decision leads to a difficult outcome.

Story of ‌‌Chhode to mare, na chhode Idiom in English:

In a small village, there lived a farmer named Surendra. Surendra worked hard in his fields, but that year, a sudden drought struck. The situation was such that if Surendra cultivated his land, the crop would fail due to lack of seeds and water, and if he didn’t, his family would go hungry. He found himself in a “छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” (Damned if you do, damned if you don’t) situation.

Surendra thought of seeking help from the village landlord, but the landlord demanded a large portion of his land in return. Now Surendra faced a double dilemma: lose his land or let his family starve.

After much thought, Surendra chose a third option. He planted drought-resistant crops in his fields and arranged for irrigation by taking a loan at a low interest rate from a nearby village. Gradually, his hard work paid off, and he managed not only to feed his family but also to save his land.

This story teaches us that even in “छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” situations, sometimes it is possible to find a third option. It shows that solutions can be found even in difficulties with patience and well-thought-out steps.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या इस मुहावरे का कोई विशेष इतिहास है?

हाँ, यह मुहावरा भारतीय साहित्य और लोककथाओं में प्रचलित है और इसे अक्सर जीवन की कठिनाईयों को व्यक्त करने के लिए उपयोग किया जाता है।

इस मुहावरे का उपयोग कहाँ हो सकता है?

यह मुहावरा विशेषकर कठिन परिस्थितियों में या किसी मामूली से गहरे दिल के मुद्दे पर चर्चा करते समय उपयोग हो सकता है।

“छोड़े तो मरे, न छोड़े तो मरे” मुहावरे का अर्थ क्या है?

यह मुहावरा एक स्थिति को बयान करता है जिसमें कोई व्यक्ति किसी भी स्थिति में मुसीबत में है, जिसे उसे ना तो छोड़ने का अधिकार है और ना ही उसे बचाने का कोई विकल्प है।

इस मुहावरे का उपयोग कैसे किया जा सकता है?

इस मुहावरे का उपयोग किसी के जीवन में आ रही किसी सीधी या मुश्किल परिस्थिति को विवेचना करते समय किया जा सकता है।

क्या इस मुहावरे का कोई सामाजिक संदेश है?

हाँ, इस मुहावरे के माध्यम से समझाया जा सकता है कि कभी-कभी जीवन में हमें चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, जिसमें हमारे पास विकल्प कम होते हैं।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।