Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » बागडोर हाथ से छूटना अर्थ, प्रयोग (Bagdor hath se chhootna)

बागडोर हाथ से छूटना अर्थ, प्रयोग (Bagdor hath se chhootna)

परिचय: ‘बागडोर हाथ से छूटना’ भारतीय समाज में एक आम और लोकप्रिय हिंदी मुहावरा है। यह मुहावरा नियंत्रण खो देने या अधिकार का अवसान होने की स्थिति को व्यक्त करता है।

अर्थ: ‘बागडोर हाथ से छूटना’ का अर्थ है किसी स्थिति, संस्था, या परियोजना पर से नियंत्रण या अधिकार खो देना। यह उस परिस्थिति का वर्णन करता है जहां व्यक्ति या समूह अपनी प्रभावशाली स्थिति या प्रभुत्व को खो देता है।

प्रयोग: इस मुहावरे का प्रयोग अक्सर उन स्थितियों में होता है जहाँ किसी नेता, प्रबंधक, या अन्य प्रभावशाली व्यक्ति को अपनी नियंत्रण क्षमता खोते हुए देखा जाता है।

उदाहरण:

-> “कंपनी में नए CEO के आने के बाद, पुराने मैनेजर की बागडोर हाथ से छूट गई।”

-> “राजनीतिक दल में आंतरिक कलह के चलते नेता की बागडोर हाथ से छूट गई।”

निष्कर्ष: ‘बागडोर हाथ से छूटना’ मुहावरा हमें यह सिखाता है कि नियंत्रण और प्रभुत्व हमेशा स्थायी नहीं होते। यह हमें यह भी बताता है कि प्रबंधन और नेतृत्व की जिम्मेदारियों को संभालने में सावधानी और योग्यता आवश्यक हैं। इस मुहावरे के माध्यम से हमें यह भी समझ आता है कि परिस्थितियाँ और समय के साथ नियंत्रण की स्थितियाँ बदल सकती हैं।

बागडोर हाथ से छूटना मुहावरा पर कहानी:

एक शहर में सुभाष नाम का एक व्यापारी रहता था, जिसने अपनी मेहनत और लगन से एक बड़ी कंपनी खड़ी की थी। सुभाष अपनी कंपनी का मालिक होने के साथ-साथ मुख्य प्रबंधक भी था। उनके पास कंपनी की पूरी बागडोर थी, और वह हर फैसले में अंतिम शब्द रखते थे।

समय के साथ, सुभाष ने ध्यान देना कम कर दिया और अपने व्यवसाय को दूसरों पर छोड़ दिया। इसी बीच, कंपनी के एक युवा प्रबंधक ने अपनी मेहनत और चतुराई से कंपनी में अपना प्रभाव बढ़ा लिया। वह धीरे-धीरे कंपनी के सभी महत्वपूर्ण फैसलों में शामिल होने लगा।

एक दिन, सुभाष को एहसास हुआ कि कंपनी की बागडोर अब उनके हाथ से छूट चुकी है। उनके फैसले और सुझाव अब कंपनी में महत्वपूर्ण नहीं रहे। युवा प्रबंधक अब कंपनी का असली नेता बन चुका था।

इस कहानी से हमें सीख मिलती है कि ‘बागडोर हाथ से छूटना’ उस स्थिति को दर्शाता है जब हम अपनी जिम्मेदारियों से ध्यान हटाते हैं और हमारी स्थिति और प्रभाव कम हो जाते हैं। यह मुहावरा हमें यह भी बताता है कि नियंत्रण और प्राधिकरण का उपयोग सोच-समझकर और सावधानीपूर्वक करना चाहिए।

शायरी:

हाथों से जब बागडोर छूटी, खुद को अकेला पाया,

जिम्मेदारियों के खेल में, खुद को भूला आया।

कभी जो थे बादशाह, आज उनकी दास्ताँ खो गई,

‘बागडोर हाथ से छूटना’, यही कहानी रो गई।

सोचा था सिर्फ चलेंगे, पर राहों में बहक गए,

जिन हाथों में थी डोर, वो हाथ खुद से कहक गए।

जब तक थी डोर हाथ में, दुनिया सलाम ठोकती थी,

छूटी जब डोर, तो खुद की परछाई भी रोकती थी।

कहते हैं जिंदगी में, नियंत्रण ही सब कुछ होता है,

‘बागडोर हाथ से छूटना’, सबक का कुछ यूँ चर्चा होता है।

 

बागडोर हाथ से छूटना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of बागडोर हाथ से छूटना – Bagdor hath se chhootna Idiom:

Introduction: ‘बागडोर हाथ से छूटना’ is a common and popular Hindi idiom in Indian society. This idiom expresses the situation of losing control or the end of authority.

Meaning: ‘बागडोर हाथ से छूटना’ means to lose control or authority over a situation, institution, or project. It describes a situation where an individual or group loses their influential position or dominance.

Usage: This idiom is often used in situations where a leader, manager, or other influential person is seen losing their control ability.

Example:

-> “After the arrival of the new CEO in the company, the old manager lost control.”

-> “Due to internal strife in the political party, the leader lost control.”

Conclusion: The idiom ‘बागडोर हाथ से छूटना’ teaches us that control and dominance are not always permanent. It also tells us that caution and competency are necessary in handling the responsibilities of management and leadership. This idiom also makes us understand that situations of control can change with circumstances and time.

Story of ‌‌Bagdor hath se chhootna Idiom in English:

In a city, there lived a businessman named Subhash, who had built a large company through his hard work and dedication. Subhash was not only the owner of his company but also the chief manager. He had complete control over the company and had the final say in every decision.

Over time, Subhash started paying less attention and left his business to others. Meanwhile, a young manager in the company increased his influence through his hard work and intelligence. Gradually, he started getting involved in all the important decisions of the company.

One day, Subhash realized that he had lost control of the company. His decisions and suggestions were no longer significant in the company. The young manager had become the real leader of the company.

This story teaches us that ‘losing control’ represents a situation when we divert our attention from our responsibilities, and our position and influence diminish. This idiom also tells us that control and authority should be exercised thoughtfully and cautiously.

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।