Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » बाल बाल कर्ज में होना अर्थ, प्रयोग (Baal baal karz mein hona)

बाल बाल कर्ज में होना अर्थ, प्रयोग (Baal baal karz mein hona)

परिचय: ‘बाल बाल कर्ज में होना’ यह हिंदी मुहावरा उन परिस्थितियों का वर्णन करता है जहाँ कोई व्यक्ति अत्यधिक कर्ज में डूबा हुआ होता है। यह मुहावरा आर्थिक तंगी और कर्ज के बोझ से जूझ रहे व्यक्ति की स्थिति को दर्शाता है।

अर्थ: ‘बाल बाल कर्ज में होना’ का अर्थ है बहुत अधिक कर्ज में फंसा होना। यह व्यक्त करता है कि कोई व्यक्ति आर्थिक रूप से कितना असुरक्षित है और उसे अपने कर्ज से उबरने के लिए कठिन संघर्ष करना पड़ रहा है।

प्रयोग: यह मुहावरा अक्सर उन स्थितियों में प्रयोग किया जाता है जहाँ किसी व्यक्ति के ऊपर बहुत अधिक कर्ज हो और उसकी आर्थिक स्थिति बेहद खराब हो।

उदाहरण:

-> “मुनीश की दुकान न चलने के कारण वह ‘बाल बाल कर्ज में है’ और उसे अपना घर बेचना पड़ सकता है।”

-> “लक्ष्मी ने अपने व्यापार में बहुत निवेश किया लेकिन अब वह ‘बाल बाल कर्ज में है’ और उसे आर्थिक सहायता की आवश्यकता है।”

निष्कर्ष: ‘बाल बाल कर्ज में होना’ मुहावरा हमें यह सिखाता है कि आर्थिक निर्णय लेते समय सावधानी बरतनी चाहिए और कर्ज लेने से पहले उसके परिणामों पर विचार करना चाहिए। यह हमें यह भी बताता है कि कर्ज के बोझ से मुक्ति पाने के लिए समझदारी और योजनाबद्ध तरीके से काम करना जरूरी है।

बाल बाल कर्ज में होना मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे शहर में मुनीश नामक एक व्यापारी रहता था। मुनीश ने अपने व्यापार को बढ़ाने के लिए कई जगहों से कर्ज लिया। शुरू में, सब कुछ ठीक चल रहा था, लेकिन धीरे-धीरे मुनीश का व्यापार नुकसान में जाने लगा। उसके पास आमदनी कम हो गई, लेकिन कर्ज और ब्याज का बोझ बढ़ता गया।

मुनीश की इस स्थिति को देखकर लोग कहने लगे कि वह ‘बाल बाल कर्ज में है’। उसके पास कर्ज चुकाने के लिए पर्याप्त धन नहीं था और उसे अपनी जमीन और दुकान बेचने की नौबत आ गई।

मुनीश ने अपने दोस्तों और परिवार से मदद मांगी और उनकी सलाह पर एक वित्तीय सलाहकार से संपर्क किया। वित्तीय सलाहकार ने उसे कर्ज चुकाने के लिए एक योजना बनाने में मदद की। धीरे-धीरे मुनीश ने अपने कर्ज को चुकाना शुरू किया।

इस कहानी से हमें यह सिख मिलती है कि ‘बाल बाल कर्ज में होना’ जैसी स्थिति से बचने के लिए वित्तीय निर्णय सोच-समझकर और सावधानी से लेने चाहिए। मुनीश की कहानी हमें यह भी बताती है कि समय पर सही सलाह और योजनाबद्ध तरीके से काम करने से कर्ज के बोझ से मुक्ति पाई जा सकती है।

शायरी:

कर्ज की दलदल में फंसा हर शख्स यहाँ,

‘बाल बाल कर्ज में है’, जैसे अँधेरे में दिया बुझा हो।

जिसने सोचा नहीं कभी, आज वो फिक्र में डूबा है,

जिंदगी की इस राह में, हर कदम अनजाना रूबरू हो।

ख्वाब बुने थे बहुत, आँखों में उम्मीदों का तारा था,

‘बाल बाल कर्ज में है’, जैसे हर सपना धाराशायी हो।

लेकिन इस तूफान में भी, एक उम्मीद की किरण है बाकी,

सोच-समझकर चल, तो हर मुश्किल से पार पाया जा सकता है।

‘बाल बाल कर्ज में’ जो है, उसे सबक सिखाने का मौका भी है,

जीवन के हर पल में, एक नई सीख छुपी होती है।

कर्ज के इस चक्रव्यूह से, निकलने का रास्ता ढूंढ ले,

जिंदगी फिर से मुस्कुराएगी, इन अनजानी राहों में।

 

बाल बाल कर्ज में होना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of बाल बाल कर्ज में होना – Baal baal karz mein hona Idiom:

Introduction: The Hindi idiom ‘बाल बाल कर्ज में होना’ describes situations where a person is deeply immersed in debt. This idiom portrays the condition of a person struggling with financial difficulties and the burden of debt.

Meaning: The meaning of ‘बाल बाल कर्ज में होना’ is to be trapped in a significant amount of debt. It conveys how financially insecure a person is and the struggles they face in overcoming their debts.

Usage: This idiom is often used in situations where a person has a substantial amount of debt and is in a dire financial state.

Example:

-> “Munish’s shop not running well has put him ‘deeply in debt,’ and he might have to sell his house.”

-> “Lakshmi invested heavily in her business, but now she is ‘deeply in debt’ and needs financial assistance.”

Conclusion: The idiom ‘बाल बाल कर्ज में होना’ teaches us to be cautious while making financial decisions and to consider the consequences before taking loans. It also tells us that wise and planned actions are necessary to free oneself from the burden of debt.

Story of ‌‌Baal baal karz mein hona Idiom in English:

In a small town, there lived a businessman named Munish. Munish had taken loans from various places to expand his business. Initially, everything was going well, but gradually, Munish’s business started incurring losses. His income decreased, but the burden of debt and interest kept increasing.

Seeing Munish’s situation, people began to say that he was ‘deeply in debt.’ He did not have enough money to pay off his debts and faced the possibility of having to sell his land and shop.

Munish sought help from his friends and family and, based on their advice, contacted a financial advisor. The financial advisor helped him devise a plan to pay off his debts. Gradually, Munish began to settle his debts.

This story teaches us that to avoid situations like being ‘deeply in debt,’ financial decisions should be made thoughtfully and cautiously. Munish’s story also tells us that timely advice and a planned approach can help free oneself from the burden of debt.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।