Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » बुमुक्षितं किं न करोति पापं अर्थ, प्रयोग (Bumukshitam kim na karoti paapam)

बुमुक्षितं किं न करोति पापं अर्थ, प्रयोग (Bumukshitam kim na karoti paapam)

परिचय: “बुमुक्षितं किं न करोति पापं” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है, जो अपने आप में एक गहरा दार्शनिक अर्थ रखता है। यह भारतीय दार्शनिक विचारों और साहित्य में व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

अर्थ: इस मुहावरे का शाब्दिक अर्थ है, “वह जो मरने की इच्छा रखता है, वह क्या पाप नहीं करेगा?” यह उस स्थिति का वर्णन करता है जहां एक व्यक्ति इतना निराश या हताश हो जाता है कि वह किसी भी तरह के अनैतिक या गलत कार्य करने को तैयार हो जाता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग तब किया जाता है जब किसी व्यक्ति की निराशा या हताशा की गहराई को व्यक्त करना हो।

उदाहरण:

-> मुनीश ने अपने घोर निराशा की अवस्था में अपनी सारी संपत्ति जुए में हार दी। वाकई, ‘बुमुक्षितं किं न करोति पापं’।

-> जब व्यक्ति की आत्मा टूट जाती है, तो वह ‘बुमुक्षितं किं न करोति पापं’ की स्थिति में पहुंच जाता है।

निष्कर्ष: “बुमुक्षितं किं न करोति पापं” मुहावरा हमें यह सिखाता है कि मनुष्य जब हताशा की गहराई में पहुंच जाता है, तो वह अक्सर ऐसे कार्य कर बैठता है, जो न केवल अनैतिक होते हैं बल्कि कभी-कभी हानिकारक भी होते हैं। यह हमें आत्म-संयम और धैर्य की महत्ता को समझाता है।

बुमुक्षितं किं न करोति पापं मुहावरा पर कहानी:

एक समय की बात है, एक छोटे से गाँव में अनुभव नाम का एक युवक रहता था। अनुभव बहुत मेहनती और ईमानदार था, लेकिन किस्मत उसके साथ नहीं थी। उसकी फसल बार-बार बर्बाद हो जाती थी और वह भारी कर्ज में डूब गया।

अनुभव की इस दुर्दशा को देखकर गाँव के कुछ लोगों ने उसे अवैध रूप से धन कमाने की सलाह दी। पहले तो अनुभव ने इनकार कर दिया, लेकिन जैसे-जैसे उसकी परिस्थितियाँ बिगड़ती गईं, उसका मन डोलने लगा। आखिरकार, उसने उन लोगों की बात मान ली और अवैध धंधे में हाथ डाल दिया।

शुरू में, अनुभव को लगा कि उसकी समस्याएं हल हो जाएंगी, लेकिन जल्द ही उसे एहसास हुआ कि उसने गलत रास्ता चुना है। उसके इस निर्णय ने उसे और भी बड़ी मुसीबत में डाल दिया। अब उसे अपने किए पर पछतावा होने लगा।

यह कहानी “बुमुक्षितं किं न करोति पापं” मुहावरे की गहराई को दर्शाती है। जब अनुभव ने अपनी हताशा और निराशा में गलत निर्णय लिया, तो उसने वह पाप कर दिया, जिसके बारे में वह कभी सोच भी नहीं सकता था। यह हमें सिखाता है कि जीवन में कठिन समय में भी सही निर्णय लेना और आत्म-संयम रखना कितना महत्वपूर्ण है।

शायरी:

जब दिल टूट कर बिखर जाता है, सब कुछ अंधेरा हो जाता है,

‘बुमुक्षितं किं न करोति पापं’, यह सोच भी घबराता है।

हर रास्ते पर चला मैं, ढूंढता रहा मंजिल को,

पर हताशा में भटक गया, खुद से भी लड़ता रहा।

निराशा के अंधेरे में, जब खुद को खो दिया,

‘बुमुक्षितं किं न करोति पापं’, इस सत्य को सोच लिया।

हर दर्द की चिंगारी में, जब अपना सब कुछ जला दिया,

गलत राह पर चल पड़ा, जब अपने सपनों को भुला दिया।

इस शायरी में है छुपा, जीवन का एक गहरा सबक,

हताशा में न खो बैठे, अपने आप को, अपने रब को।

 

बुमुक्षितं किं न करोति पापं शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of बुमुक्षितं किं न करोति पापं – Bumukshitam kim na karoti paapam Idiom:

Introduction: “बुमुक्षितं किं न करोति पापं” is an ancient Hindi idiom with a deep philosophical meaning. It is widely used in Indian philosophical thoughts and literature.

Meaning: The literal meaning of this idiom is, “What sin will not the one desiring death commit?” It describes a situation where a person becomes so despairing or hopeless that they are ready to engage in any kind of unethical or wrong actions.

Usage: This idiom is used to express the depth of despair or desperation of a person.

Example:

-> Munish lost all his property in gambling during his state of extreme despair. Truly, ‘बुमुक्षितं किं न करोति पापं’.

-> When a person’s soul breaks, they reach the state of ‘बुमुक्षितं किं न करोति पापं’.

Conclusion: The idiom “बुमुक्षितं किं न करोति पापं” teaches us that when a person reaches the depths of despair, they often commit acts that are not only unethical but sometimes harmful. It emphasizes the importance of self-restraint and patience.

Story of ‌‌Bumukshitam kim na karoti paapam Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a young man named Anubhav. Anubhav was hardworking and honest, but luck was not on his side. His crops would repeatedly fail, and he found himself deeply in debt.

Seeing Anubhav’s plight, some people in the village suggested he earn money illegally. Initially, Anubhav refused, but as his circumstances worsened, he began to waver. Eventually, he gave in to their advice and got involved in illegal activities.

At first, Anubhav thought his problems would be solved, but he soon realized that he had chosen the wrong path. This decision led him into even greater trouble, and he began to regret his actions.

This story illustrates the depth of the idiom “बुमुक्षितं किं न करोति पापं” (What sin will not the one desiring death commit?). When Anubhav made the wrong decision in his despair and hopelessness, he committed acts he never thought he would. It teaches us the importance of making the right decisions and maintaining self-control, even in difficult times in life.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।