Budhimaan

Home » Hindi Muhavare » मीन मेख निकालना अर्थ, प्रयोग(Meen mekh nikalna)

मीन मेख निकालना अर्थ, प्रयोग(Meen mekh nikalna)

परिचय: “मीन मेख निकालना” एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जिसका प्रयोग अक्सर बहुत छोटी-छोटी गलतियां या कमियां ढूंढने के संदर्भ में किया जाता है। यह मुहावरा किसी वस्तु या विचार में छोटी-छोटी त्रुटियाँ या दोष खोजने की प्रवृत्ति को दर्शाता है।

अर्थ: मुहावरे का अर्थ है किसी भी चीज़ में छोटी-छोटी कमियों को खोजना। इसका प्रयोग तब होता है जब कोई व्यक्ति अत्यंत सूक्ष्म या मामूली बातों पर भी आपत्ति जताता है।

प्रयोग:

-> किसी व्यक्ति की आलोचना करते समय।

-> जब कोई अत्यधिक संशय या नकारात्मक दृष्टिकोण रखता है।

उदाहरण:

> समीक्षा में आलोचक ने फिल्म की छोटी-छोटी बातों में मीन मेख निकाली।

-> गौरी हर समय दूसरों के काम में मीन मेख निकालती रहती है।

निष्कर्ष: ‘मीन मेख निकालना’ मुहावरा हमें बताता है कि किसी भी चीज़ में सिर्फ नकारात्मक पहलुओं को ढूंढने की प्रवृत्ति किसी भी सकारात्मक पहलू को देखने में बाधा डाल सकती है। यह हमें सिखाता है कि निष्पक्ष और संतुलित दृष्टिकोण अपनाना जरूरी है।

Hindi Muhavare Quiz

मीन मेख निकालना मुहावरा पर कहानी:

अनुज एक प्रतिभाशाली लेकिन अत्यंत आलोचनात्मक व्यक्ति था। वह हमेशा दूसरों के काम में छोटी-छोटी गलतियाँ खोजता रहता था।

अनुज के ऑफिस में एक नया प्रोजेक्ट आया, जिस पर उसे और उसकी टीम को काम करना था। अनुज की टीम ने कड़ी मेहनत से इस प्रोजेक्ट पर काम किया।

प्रोजेक्ट पूरा होने पर, जब टीम ने अपना काम प्रस्तुत किया, तो अनुज ने हर छोटी से छोटी बात में कमी निकालनी शुरू कर दी। वह टीम की मेहनत की सराहना करने की बजाय, हर छोटी गलती पर उंगली उठाने लगा।

अनुज के इस व्यवहार से उसकी टीम का मनोबल गिर गया। उन्हें लगा कि उनकी मेहनत की कोई कद्र नहीं है। धीरे-धीरे, टीम के सदस्यों ने अनुज के साथ काम करने में रुचि खो दी।

इस कहानी से ‘मीन मेख निकालना’ मुहावरे का अर्थ स्पष्ट होता है। अनुज का व्यवहार यह दर्शाता है कि कैसे सिर्फ नकारात्मक पहलुओं को देखने की प्रवृत्ति किसी भी परिस्थिति या व्यक्ति के सकारात्मक पक्ष को नजरअंदाज कर देती है। यह कहानी हमें निष्पक्ष और संतुलित आलोचना की महत्वता को समझाती है।

शायरी:

हर बात में मीन मेख ढूंढा करते हैं,

जिंदगी के सुखों को यूं खो दिया करते हैं।

वो नज़रें जो हमेशा खामियां तलाशती हैं,

खुशियों के मायने भी ना पहचान पाती हैं।

कब तक रंगों में भी सिर्फ धुंधलापन देखेंगे,

कब तक इस तरह जीने की आदत रखेंगे।

ज़रा देखो तो सही, जिंदगी कितनी हसीन है,

मीन मेख निकालने में क्या रखा है, जीने की बात करें।

कभी तो दिल से देखो, कभी तो खुल के हँसो,

जिंदगी बहुत छोटी है, हर पल को खुशी से सजाओ।

मीन मेख निकालना छोड़, खुशियों को गले लगाओ,

यही जिंदगी है, इसे खुल के जी के दिखाओ।

 

मीन मेख निकालना शायरी

आशा है कि आपको इस मुहावरे की समझ आ गई होगी और आप इसका सही प्रयोग कर पाएंगे।

Hindi to English Translation of मीन मेख निकालना – Meen mekh nikalna Idiom:

Introduction: “मीन मेख निकालना” is a popular Hindi idiom often used in the context of finding very small mistakes or flaws. This phrase illustrates the tendency to find minor errors or faults in an object or idea.

Meaning: The idiom means to find small faults in anything. It is used when a person objects to even very minute or trivial matters.

Usage:

-> When criticizing someone.

-> When someone holds an excessively doubtful or negative viewpoint.

Usage:

-> In the review, the critic found faults in even the smallest details of the movie.

-> Gauri always finds faults in the work of others.

Conclusion: The idiom ‘मीन मेख निकालना’ tells us that the tendency to only look for negative aspects in anything can hinder the appreciation of any positive aspects. It teaches us the importance of adopting a fair and balanced perspective.

Story of ‌‌Meen mekh nikalna Idiom in English:

Anuj was a talented but extremely critical person. He was always looking for small mistakes in others’ work.

A new project arrived at Anuj’s office, which he and his team were assigned to work on. Anuj’s team worked hard on the project.

When the project was completed, and the team presented their work, Anuj started finding faults in every little detail. Instead of appreciating the team’s hard work, he pointed out every minor mistake.

Anuj’s behavior demoralized his team. They felt that their hard work was not valued. Gradually, the team members lost interest in working with Anuj.

This story clearly illustrates the meaning of the idiom ‘मीन मेख निकालना’. Anuj’s behavior shows how the tendency to only look at negative aspects can overlook the positive side of any situation or person. The story teaches us the importance of fair and balanced criticism.

 

I hope this gives you a clear understanding of the proverb and how to use it correctly

FAQs:

क्या ‘मीन मेख निकालना’ का उपयोग व्यावसायिक संदर्भों में होता है?

हां, कई बार यह मुहावरा व्यावसायिक स्थितियों में भी उपयोग किया जा सकता है, जब किसी निजी जानकारी को सार्वजनिक किया जाता है।

इस मुहावरे का उपयोग कहाँ होता है?

यह मुहावरा अधिकतर वार्ता या साहित्य में किसी की छुपी हुई बातें प्रकट करने के लिए प्रयुक्त होता है।

मुहावरा ‘मीन मेख निकालना’ का अर्थ क्या है?

मीन मेख निकालना’ का अर्थ होता है किसी की बातों से रहस्य या गुप्त तथ्य उजागर करना।

इस मुहावरे का संबंध किस विषय से होता है?

यह मुहावरा ज्ञान, रहस्य, या छुपी हुई बातों से संबंधित होता है।

‘मीन मेख निकालना’ का कोई विरोधाभासी उपयोग हो सकता है क्या?

हां, इस मुहावरे का असंवादपूर्ण रूप से उपयोग किया जा सकता है जब किसी का गोपनीयता तोड़ा जाता है।

हिंदी मुहावरों की पूरी लिस्ट एक साथ देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टिप्पणी करे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Budhimaan Team

Budhimaan Team

हर एक लेख बुधिमान की अनुभवी और समर्पित टीम द्वारा सोख समझकर और विस्तार से लिखा और समीक्षित किया जाता है। हमारी टीम में शिक्षा के क्षेत्र में विशेषज्ञ और अनुभवी शिक्षक शामिल हैं, जिन्होंने विद्यार्थियों को शिक्षा देने में वर्षों का समय बिताया है। हम सुनिश्चित करते हैं कि आपको हमेशा सटीक, विश्वसनीय और उपयोगी जानकारी मिले।

संबंधित पोस्ट

"खाइए मनभाता पहनिए जगभाता मुहावरे का चित्रण", "गाँव की शादी में समाज के अनुरूप वेशभूषा में युवक", "सादगीपसंद खाने और समाजिक वस्त्रों में संतुलन", "Budhimaan.com पर जीवन शैली और संस्कृति"
Hindi Muhavare

खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता अर्थ, प्रयोग (Khaiye manbhata, Pahniye jagbhata)

परिचय: “खाइए मनभाता, पहनिए जगभाता” यह एक प्रचलित हिंदी मुहावरा है जो जीवन में एक संतुलित दृष्टिकोण अपनाने की सलाह देता है। यह मुहावरा हमें

Read More »
"करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत मुहावरे का चित्रण", "सकारात्मक कार्यों में ऊर्जा निवेश करते व्यक्ति की छवि", "Budhimaan.com पर सकारात्मक योगदान की प्रेरणा", "विवादों की बजाय कर्म पर ध्यान केंद्रित करता किसान"
Hindi Muhavare

करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत अर्थ, प्रयोग (Karni na kartoot, Ladne ko majboot)

परिचय: “करनी न करतूत, लड़ने को मजबूत” एक हिंदी मुहावरा है जो उन व्यक्तियों के व्यवहार को उजागर करता है जो वास्तव में तो कुछ

Read More »
"ईंट की लेनी पत्थर की देनी कहानी चित्र", "मुहावरे का विवेचन आलेख छवि", "छोटी गलती बड़ा प्रतिशोध इलस्ट्रेशन", "Budhimaan.com पर जीवन की सीख ग्राफिक्स"
Hindi Muhavare

ईंट की लेनी पत्थर की देनी अर्थ, प्रयोग (Eent ki leni patthar ki deni)

परिचय: “ईंट की लेनी पत्थर की देनी” यह मुहावरा हिन्दी भाषा में बहुत प्रचलित है, जिसका प्रयोग अक्सर किसी के द्वारा की गई छोटी कार्रवाई

Read More »
"उत्तम खेती मध्यम बान इमेज", "स्वावलंबन का महत्व चित्र", "भारतीय मुहावरे विश्लेषण ग्राफिक", "Budhimaan.com पर आत्मनिर्भरता लेख इमेज"
Hindi Muhavare

उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान अर्थ, प्रयोग (Uttam kheti madhaym baan, Nikrasht chakri bheekh nidan)

परिचय: “उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान” एक प्राचीन हिंदी मुहावरा है जो विभिन्न पेशों की सामाजिक और आर्थिक स्थिति की तुलना करता

Read More »

आजमाएं अपना ज्ञान!​

बुद्धिमान की इंटरैक्टिव क्विज़ श्रृंखला, शैक्षिक विशेषज्ञों के सहयोग से बनाई गई, आपको भारत के इतिहास और संस्कृति के महत्वपूर्ण पहलुओं पर अपने ज्ञान को जांचने का अवसर देती है। पता लगाएं कि आप भारत की विविधता और समृद्धि को कितना समझते हैं।