Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » बिना लाग-लपेट के अर्थ, प्रयोग (Bina laag-lapet ke)

बिना लाग-लपेट के अर्थ, प्रयोग (Bina laag-lapet ke)

परिचय: “बिना लाग-लपेट के” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो सीधे और स्पष्ट तरीके से बात करने की भावना को दर्शाता है। इसका प्रयोग तब किया जाता है जब कोई व्यक्ति बिना किसी संकोच या झिझक के अपने विचार या राय प्रकट करता है।

अर्थ: “बिना लाग-लपेट के” का शाब्दिक अर्थ है बिना किसी आवरण या छलावरण के। यह मुहावरा उस परिस्थिति को व्यक्त करता है जब किसी व्यक्ति द्वारा अपने विचारों को सीधे और स्पष्ट रूप से व्यक्त किया जाता है, बिना किसी बनावटीपन या दिखावे के।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग आमतौर पर तब किया जाता है जब बातचीत में सीधेपन और सच्चाई की जरूरत होती है। यह उस वक्त भी उपयोगी होता है जब किसी को अपने विचार या फैसले को बिना किसी अनावश्यक विस्तार के संक्षेप में प्रस्तुत करना हो।

उदाहरण:

-> विकास ने बिना लाग-लपेट के कह दिया कि वह इस परियोजना में शामिल नहीं हो सकता।

-> मीना हमेशा अपनी बात बिना लाग-लपेट के कहती है, इसलिए लोग उसकी बातों पर विश्वास करते हैं।

निष्कर्ष: “बिना लाग-लपेट के” मुहावरा हमारे दैनिक जीवन में ईमानदारी और स्पष्टता की महत्ता को दर्शाता है। यह हमें सिखाता है कि किसी भी बात को सीधे और सरल तरीके से कहने में ही सच्ची समझदारी है। इस प्रकार का व्यवहार न सिर्फ संवाद को सुगम बनाता है बल्कि विश्वास और पारदर्शिता को भी बढ़ाता है।

बिना लाग-लपेट के मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गांव में सुरेंद्र नाम का एक किसान रहता था। सुरेंद्र को अपनी सच्चाई और सीधेपन के लिए जाना जाता था। वह हमेशा अपने दिल की बात कहता था, बिना लाग-लपेट के।

एक दिन गांव के सरपंच ने एक बड़ी बैठक बुलाई, जिसमें गांव के सभी प्रमुख लोगों को आना था। बैठक का मुद्दा था गांव के जल संकट का समाधान खोजना। सभी लोग अपनी-अपनी राय दे रहे थे, लेकिन उनकी बातों में बहुत अधिक लाग-लपेट थी।

जब सुरेंद्र की बारी आई, तो उसने बड़े साफ शब्दों में कहा, “हमें अपने गांव की नदी की सफाई और रखरखाव पर ध्यान देना चाहिए। इससे न सिर्फ हमारे गांव का जल संकट हल होगा, बल्कि आने वाली पीढ़ियों के लिए भी पानी का स्रोत सुरक्षित रहेगा।” उसकी बात में कोई लाग-लपेट नहीं थी।

सभी लोग सुरेंद्र की बात से सहमत हुए और उसके सुझाव को मान लिया गया। उसकी सीधी और सच्ची बात ने सबका दिल जीत लिया।

इस कहानी से हमें सीख मिलती है कि सीधी और स्पष्ट बात बिना किसी लाग-लपेट के करने से न सिर्फ समस्याओं का समाधान आसान होता है, बल्कि लोगों का विश्वास भी जीता जा सकता है। सुरेंद्र की तरह, हमें भी अपनी बातों में सीधेपन और सच्चाई को अपनाना चाहिए।

शायरी:

बिना लाग-लपेट के कह दूं, अपने दिल की बात,

जैसे खुली किताब हो, वैसी है मेरी ये जज्बात।

दुनिया की इस भीड़ में, सच्चाई का है बड़ा अभाव,

पर मैं तो बोलूंगा सीधा, चाहे लगे हर बात में घाव।

मेरी बातों में नहीं है कोई राज़ या फिर छल,

जैसे चांदनी रात में चमकता हो बिना बादल वाला चाँद।

जिंदगी के इस सफर में, सच का दामन थामे रखना,

क्योंकि सच्चाई में ही होती है, असली शान और बखान।

बिना लाग-लपेट के बोलने का, अपना है एक अंदाज,

जैसे बहती नदी का होता है, सीधा और साफ़ सा राज।

इस शायरी के माध्यम से, मैं बयां करता हूं यह बात,

कि सच्चाई ही है वो रौशनी, जो दिखाए हर रास्ते का साथ।

 

बिना लाग-लपेट के शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of बिना लाग-लपेट के – Bina laag-lapet ke Idiom:

Introduction: “बिना लाग-लपेट के” is a popular Hindi idiom that represents the notion of speaking directly and clearly. It is used when a person expresses their thoughts or opinions without any hesitation or reluctance.

Meaning: The literal meaning of “बिना लाग-लपेट के” is without any cover or disguise. This idiom is used to describe a situation where a person expresses their thoughts in a straightforward and clear manner, without any artificiality or pretense.

Usage: This idiom is commonly used when there is a need for honesty and straightforwardness in a conversation. It is also useful when someone needs to present their ideas or decisions concisely, without any unnecessary elaboration.

Example:

-> Vikas straightforwardly said that he could not participate in the project.

-> Meena always speaks her mind clearly, which is why people trust her words.

Conclusion: The idiom “बिना लाग-लपेट के” highlights the importance of honesty and clarity in our daily lives. It teaches us that true wisdom lies in expressing anything directly and simply. Such behavior not only facilitates communication but also enhances trust and transparency.

Story of ‌‌Bina laag-lapet ke Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a farmer named Surendra. Surendra was known for his honesty and straightforwardness. He always spoke his heart out, without any ambiguity or evasion.

One day, the village head called for a major meeting, which was to be attended by all the key people of the village. The agenda of the meeting was to find a solution to the village’s water crisis. Everyone was giving their opinions, but there was a lot of beating around the bush in their words.

When it was Surendra’s turn, he spoke very clearly, “We should focus on cleaning and maintaining our village’s river. This will not only solve our village’s water crisis but also secure a water source for future generations.” There was no ambiguity in his words.

Everyone agreed with Surendra’s suggestion and it was accepted. His direct and honest words won everyone’s heart.

This story teaches us that speaking directly and clearly, without any ambiguity, not only makes solving problems easier but also helps in gaining people’s trust. Like Surendra, we should also adopt straightforwardness and honesty in our speech.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।