Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » आवश्यकता आविष्कार की जननी है अर्थ, प्रयोग(Aavashyakta avishkar ki janni hai)

आवश्यकता आविष्कार की जननी है अर्थ, प्रयोग(Aavashyakta avishkar ki janni hai)

परिचय: “आवश्यकता आविष्कार की जननी है” – यह हिंदी की एक प्रसिद्ध कहावत है जो दर्शाती है कि जब भी किसी चीज की आवश्यकता महसूस होती है, तो उससे नवाचार और रचनात्मकता का जन्म होता है।

अर्थ: इस कहावत का सार यह है कि जब व्यक्ति को किसी चुनौती या समस्या का सामना करना पड़ता है, तो उसकी रचनात्मक सोच जागृत होती है और वह नए उपाय या समाधान ढूंढ निकालता है।

प्रयोग: यह कहावत अक्सर उन परिस्थितियों में प्रयोग की जाती है जहां नवाचार और आविष्कार की जरूरत होती है। यह हमें प्रेरित करती है कि जब हम किसी समस्या का सामना करते हैं, तो हमें उसका समाधान खोजने के लिए अपनी सोच में नवाचार लाना चाहिए।

उदाहरण:

मान लीजिए, एक गाँव में पानी की कमी की समस्या थी। गाँव के लोगों ने मिलकर एक अनोखा वर्षा जल संचयन सिस्टम विकसित किया, जिससे उनकी पानी की समस्या हल हुई। यहाँ, उनकी आवश्यकता ने उन्हें एक नवीन उपाय खोजने के लिए प्रेरित किया।

निष्कर्ष: “आवश्यकता आविष्कार की जननी है” यह कहावत हमें यह सिखाती है कि किसी भी समस्या या चुनौती के समय, हमारी सोच और कार्यशीलता अधिक सक्रिय और रचनात्मक हो जाती है। यह हमें समस्याओं का सामना करते समय सकारात्मक और नवप्रवर्तनशील बनने की प्रेरणा देती है।

Hindi Muhavare Quiz

आवश्यकता आविष्कार की जननी है मुहावरा पर कहानी:

एक छोटे से गाँव में, जहां पानी की भारी कमी थी, वहाँ के लोग बहुत परेशान थे। बरसात का पानी बिना संचय के बह जाता और लंबे समय तक सूखा पड़ता।

गर्मी के मौसम में, गाँव के कुएँ सूख जाते और लोगों को पानी के लिए दूर-दूर तक जाना पड़ता। खेती के लिए भी पानी नहीं बचता था। इससे गाँव की आर्थिक स्थिति पर भी बुरा असर पड़ा।

“आवश्यकता आविष्कार की जननी है” – इस कहावत को सच साबित करते हुए, गाँव के एक बुजुर्ग ने वर्षा जल संचयन का विचार रखा। उनका मानना था कि अगर बरसात के पानी को सहेज लिया जाए, तो गर्मी के दिनों में पानी की कमी नहीं होगी।

गाँववालों ने मिलकर एक योजना बनाई। उन्होंने छतों पर वर्षा जल संग्रहण टैंक लगाए और खेतों में छोटे-छोटे तालाब बनाए। सभी ने मिलकर इस काम में अपना योगदान दिया।

कुछ ही समय में, गाँव में पानी की समस्या हल हो गई। खेत हरे-भरे हो गए और लोगों के चेहरे पर खुशी लौट आई। इस कहानी से यह सिखने को मिलता है कि जब भी किसी समस्या से सामना होता है, तो आवश्यकता ही हमें नए उपाय खोजने की प्रेरणा देती है। “आवश्यकता आविष्कार की जननी है” – यह कहावत गाँव के लोगों की इस सफलता की कहानी में साकार हो उठी।

शायरी:

जब ज़रूरत पड़ी गहरी, तब निकला उपाय नया नगरी,

जैसे बूँद बनती सागर, “आवश्यकता आविष्कार की जननी” है सबसे बड़ी।

सूखी धरती पे बारिश की बूँद, बन जाती है उम्मीद की डोर,

जब आती है मुश्किल, निकलता है हल, यही सिखाता जीवन का शोर।

हर चुनौती, हर दिक्कत में, छुपा होता एक नया आविष्कार,

जैसे सूरज निकलता अंधेरे से, वैसे होता हर संकट से पार।

कहते हैं न, जब दिल में हो जज्बा, तो राह होती आसान,

“आवश्यकता आविष्कार की जननी” यही है जीवन का सच्चा ज्ञान।

इस शायरी के जरिए, “आवश्यकता आविष्कार की जननी” का संदेश गूँजे,

जीवन की इस चुनौती में, नए रास्ते हम खुद बनाएँ, और सपने पूरे करें।

 

आवश्यकता आविष्कार की जननी है शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of आवश्यकता आविष्कार की जननी है – Aavashyakta avishkar ki janni hai Idiom:

Introduction: “Aavashyakta avishkar ki janni hai” – this is a famous Hindi proverb that illustrates how innovation and creativity are born whenever there is a need for something.

Meaning: The essence of this proverb is that when a person faces a challenge or a problem, their creative thinking is awakened, and they find new solutions or remedies.

Usage: This proverb is often used in situations where innovation and invention are needed. It motivates us to bring innovation to our thinking when we face a problem, encouraging us to find solutions.

Example:

For instance, in a village suffering from water scarcity, the villagers collectively developed a unique rainwater harvesting system, which solved their water issue. Here, their necessity inspired them to find an innovative solution.

Conclusion: The proverb “Aavashyakta avishkar ki janni hai” teaches us that during any problem or challenge, our thinking and functionality become more active and creative. It inspires us to be positive and innovative while facing problems.

Story of ‌‌Aavashyakta avishkar ki janni hai Idiom in English:

In a small village that was facing a severe water shortage, the residents were extremely distressed. The rainwater would flow away without being stored, leading to prolonged drought conditions.

During the summer, the village wells would dry up, and people had to travel far to fetch water. There wasn’t enough water even for farming, adversely affecting the village’s economy.

Proving the proverb “Necessity is the mother of invention” true, an elderly villager proposed the idea of rainwater harvesting. He believed that if the rainwater could be conserved, then there wouldn’t be a water shortage during the summer.

The villagers came together to devise a plan. They installed rainwater collection tanks on their rooftops and built small ponds in the fields. Everyone contributed to this effort.

In no time, the water problem in the village was resolved. The fields became lush and green again, and happiness returned to the faces of the villagers. This story teaches us that necessity indeed inspires us to find new solutions whenever we face a problem. The proverb “Necessity is the mother of invention” was embodied in the success story of the villagers.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या इस मुहावरे का कोई वास्तविक इतिहास है?

नहीं, यह मुहावरा भाषा में रूपांतरित अभिव्यक्ति है, जिसमें आवश्यकता और आविष्कार के बीच की संबंधितता को दर्शाया गया है।

इस मुहावरे का उपयोग कहाँ होता है?

यह मुहावरा अक्सर किसी नई तकनीक, आविष्कार या आवश्यकता के विकास को संकेतित करने के लिए प्रयुक्त होता है।

क्या है मुहावरा “आवश्यकता आविष्कार की जननी है” का अर्थ?

यह मुहावरा बताता है कि जब कोई चीज़ की आवश्यकता होती है, तो उसकी खोज और आविष्कार होता है।

क्या इसका कोई विशेष संदेश है?

हां, यह संदेश है कि जरूरत पर नई चीजें आविष्कारित होती हैं और इसी तरह समाज में प्रगति होती है।

इस मुहावरे का प्रयोग किस प्रकार से किया जाता है?

यह मुहावरा वाक्यों में अद्भुतता या नवाचार की स्थिति को समझाने के लिए प्रयुक्त होता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।