Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » अंगूठा दिखाना मुहावरा, अर्थ, प्रयोग(Angutha Dikhana)

अंगूठा दिखाना मुहावरा, अर्थ, प्रयोग(Angutha Dikhana)

अंगूठा दिखाते हुए व्यक्ति का चित्र अवमान और अंगूठा का इल्लुस्ट्रेशन Budhimaan.com हिंदी मुहावरे लोगो अंगूठा और अनादर की स्यंबोलिक छवि

अर्थ: ‘अंगूठा दिखाना’ इस मुहावरे का अर्थ है किसी को अवमानित करना या तिरस्कार करना। जब किसी व्यक्ति को अपमानित किया जाता है या उसे नकारा जाता है, तो इसे कहा जाता है।

प्रयोग: जब किसी व्यक्ति को तिरस्कार किया जाए या उसे अवमानित किया जाए, तो इस मुहावरे का प्रयोग होता है।

उदाहरण: राम ने श्याम को उसकी सलाह पर ध्यान नहीं दिया और उसे अनदेखा कर दिया। श्याम ने महसूस किया कि राम ने उसे ‘अंगूठा दिखाया’।

विशेष टिप्पणी: यह मुहावरा हमें यह सिखाता है कि हमें किसी को भी अवमानित नहीं करना चाहिए। हर व्यक्ति की भावनाओं का सम्मान करना चाहिए।

अंगूठा दिखाना मुहावरा पर कहानी:

राज और अजय दोनों एक ही स्कूल में पढ़ते थे। राज अच्छे परिवार से था और उसके पास हर तरह की सुविधाएँ थीं, जबकि अजय गरीब था और वह अपनी माँ के साथ छोटे से घर में रहता था।

एक दिन स्कूल में एक प्रतियोगिता हुई जिसमें छात्रों को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिला। अजय ने गाने का प्रदर्शन किया और सभी लोग उसकी प्रतिभा को देखकर हैरान रह गए। लेकिन राज ने अजय की प्रतिभा को नकारते हुए उसे अंगूठा दिखाया और हंसी में उड़ा दिया।

अजय दुःखी हो गया, लेकिन उसने अपनी भावनाओं को निगल लिया और अगले दिन वह फिर से स्कूल आया। उसने ठान लिया कि वह अपनी प्रतिभा से सभी को दिखाएगा कि वह कितना सक्षम है।

कुछ महीनों बाद, अजय को एक बड़े संगीत समारोह में गाने का मौका मिला। वहां उसने अद्भुत प्रदर्शन किया और सभी लोग उसकी प्रतिभा की प्रशंसा करने लगे। राज भी वहां मौजूद था और उसने अजय की प्रतिभा को देखकर समझा कि उसने गलती की थी।

इस कहानी से हमें यह सिखने को मिलता है कि हमें किसी की प्रतिभा को तिरस्कार नहीं करना चाहिए। हर व्यक्ति में कुछ ना कुछ विशेषता होती है और हमें उसे समझना और सम्मानित करना चाहिए।

शायरी:

अंगूठा दिखा कर लोग हंसते हैं बहुत,

पर जब समय आता है, वही अंगूठा बन जाता चुप।

जिसे तुम समझते हो कमजोर और अधूरा,

वही अक्सर बदल देता है पूरा खेल का दौरा।

अंगूठा दिखाने वालों से कह दो मेरे दोस्त,

हर अंगूठे के पीछे छुपा होता है एक अद्भुत जोश।

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of अंगूठा दिखाना – Angutha Dikhana Proverb:

Meaning: The phrase ‘Angutha Dikhana’ means to insult or belittle someone. It is used when someone is disrespected or disregarded.

Usage: This proverb is used when someone is belittled or disrespected.

Example: Ram ignored Shyam’s advice and overlooked it. Shyam felt that Ram ‘showed him the thumb’ (disrespected him).

Special Note: This proverb teaches us that we should never disrespect anyone. Everyone’s feelings should be respected.

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly.

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"टुकड़ा खाए दिल बहलाए कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "कपड़े फाटे घर को आए कहावत की व्याख्या वाला चित्र", "आर्थिक संघर्ष दर्शाती Budhimaan.com की छवि", "भारतीय ग्रामीण जीवन का यथार्थ चित्रण"
Kahavaten

टुकड़ा खाए दिल बहलाए, कपड़े फाटे घर को आए, अर्थ, प्रयोग(Tukda khaye dil bahlaye, Kapde fate ghar ko aaye)

“टुकड़ा खाए दिल बहलाए, कपड़े फाटे घर को आए” यह हिंदी कहावत कठिन परिस्थितियों में जीवन यापन करने के संघर्ष को दर्शाती है। इस कहावत

Read More »
"टका सर्वत्र पूज्यन्ते कहावत का चित्रण", "धन और सामाजिक सम्मान का प्रतीकात्मक चित्र", "भारतीय समाज में धन का चित्रण", "हिंदी कहावतों का विश्लेषण - Budhimaan.com"
Kahavaten

टका सर्वत्र पूज्यन्ते, बिन टका टकटकायते, अर्थ, प्रयोग(Taka sarvatra pujyate, Bin taka taktakayte)

परिचय: हिंदी की यह कहावत “टका सर्वत्र पूज्यन्ते, बिन टका टकटकायते” धन के महत्व और समाज में इसके प्रभाव पर जोर देती है। यह कहावत

Read More »
"टेर-टेर के रोवे कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "Budhimaan.com पर व्यक्तिगत समस्याओं का समाधान", "सामाजिक प्रतिष्ठा की रक्षा करती कहावत का चित्र", "हिंदी प्रवचनों की व्याख्या वाला चित्र"
Kahavaten

टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे, अर्थ, प्रयोग(Ter-ter ke rove, Apni laj khove)

“टेर-टेर के रोवे, अपनी लाज खोवे” यह हिंदी कहावत व्यक्तिगत समस्याओं को बार-बार और सबके सामने व्यक्त करने के परिणामों को दर्शाती है। इस कहावत

Read More »
"ठग मारे अनजान कहावत का प्रतीकात्मक चित्र", "Budhimaan.com पर बनिया मारे जान कहावत का विश्लेषण", "धोखाधड़ी के विभिन्न रूप दर्शाती कहावत का चित्र", "हिंदी प्रवचनों की गहराई का चित्रण"
Kahavaten

ठग मारे अनजान, बनिया मारे जान, अर्थ, प्रयोग(Thag mare anjaan, Baniya maare jaan)

“ठग मारे अनजान, बनिया मारे जान” यह हिंदी कहावत विभिन्न प्रकार के छल-कपट की प्रकृति को दर्शाती है। इस कहावत के माध्यम से, हम यह

Read More »
"टका हो जिसके हाथ में कहावत का चित्रण", "समाज में धन की भूमिका का चित्र", "भारतीय कहावतों का चित्रात्मक प्रतिनिधित्व", "Budhimaan.com पर हिंदी कहावतों का विश्लेषण"
Kahavaten

टका हो जिसके हाथ में, वह है बड़ा जात में, अर्थ, प्रयोग(Taka ho jiske haath mein, Wah hai bada jaat mein)

“टका हो जिसके हाथ में, वह है बड़ा जात में” यह हिंदी कहावत समाज में धन के प्रभाव और उसकी महत्वपूर्णता पर प्रकाश डालती है।

Read More »
"टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा कहावत का चित्रण", "बुद्धिमत्ता और मूर्खता पर आधारित हिंदी कहावत का चित्र", "Budhimaan.com पर हिंदी कहावतों की व्याख्या", "जीवन शैली और सीख का प्रतिनिधित्व करता चित्र"
Kahavaten

टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा, अर्थ, प्रयोग(Tattoo ko koda aur tazi ko ishara)

“टट्टू को कोड़ा और ताजी को इशारा” यह हिंदी कहावत बुद्धिमत्ता और मूर्खता के बीच के व्यवहारिक अंतर को स्पष्ट करती है। इस कहावत के

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।