Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना अर्थ, प्रयोग(Ungli pakadkar pahuncha pakdna)

उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना अर्थ, प्रयोग(Ungli pakadkar pahuncha pakdna)

परिचय: “उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना” हिंदी भाषा का एक प्रचलित मुहावरा है, जिसका उपयोग अक्सर किसी को मामूली सहायता देकर अधिक लाभ उठाने की स्थितियों में किया जाता है। यह उन परिस्थितियों को दर्शाता है जहां किसी व्यक्ति को शुरुआती मदद या मार्गदर्शन देकर, बाद में उसी से बड़े फायदे या सहायता प्राप्त की जाती है।

अर्थ: इस मुहावरे का अर्थ है की जब कोई व्यक्ति से थोड़ी सहायता मांगता है फिर बाद में अधिक सहायता प्राप्त करना चाहता है।

प्रयोग: यह मुहावरा कारोबार, शिक्षा, या व्यक्तिगत संबंधों में प्रयोग किया जा सकता है, खासकर जब छोटी सी सहायता से बड़े परिणाम की उम्मीद हो।

उदाहरण:

-> मुनीश ने अपने जूनियर को कुछ बुनियादी नियम सिखाए, और अब वही जूनियर बड़े-बड़े प्रोजेक्ट्स संभाल रहा है। वाकई में मुनीश ने उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ा है।

निष्कर्ष: “उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना” मुहावरा यह संदेश देता है कि छोटी सी मदद या प्रेरणा कभी-कभी बड़ी सफलताओं का कारण बन सकती है। यह हमें यह भी बताता है कि जीवन में हमें छोटी-छोटी शुरुआतों का महत्व समझना चाहिए, क्योंकि वही भविष्य में बड़े लाभ का मार्ग प्रशस्त करती हैं।

Hindi Muhavare Quiz

उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना मुहावरा पर कहानी:

एक बार की बात है, एक छोटे से गाँव में अमन नाम का एक युवा लड़का रहता था। अमन का सपना था कि वह एक बड़ा व्यापारी बने, लेकिन उसके पास न तो पूंजी थी और न ही व्यापार की ज्यादा जानकारी। उसके पिता, जो खुद एक छोटे किसान थे, उसे बस इतना सिखा सके कि ईमानदारी और मेहनत से काम कैसे किया जाता है।

अमन ने अपने पिता की इसी छोटी सी सीख को आत्मसात कर लिया और एक छोटे से व्यापार की शुरुआत की। धीरे-धीरे उसका व्यापार फलने-फूलने लगा। उसने मेहनत, समर्पण और ईमानदारी के साथ अपने व्यापार को बढ़ाया।

कुछ वर्षों बाद, अमन एक सफल व्यापारी बन गया। उसके पिता जब उसके व्यापार को देखने आए, तो अमन ने उन्हें अपनी सफलता का श्रेय दिया। उसने कहा, “पिताजी, आपने मुझे उंगली पकड़कर चलना सिखाया, और आज मैं उसी उंगली को पकड़कर इस मुकाम तक पहुंचा हूँ।”

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि “उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना” का अर्थ है कि कभी-कभी छोटी सी शुरुआत या मदद से बड़ी सफलताएँ हासिल की जा सकती हैं। जीवन में हमें छोटी-छोटी शुरुआतों की कद्र करनी चाहिए, क्योंकि वहीं से बड़ी सफलताओं का आरंभ होता है।

शायरी:

उंगली पकड़कर चलना सिखाया जिसने,

वक्त के साथ वो ही राह दिखाई उसने।

मेरे ख्वाबों को अपनी उंगलियों से सजाया,

छोटी सी शुरुआत से, मंजिल का रास्ता दिखाया।

जिसने थामी मेरी उंगली अंधेरों में,

आज उसी की बदौलत, चमकता हूँ मैं सवेरों में।

उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ने का हुनर,

जिंदगी की राहों में, ये सिखा गया हर कदम पर।

छोटी सी मदद से बना मैं काबिल इतना,

जिन्होंने सिखाया, उनके लिए हूँ आभारी उतना।

 

उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना – Ungli pakadkar pahuncha pakdna Idiom:

Introduction: “उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना” is a common Hindi idiom, often used in situations where one seeks to gain more benefits from minimal assistance. It illustrates scenarios where initial guidance or help is provided to someone, and later, significant advantages or assistance are obtained from the same person.

Meaning: The idiom means seeking a little help from someone and then later expecting more assistance from them.

Usage: This idiom can be used in business, education, or personal relationships, especially when significant outcomes are expected from minor assistance.

Usage:

-> Munish taught some basic principles to his junior, and now the same junior is handling big projects. Indeed, Munish has practiced ‘उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना.’

Conclusion: The idiom “उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना” conveys that sometimes a small help or inspiration can lead to significant successes. It also teaches us the importance of appreciating small beginnings in life, as they pave the way for future benefits.

Story of ‌‌Ungli pakadkar pahuncha pakdna Idiom in English:

Once upon a time, in a small village, there lived a young boy named Aman. Aman dreamed of becoming a big businessman, but he neither had the capital nor much knowledge about business. His father, who was a small farmer, could only teach him that work should be done with honesty and hard work.

Aman embraced this small lesson from his father and started a small business. Gradually, his business began to flourish. He expanded his business with dedication, hard work, and integrity.

Years later, Aman became a successful businessman. When his father visited his business, Aman credited him for his success. He said, “Father, you taught me how to walk by holding my finger, and today, I have reached this position by holding that same finger.”

This story teaches us that “उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना” means that sometimes big successes can be achieved from small beginnings or help. In life, we should value small starts, as they are often the beginning of great successes.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या इस मुहावरे का उपयोग व्यापकता से हो सकता है?

हाँ, इस मुहावरे का उपयोग विभिन्न परिस्थितियों में, जैसे कि कार्य में तेजी से पहुँचने का व्यापकता से हो सकता है।

इस मुहावरे का उपयोग किस संदर्भ में किया जा सकता है?

यह मुहावरा किसी को शीघ्रता से या बिना किसी रुकावट के किसी स्थान पर पहुँचने का संकेत करता है।

“उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना” का मतलब क्या है?

उंगली पकड़कर पहुँचा पकड़ना” मुहावरा है जिसका अर्थ होता है किसी को पकड़कर उसे स्थान पर पहुँचना या पकड़ना।

क्या इस मुहावरे का उपयोग व्यक्तिगत जीवन में हो सकता है?

जी हाँ, इसे व्यक्तिगत जीवन में भी उपयोग किया जा सकता है, जैसे कि किसी कार्य में त्वरित पहुँचना।

क्या इस मुहावरे का अन्य सामान्य समर्थन है?

हाँ, इसका अन्य सामान्य समर्थन हो सकता है “तेजी से मानवाला होना” या “जल्दी से गंभीरता से कार्रवाई करना”।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।