Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » छीछालेदर होना अर्थ, प्रयोग(Chhichhaledar)

छीछालेदर होना अर्थ, प्रयोग(Chhichhaledar)

परिचय: “छीछालेदर होना” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो आमतौर पर उस स्थिति को वर्णित करता है जब किसी की बड़ी बेइज्जती या अपमान होता है। यह मुहावरा उस परिस्थिति का चित्रण करता है जहां किसी व्यक्ति की सार्वजनिक रूप से बुरी तरह निंदा की जाती है।

अर्थ: “छीछालेदर होना” का अर्थ है किसी की बड़ी अपमानजनक हार या बेइज्जती होना। इस मुहावरे का प्रयोग तब किया जाता है जब कोई व्यक्ति सामाजिक या पेशेवर परिप्रेक्ष्य में बहुत बुरी तरह से अपमानित होता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग तब किया जाता है जब किसी व्यक्ति को सार्वजनिक रूप से शर्मिंदा किया जाता है या जब किसी की अत्यधिक निंदा की जाती है।

उदाहरण:

-> “कॉलेज के डिबेट कॉम्पिटिशन में सुधीर की छीछालेदर हो गई जब उसने अपने तथ्य गलत प्रस्तुत किए।”

-> “कंपनी की बैठक में मैनेजर ने सुभाष की छीछालेदर कर दी जब सुभाष अपनी रिपोर्ट के आंकड़े सही ढंग से प्रस्तुत नहीं कर पाया।”

निष्कर्ष: “छीछालेदर होना” मुहावरा एक गंभीर स्थिति को दर्शाता है जहां किसी व्यक्ति की प्रतिष्ठा पर गहरी चोट पहुंचती है। यह हमें यह भी सिखाता है कि सावधानी और सटीकता के साथ काम करना कितना महत्वपूर्ण है, ताकि हम स्वयं को इस तरह की परिस्थितियों से बचा सकें।

Hindi Muhavare Quiz
Hindi Muhavare Quiz

छीछालेदर होना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से शहर में, प्रथम नाम का एक युवक रहता था। प्रथम अपने आत्मविश्वास और बड़बोलेपन के लिए जाना जाता था। वह हमेशा दावा करता कि वह किसी भी चुनौती का सामना कर सकता है।

शहर में एक दिन एक बड़ा मेला लगा था। मेले में एक खेल प्रतियोगिता थी जिसमें शहर के सभी युवा भाग ले रहे थे। प्रथम ने भी इस प्रतियोगिता में भाग लिया और सबके सामने दावा किया कि वह सभी खेलों में जीत जाएगा।

प्रतियोगिता के दिन, प्रथम बड़े उत्साह के साथ मैदान में पहुंचा। पहले खेल में ही उसे अपने दावे की सच्चाई का सामना करना पड़ा। प्रथम न केवल खेल में हार गया, बल्कि उसकी तकनीक और क्षमता की कमी को लेकर सभी ने उसका मजाक उड़ाया।

प्रथम की छीछालेदर हो गई थी। उसके आत्मविश्वास और बड़े बोलों की वजह से उसका सार्वजनिक रूप से अपमान हुआ। उस दिन प्रथम ने सीखा कि बिना तैयारी और योग्यता के बड़े दावे करना आपकी बेइज्जती का कारण बन सकता है।

उस घटना के बाद, प्रथम ने अपने व्यवहार में बदलाव किया और विनम्रता के साथ अपने काम को अंजाम देना सीखा। उसने जाना कि वास्तविक क्षमता और तैयारी ही सच्ची सफलता की कुंजी है, न कि खोखले दावे।

शायरी:

बड़े बोलों की बाज़ारी, छीछालेदर की कहानी है,

जहां आत्मविश्वास की हद, अक्सर बेइज्जती की निशानी है।

खुद को आसमान समझा, जमीन की हक़ीकत न जानी है,

वक्त ने दिखाया आइना, जब खुद की छवि पुरानी है।

बोल के तीर चलाए थे, खुद पर ही वो आए हैं,

छीछालेदर के दर्पण में, सच के चेहरे नजर आए हैं।

दुनिया के मेले में अक्सर, ऐसे कई अफसाने हैं,

जहां ऊंचाइयों के सपने, नीचे गिरकर मिट जाए हैं।

छीछालेदर की राह में, सबक यही छिपा हुआ है,

जो खुद को समझता है शेर, अक्सर वो भेड़िया हुआ है।

इस दुनिया की रीत है, यहां सच का दर्द गहरा है,

जो आज उड़ता फिर रहा, कल उसकी भी बारी है।

 

छीछालेदर होना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of छीछालेदर होना – Chhichhaledar hona Idiom:

Introduction: “छीछालेदर होना” (Chhichhaledar Hona) is a prevalent Hindi idiom that typically describes a situation where someone faces significant humiliation or disgrace. This idiom illustrates a scenario where an individual is publicly and severely criticized.

Meaning: The meaning of “छीछालेदर होना” is to experience a major embarrassing defeat or humiliation. This idiom is used when a person is humiliated in a social or professional context in a very bad way.

Usage: The idiom is used when a person is publicly shamed or when someone’s faults are excessively criticized.

Example:

-> “Sudhir faced a complete chhichhaledar in the college debate competition when he presented his facts incorrectly.”

-> “The manager completely humiliated Subhash in the company meeting when Subhash failed to present his report data correctly.”

Conclusion: The idiom “छीछालेदर होना” represents a serious situation where an individual’s reputation is deeply hurt. It also teaches us the importance of working with caution and accuracy to avoid such circumstances.

Story of ‌‌Chhichhaledar hona Idiom in English:

In a small town, there lived a young man named Pratham. Pratham was known for his confidence and boastfulness. He always claimed that he could face any challenge.

One day, a big fair was organized in the town. There was a sports competition at the fair in which all the youth of the town were participating. Pratham also took part in this competition and claimed in front of everyone that he would win in all the sports.

On the day of the competition, Pratham arrived at the field with great enthusiasm. In the first game itself, he had to face the reality of his claims. Pratham not only lost the game but also became the subject of ridicule due to his lack of technique and capability.

Pratham faced a complete chhichhaledar (humiliation). His overconfidence and big talk led to his public disgrace. That day, Pratham learned that making big claims without preparation and ability can lead to humiliation.

After that incident, Pratham changed his behavior and learned to conduct his work with humility. He realized that true capability and preparation are the keys to real success, not empty boasts.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

छीछालेदर होने के क्या परिणाम हो सकते हैं?

इसके परिणामस्वरूप, व्यक्ति अधिक हंसी में रह सकता है और दूसरों को भी अपनी खुशी में शामिल कर सकता है।

इस मुहावरे का उपयोग किस सीतुएशन में हो सकता है?

यह मुहावरा किसी को बहुत ज्यादा खुश करने या उसे उत्तेजित करने के समय का विवरण करने के लिए उपयुक्त है।

छीछालेदर होना का मतलब क्या है?

छीछालेदर होना का अर्थ है बहुत ज्यादा खुश होना या खुशी से बहुत ज्यादा चिढ़ना।

क्या यह मुहावरा सकारात्मक है या नकारात्मक है?

यह मुहावरा सकारात्मक है क्योंकि इसका अर्थ है खुशी और उत्साह से भरा होना।

छीछालेदर होने के क्या परिणाम हो सकते हैं?

इसके परिणामस्वरूप, व्यक्ति अधिक हंसी में रह सकता है और दूसरों को भी अपनी खुशी में शामिल कर सकता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।